एडवांस्ड सर्च

कोई दोबारा नहीं देखना चाहता 26/11 हमला और बाबरी कांडः रहमान मलिक

संभावित विवाद को जन्म देते हुए पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने शुक्रवार रात बाबरी मस्जिद कांड का हवाला देते हुए उस घटना की मुंबई में हुए आतकंवादी हमले से तुलना कर दी.

Advertisement
aajtak.in
आजतक वेब ब्यूरो/भाषानई दिल्ली, 15 December 2012
कोई दोबारा नहीं देखना चाहता 26/11 हमला और बाबरी कांडः रहमान मलिक रहमान मलिक

संभावित विवाद को जन्म देते हुए पाकिस्तान के गृह मंत्री रहमान मलिक ने शुक्रवार रात बाबरी मस्जिद कांड का हवाला देते हुए उस घटना की मुंबई में हुए आतकंवादी हमले से तुलना कर दी.

मलिक ने कहा कि कोई भी बंबई विस्फोट, समझौता एक्सप्रेस विस्फोट और बाबरी मस्जिद कांड जैसी घटनाओं की पुनरावृत्ति नहीं देखना चाहता.

मलिक ने कहा, ‘हम कोई 9/11 नहीं चाहते. हम कोई बंबई विस्फोट नहीं चाहते, हम कोई समझौता एक्सप्रेस नहीं चाहते, हम कोई बाबरी मस्जिद कांड नहीं चाहते और हम साथ मिलकर ना सिर्फ भारत और पाकिस्तान में बल्कि पूरे क्षेत्र में शांति के लिए काम करेंगे.’

वहीं पाकिस्तानी सेना द्वारा कारगिल युद्ध के शहीद कैप्टन सौरभ कालिया को यातना दिए जाने को लेकर चर्चा के बीच मलिक ने कहा कि उन्हें नहीं मालूम की कैप्टन कालिया की मृत्यु पाकिस्तानी गोली से हुई या मौसम से.

उच्चतम न्यायालय ने इससे पहले कारगिल युद्ध के शहीद कैप्टन कालिया के पिता एन के कालिया की याचिका पर केंद्र से जवाब मांगा. इस याचिका में उन्होंने न्यायालय से सरकार को यह निर्देश देने की मांग की है कि वह उनके बेटे को यातना दिए जाने के मुद्दे को इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस में उठाए.

कैप्टन सौरभ कालिया का क्षत-विक्षत शव 1999 के कारगिल युद्ध के दौरान भारतीय सेना को सौंपा गया था. मलिक ने कहा, ‘मैंने मामले की पड़ताल नहीं की है. यह अभी मेरे संज्ञान में आया है. मैं उस लड़के, उस सैनिक के पिता से मिलकर बेहद खुश होउंगा और उनसे हाथ मिलाउंगा तथा यह जानना चाहूंगा कि वाकई क्या हुआ था.’

मलिक ने कहा, ‘खासतौर पर जब सीमा पर लड़ाई चल रही हो तो हम वाकई नहीं जानते कि उनकी मृत्यु पाकिस्तान की ओर से दागी गई गोली के लगने से हुई या मौसम के कारण हुई.’

चौथी जाट रेजीमेंट के कैप्टन कालिया ने उस पहले दल का नेतृत्व किया था जिसने पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा करगिल सेक्टर में घुसपैठ की जानकारी दी थी. टोह लेने के दौरान 15 मई 1999 को उन्हें तथा पांच अन्य को पकड़ लिया गया था.

20 दिनों के बाद कैप्टन कालिया का बुरी तरह क्षत-विक्षत शव भारत को सौंप दिया गया था. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में बुरी तरह यातना दिए जाने का खुलासा हुआ था. मलिक ने कहा, ‘जब भी किसी मानव की मृत्यु होती है तो कोई भी व्यक्ति उसके प्रति दुख प्रकट करने से नहीं हिचकिचाएगा.’

उन्होंने कहा, ‘जब युद्ध चल रहा होता है तो गोलियां ये नहीं देखतीं कि वहां कौन है. आप वहां की (कारगिल) स्थिति देखते हैं और इसी कारण आप पाकिस्तान के राष्ट्रपति और आप अपने प्रधानमंत्री की दृष्टि को देखते हैं. हम शांति चाहते हैं. इसलिए, हम नहीं चाहते कि ये चीजें दोहराई जाएं. इसलिए मैं यहां हूं. इसी वजह से हम काम करेंगे.’

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay