एडवांस्ड सर्च

अलविदा 2013: बिहार की खबरें, जिसने सियासत में पैदा किया उबाल

बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के प्रमुख घटक जेडीयू और बीजेपी का 17 वर्ष पुराना रिश्ता एक झटके में टूट जाना, गुजरते साल में राज्य की सियासत की सबसे बड़ी घटना रही. इस रिश्ते के टूट जाने के बाद एनडीए के घटकों की संख्या मात्र दो रह गई.

Advertisement
भाषा [Edited by: अमरेश सौरभ]पटना, 23 December 2013
अलविदा 2013: बिहार की खबरें, जिसने सियासत में पैदा किया उबाल BIHAR

बिहार में राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन के प्रमुख घटक जेडीयू और बीजेपी का 17 वर्ष पुराना रिश्ता एक झटके में टूट जाना, गुजरते साल में राज्य की सियासत की सबसे बड़ी घटना रही. इस रिश्ते के टूट जाने के बाद एनडीए के घटकों की संख्या मात्र दो रह गई.

जेडीयू ने तोड़ा बीजेपी से नाता
बीजेपी द्वारा नरेंद्र मोदी को वर्ष 2014 के लोकसभा चुनाव के लिए प्रचार समिति का अध्यक्ष बनाये जाने के बाद जेडीयू ने बीजेपी से नाता तोड़ा और उसे फिर से विपक्ष की भूमिका में आने के लिए मजबूर कर दिया. मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बीजेपी कोटे के 11 मंत्रियों को अपने मंत्रिमंडल से बाहर का रास्ता दिखाते हुए 19 जून को कांग्रेस और सीपीआई के साथ चार निर्दलीय विधायकों के समर्थन से विश्वास मत हासिल कर लिया. बीजेपी ने जेडीयू के इस निर्णय को जनादेश के साथ विश्वासघात बताते हुए नीतीश सरकार के खिलाफ मुहिम छेड दी. नीतीश के धुर विरोधी आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद और एलजेपी सुप्रीमो रामविलास पासवान भी बीते साल और अधिक मुखर हुए.

नीतीश द्वारा नरेंद्र मोदी विरोध को देखते हुए पूर्व उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी सहित पार्टी के अन्य नेता 16 जून के बाद नीतीश की आलोचना करने लगे जो नरेंद्र मोदी के खिलाफ नीतीश की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देने से कन्नी काटते नजर आते थे. जेडीयू से नाता टूटने के बाद नीतीश के खिलाफ मुखर हुई बीजेपी ने पटना में 27 अक्‍टूबर को आयोजित होने वाली अपनी हुंकार रैली में नरेंद्र मोदी को बुलाए जाने की घोषणा कर दी तथा 6 जुलाई को टेलीकॉन्फ्रेंसिंग के जरिए उन्हें बिहार के बीजेपी कार्यकर्ताओं से रूबरू भी करवाया.

बोधगया और पटना में सीरियल ब्‍लास्‍ट
राज्य में बीते वर्ष बोधगया और पटना में हुए सिलसिलेवार विस्फोटों ने पूरे देश को दहला दिया. 7 जुलाई को बोधगया में सिलसिलेवार धमाके हुए जिसमें दो बौद्ध भिक्षु घायल हो गए थे. बीजेपी सहित पूरे विपक्ष को नीतीश सरकार की कानून-व्यवस्था की कथित बिगड़ती स्थिति को लेकर आलोचना करने का मौका मिल गया.

मिड-डे मील ने बरपाया कहर
वर्ष 2013 की 16 जुलाई को सारण जिले के मशरख प्रखंड के धरमसाती गंडामन गांव के एक प्राथमिक स्कूल में जहरीले मध्याह्न भोजन खाने से 23 बच्चों की मौत और स्कूल की रसोइया सहित 24 अन्य बच्चों के बीमार पड़ने पर बीजेपी सहित विपक्ष ने सरकार पर लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए उसकी कार्यशाली पर सवालिया निशान लगाने में कोई चूक नहीं की.

पीने के पानी पर भी बवाल
गुजरे साल में नीतीश सरकार को बिहार में स्कूली चापाकलों में पानी को दूषित किए जाने की घटनाओं का भी सामना करना पड़ा. बीजेपी ने नीतीश पर वर्ष 2010 के विधानसभा चुनाव में मिले जनादेश के साथ विश्वासघात करने का आरोप लगाते हुए उनके विरोध में और मोदी के पक्ष में नीतीश के पैतृक जिला नालंदा से अपना अभियान शुरू किया.

शहीदों के अपमान पर किरकिरी
जम्मू-कश्मीर के पुंछ इलाके में गत 7 अगस्त को बिहार के 4 सैनिकों के शहीद होने पर बिहार के मंत्री भीम सिंह के आपत्तिजनक बयान के कारण नीतीश सरकार को विपक्ष ने आड़े हाथों लिया.

मोदी को सीएम उम्‍मीदवार बनाने की मांग
बीजेपी की बिहार इकाई ने 17 अगस्त को एक प्रस्ताव पारित कर पार्टी के संसदीय बोर्ड से मोदी को अगले लोकसभा चुनाव में प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किए जाने की मांग की. वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी के इस प्रस्ताव का समर्थन बिहार विधानसभा में प्रतिपक्ष के नेता नंदकिशोर यादव ने किया.

ट्रेन एक्‍सीडेंट पर छाया मातम
बीते साल 19 अगस्त को खगडि़या जिले के धमाडा घाट रेलवे स्टेशन पर रेल हादसे में 28 लोगों की मौत तथा नौ व्यक्तियों के घायल हो जाने पर बीजेपी  सहित अन्य विपक्षी दलों ने इसे प्रशासनिक विफलता का नतीजा बताते हुए नीतीश सरकार को इसके लिए जिम्मेवार ठहराया.

बिहार पर गहराया आतंकवाद का साया
पिछले 29 अगस्त को प्रतिबंधित आंतकी संगठन इंडियन मुजाहिदीन के सह संस्थापक यासीन भटकल के साथ एक अन्य आतंकी को पूर्वी चंपारण जिले के रक्सौल से गिरफ्तार किया गया, लेकिन बीजेपी ने अल्पसंख्यकों की नाराजगी से बचने के लिए भटकल को गिरफ्तार न करने का आरोप नीतीश सरकार पर लगाया.

चारा घोटाले में लालू को सजा
पिछले 3 अक्‍टूबर को रांची स्थित सीबीआई की एक विशेष अदालत ने चारा घोटाला से जुडे एक मामले में आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद को सजा सुनाई तो उनकी पत्नी राबडी देवी पार्टी संचालित करती रहीं. हालांकि सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिलने के बाद 16 दिसंबर को लालू जेल से रिहा हो गये और आते ही उन्होने नीतीश सरकार तथा भाजपा पर निशाना साधा.

हुंकार रैली में मचा कोहराम
पटना के गांधी मैदान में 27 अक्‍टूबर को आयोजित बीजेपी की हुंकार रैली को नरेंद्र मोदी के संबोधित करने से पूर्व हुए सिलसिलेवार धमाकों ने बीजेपी को नीतीश सरकार की आलोचना का एक और मौका मिला. इस रैली में अपने संबोधन में मोदी ने इस धमाके की कोई चर्चा तो नहीं की, पर बिहार की ऐतिहासिक व भौगोलिक पृष्ठभूमि को दर्शाते हुए बीजेपी से नाता तोडने वाले नीतीश को अवसरवादी और उनपर कांग्रेस संग आंख-मिचौनी करने का आरोप लगाया.

जेडीयू का चिंतन शिविर
गत 29 अक्‍टूबर को नालंदा जिला के राजगीर में आयोजित जेडीयू के चिंतन शिविर को संबोधित करते हुए नीतीश कुमार ने मोदी की हिटलर से तुलना की और बिहार के इतिहास के प्रति उनका अज्ञान भी बताया. नीतीश ने चुटकी लेकर कहा था कि लालकिला पर राष्ट्रध्वज फहराने का सपना, सपना ही रह जाएगा.

चलता रहा सियासी दांव-पेच
राज्य में हुंकार रैली के दौरान धमाके होने के मामले में नीतीश पर उनके प्रति असंवेदनशील होने और राजगीर में 'छप्पनभोग' में तल्लीन होने का आरोप लगाए जाने पर 11 नवंबर को नीतीश ने पलटवार करते हुए कहा था कि मोदी झूठ की खेती करने में माहिर हैं. नीतीश ने 25 नवंबर को अपनी सरकार का आठवां रिपोर्टकार्ड जारी किया, तो बीजेपी ने कहा कि वह भी सत्ता में साढे़ सात साल रही थी और ऐसे में उपलब्धियों का श्रेय उसे भी दिया जाना चाहिए था.

विशेष राज्‍य के दर्जे के लिए पहल
बिहार को विशेष राज्य का दर्जा दिलाने के लिए अभियान छेडने वाले नीतीश को रघुराम राजन कमेटी ने निराश किया और बिहार को कम विकसित राज्यों की श्रेणी में रखा तथा विशेष दर्जा दिए जाने को लेकर कोई सिफारिश नहीं की. राज्य को विशेष दर्जा नहीं मिलने पर नीतीश ने संकल्प रैली के आयोजन का निर्णय लिया, ताकि बिहार के गौरव की रक्षा हो सके.

नक्‍सली हमले का खौफ बढ़ा
केन्द्रीय गृहमंत्री सुशील कुमार शिंदे द्वारा मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को पत्र लिखकर बिहार में माओवादियों गतिविधियों में बढो़तरी होने तथा इससे निपटने में राज्य और केन्द्रीय सुरक्षा बलों के बीच समन्वय नहीं होने की बात कहे जाने पर विपक्षी दलों ने नीतीश सरकार के खिलाफ मोर्चे खोले. बीजेपी ने नीतीश पर अगले लोकसभा चुनाव में राजनीतिक लाभ हासिल करने के लिए उनकी सरकार द्वारा माओवादियों के खिलाफ नरमी बरते जाने का आरोप लगाया. वहीं बिहार प्रदेश कांग्रेस ने नक्सली हिंसा में पिछले साल की तुलना में 41 प्रतिशत वृद्धि का दावा किया. इस साल नक्सली हिंसा में 16 पुलिसकर्मियों सहित 60 लोग मारे गये, जबकि वर्ष 2012 में 25 लोगों की मौत हुई थी.

Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay