एडवांस्ड सर्च

माल्या के खुलासे पर बोले राहुल गांधी- तुरंत जांच कराएं PM, इस्तीफा दें वित्त मंत्री

कांग्रेस ने कहा कि इस मामले का पूरा खुलासा होना चाहिए. व्यापक स्पष्टीकरण आना चाहिए और व्यापक जांच होनी चाहिए. सिंघवी ने कहा कि यह स्पष्ट होना चाहिए कि क्या यह मुलाकात चलते फिरते हुई है या फिर व्यवस्थित ढंग से हुई है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: अनुग्रह मिश्र]नई दिल्ली, 13 September 2018
माल्या के खुलासे पर बोले राहुल गांधी- तुरंत जांच कराएं PM, इस्तीफा दें वित्त मंत्री कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी (फाइल फोटो)

देश छोड़ने से पहले वित्त मंत्री अरुण जेटली से मुलाकात वाले भगोड़े विजय माल्या के बयान पर सियासत तेज हो गई है. माल्या के इस दावे को लेकर कांग्रेस ने बुधवार को सरकार पर हमला बोला और कहा कि इस पूरे मामले की जांच होनी चाहिए.

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने माल्या के बयान के बाद वित्त मंत्री अरुण जेटली का इस्तीफा मांगा है. उन्होंने ट्वीट कर कहा कि माल्या की ओर से लगाए गए आरोप बेहद गंभीर हैं और पीएम को तत्काल इस मामले की निष्पक्ष जांच करानी चाहिए. राहुल ने कहा कि जांच पूरी होने तक अरुण जेटली को वित्त मंत्री के पद से इस्तीफा देना चाहिए.

इससे पहले पार्टी प्रवक्ता अभिषेक मनु सिंघवी ने कहा कि माल्या के बारे में सब कुछ पता होने के बावजूद उसे देश के बाहर क्यों जाने दिया गया?कांग्रेस प्रवक्ता सिंघवी ने कहा, ‘कांग्रेस बार-बार कहती आ रही है माल्या, नीरव मोदी और कई अन्य लोगों को जानबूझकर बाहर जाने दिया गया. माल्या ने जो कहा है उस पर वित्त मंत्री की तरफ से और स्पष्ट और विस्तृत जवाब आना चाहिए.’

सिंघवी ने कहा कि ‘माल्या ने दो चीजें कही हैं, पहली कि उसने वित्त मंत्री से व्यवस्थित ढंग से मुलाकात की थी और दूसरी यह कि उसने मामले को सुलझाने की पेशकश की थी.

कांग्रेस ने कहा कि इस मामले का पूरा खुलासा होना चाहिए. व्यापक स्पष्टीकरण आना चाहिए और व्यापक जांच होनी चाहिए. उन्होंने कहा कि यह स्पष्ट होना चाहिए कि क्या यह मुलाकात चलते-फिरते हुई है या फिर व्यवस्थित ढंग से हुई है. माल्या की बात से लगता है कि व्यवस्थित ढंग से मुलाकात हुई थी.

कांग्रेस नेता ने सवाल किया कि जब बैंकों को मालूम था, वित्त मंत्रालय को मालूम था, पूरी सरकार को मालूम था और माननीय प्रधानमंत्री को मालूम था कि माल्या पर इतना बड़ा कर्ज बकाया है. ऐसे में उसे देश से बाहर क्यों जाने दिया गया. यह बुनियादी सवाल है जिसका उत्तर पूरा देश जानना चाहता है.

खुलासे के बाद कांग्रेस के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने ट्वीट कर कहा, ‘भगोड़ों का साथ, लुटेरों का विकास' भाजपा का एकमात्र लक्ष्य है. उन्होंने कहा, ‘मोदी जी, आपने ललित मोदी, नीरव मोदी ‘हमारे मेहुल भाई’, अमित भटनागर जैसों को देश के करोड़ों रुपये लुटवा, विदेश भगा दिया. विजय माल्या, तो श्री अरुण जेटली से मिलकर, विदाई लेकर, देश का पैसा लेकर भाग गया है? चौकीदार नहीं, भागीदार है!

दरअसल, माल्या ने बुधवार को कहा कि वह भारत से रवाना होने से पहले वित्त मंत्री से मिला था. लंदन में वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की अदालत में पेश होने के लिए पहुंचे माल्या ने कहा कि उसने मंत्री से मुलाकात की थी और बैंकों के साथ मामले का निपटारा करने की पेशकश की थी.

वित्त मंत्री जेटली ने माल्या के बयान को झूठा करार देते हुए कहा कि उन्होंने 2014 के बाद उसे कभी मिलने का समय नहीं दिया था.जेटली ने कहा कि माल्या राज्यसभा सदस्य के तौर पर हासिल विशेषाधिकार का दुरुपयोग करते हुए संसद भवन के गलियारे में उनके पास आ गया था, हालांकि उसकी पेशकश को वित्त मंत्री की ओर से ठुकरा दिया गया.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay