एडवांस्ड सर्च

गर्मी बढ़ी तो पहाड़ की ओर दौड़े सैलानी, आफत में स्थानीय लोगों की जिंदगी

उत्तराखंड, हिमाचल और कश्मीर की बात की जाए तो दिल्ली और इसके आसपास के इलाकों से उत्तराखंड जाना ज्यादा आसान है. उत्तराखंड जाने के लिए आवागमन के साधन बेहद सुलभ हैं और ज्यादा दूरी भी नहीं है. इस कारण लोग उत्तराखंड की ओर रुख करते हैं, लेकिन सैलानियों की बाढ़ के कारण वहां के कई शहरों के लोगों को खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

Advertisement
aajtak.in
सुरेंद्र कुमार वर्मा नई दिल्ली, 10 June 2019
गर्मी बढ़ी तो पहाड़ की ओर दौड़े सैलानी, आफत में स्थानीय लोगों की जिंदगी उत्तराखंड में सैलानियों की बाढ़ ने हर ओर लगाया जाम (फोटो-दिलीप सिंह)

उत्तर भारत में गरमी बढ़ते ही लोग चिलचिलाती गर्मी और उमस से निजात पाने के लिए पहाड़ की ओर रुख करना शुरू कर देते हैं, बढ़ती आबादी और पर्यटकों की संख्या बढ़ने के कारण पहाड़ों पर खाने-पीने आदि मूलभूत सुविधाओं को लेकर दबाव बढ़ जाता है. इसका खामियाजा स्थानीय लोगों को ही भुगतना पड़ता है.

इस बार भी गर्मी अपने चरम पर है और उत्तर भारत समेत देश के कई हिस्सों में प्रचंड गर्मी पड़ रही है. कई जगहों पर तापमान 45 डिग्री सेल्सियस से ऊपर बना हुआ है. ऐसे में लोगों का पहाड़ पर जाने का सिलसिला जारी है. उत्तराखंड, हिमाचल और कश्मीर की बात की जाए तो उत्तराखंड जाना ज्यादा आसान है. उत्तराखंड जाने के लिए आवागमन के साधन बेहद सुलभ हैं और ज्यादा दूरी भी नहीं है. इस कारण लोग उत्तराखंड की ओर रुख करते हैं, लेकिन सैलानियों की बाढ़ के कारण वहां के कई शहरों के लोगों को खासा दिक्कतों का सामना करना पड़ता है.

uk-jam-11_060919090451.jpg

uk-jam-14_060919090532.jpgउत्तराखंड में पिछले कई दिनों से जाम की स्थिति बनी हुई है (फोटो-दिलीप सिंह)

उत्तराखंड में सैलानियों की बाढ़

उत्तराखंड में सैलानियों की संख्या बढ़ने से पहाड़ के कई रास्तों पर लगातार जाम की स्थिति बन जाती है और इन शहरों में सैकड़ों गाड़ियां घंटों जाम में फंसने को मजबूर हैं. गढ़वाल में बदरीनाथ के साथ हेमकुंड यात्रा के दौरान कई बार जाम लग चुका है तो उसी तरह गढ़वाल से लेकर कुमाऊं तक के पहाड़ी रास्ते में 10-10 किलोमीटर तक का लंबा जाम लग चुका है.

नैनीताल की बात करें तो इस वीकेंड पर वहां पार्किंग फुल हो जाने से शहर से 8 किलोमीटर पहले ही पर्यटकों की गाड़ियों को अंदर आने पर रोक लगा दी गई. हरिद्वार में भी जाम को लेकर बुरा हाल है. जाम की हालत यह है कि 5 किलोमीटर के सफर में डेढ़ घंटे से 2 घंटे का समय लग रहा है. जाम खत्म कराने के लिए यातायात पुलिस के पसीने छूट जा रहे हैं.

जाम के कारण स्थानीय लोगों को बुनियादी चीजों के अलावा आवागमन में भी तकलीफों का सामना करना पड़ता है. साथ ही आम जनजीवन भी प्रभावित होता है. खाने-पीने की चीजों की मांग बेतहाशा बढ़ जाती है. जाम के कारण गाड़ियों से निकलने वाले धुएं से यहां के पर्यावरण पर भी असर पड़ता है.

uk-jam-14_060919090607.jpgउत्तराखंड में पेट्रोल पंप पर भारी भीड़ दिख रही (फोटो-दिलीप सिंह)

2018 में पौने 4 करोड़ पर्यटक

पहाड़ी राज्य उत्तराखंड पर्यटकों के लिए हमेशा से पसंदीदा जगह रहा है. उत्तराखंड टूरिज्म डॉट जीओवी डॉट इन की 2018 की रिपोर्ट की बात करें तो पिछले साल कुल 3 करोड़ 68 लाख से ज्यादा पर्यटक (3,68,52,204) उत्तराखंड घूमने आए, जिसमें 3,66,97,678 भारतीय पर्यटक रहे जबकि 1,54,526 विदेशी पर्यटकों ने यहां की खूबसूरती का नजारा लिया. वहीं 2017 में 3,47,23,199 पर्यटक आए जिसमें 3,45,81,097 देशी सैलानी थे.

2018 में उत्तराखंड में भारतीय पर्यटकों के लिहाज हरिद्वार बेहद पसंदीदा पर्यटन स्थल रहा जहां 2 करोड़ से ज्यादा पर्यटक (2,15,55,000) घूमने आए. हरिद्वार के बाद मसूरी भारतीय पर्यटकों के लिए दूसरा सबसे पसंदीदा स्थल रहा और यहां पर 28,70,475 भारतीय पर्यटक घूमने आए.

इसके अलावा 22,583 विदेशी पर्यटकों ने भी हरिद्वार की खूबसूरती देखी. विदेशी पर्यटकों के लिहाज से टिहरी सर्वाधिक पसंदीदा स्थल रहा जहां 2018 में 46,289 पर्यटक घूमने आए.

हिमाचल में घटे पर्यटक

उत्तराखंड की तरह हिमाचल प्रदेश घूमने के लिए आने वाले सैलानियों की बात करें तो हिमाचल टूरिज्म डॉट जीओवी डॉट की रिपोर्ट के अनुसार राज्य में 2018 में कुल 1,64,50,503 पर्यटक आए जिसमें 1,60,93,935 देशी और 3,56,568 विदेशी शामिल थे. हालांकि 2017 की तुलना में इस बार 16.08 फीसदी पर्यटकों (2017 में 1,96,01,533 पर्यटक) की कमी आई.

विदेशी सैलानियों की संख्या में कई आई और 2017 में 4,70,992 की तुलना में 2018 में 3,56,568 विदेशी पर्यटकों ने ही हिमाचल की ओर रुख किया. देशी पर्यटकों की संख्या में भी 15.8 फीसदी की कमी आई. हिमाचल में कुल्लू और शिमला सबसे पसंदीदा स्थल रहा.

पर्यटकों के लिए होम स्टे स्कीम

उत्तराखंड ने पर्यटकों की सुविधा के लिहाज से होम स्टे स्कीम चला रखी है. जिसके तहत सरकार कई घरों को इसकी अनुमति देती है कि वह पर्यटकों को अपने घर में ठहरा सके और उनकी मेहमाननवाजी कर सके. इस स्कीम में नगर निकायों से जुड़े क्षेत्र शामिल नहीं किए गए हैं, सरकार की योजना ग्रामीण क्षेत्रों में पर्यटन को बढ़ावा देना है.

इस स्कीम के तहत रजिस्ट्रेशन कराने के बाद मेजबान मेहमानों के लिए अपने घर में कम से कम 1 कमरा और ज्यादा से ज्यादा 6 कमरे इस्तेमाल के लिए दे सकता है. खाने की व्यवस्था भी खुद मेजबान को ही करानी होगी. इसके लिए सरकार मकान मालिक को आर्थिक मदद भी करती है. 2019 में मेहमाननवाजी के लिए ग्रामीण अंचलों में अब तक 755 और शहरी क्षेत्रों में 267 घरों ने रजिस्ट्रेशन करा रखा है.

इसी तरह हिमाचल प्रदेश में भी होम स्टे योजना है और राज्यभर में 1,658 घरों ने रजिस्ट्रेशन कराए हैं.

कश्मीर में पर्यटकों की संख्या में गिरावट

उत्तर भारत के एक और चर्चित पर्यटन स्थल जम्मू-कश्मीर में पर्यटकों की संख्या में गिरावट आई है. लगातार आतंकवाद और हिंसा से त्रस्त कश्मीर में 2018 में पर्यटकों की संख्या में 23 फीसदी की भारी दर्ज की गई है. 2018 में महज 8.5 लाख पर्यटक (घरेलू और विदेशी) ही घाटी में घूमने आए. यह गिरावट घाटी में पिछले 7 सालों की सबसे बड़ी गिरावट है और 2017 की तुलना में 27 फीसदी.

2017 में कश्मीर में आए सैलानियों की बात करें तो तब यहां पर 11 लाख पर्यटक आए थे जिसकी तुलना में 2018 में 2.5 लाख पर्यटक कम आए. यह तब है कि पर्यटन विभाग ने पर्यटकों को लुभाने के लिए देश-विदेश में कई अभियान चलाया था.

शिमला में जलसंकट

दूसरी ओर, गरमी के सीजन में पर्यटकों के पहाड़ी और हिल स्टेशनों की ओर रूख करने से वहां पर हर मूलभूत चीजों की मांग बेतहाशा बढ़ जाती है. पिछले साल इसी समय में हिमाचल प्रदेश की राजधानी शिमला में भारी मांग के कारण पानी की समस्या से स्थानीय लोगों को जूझना पड़ा था. तब स्थानीय लोगों ने पर्यटकों से अनुरोध किया था कि वे घूमने शिमला न आएं. बढ़ती मांग, लगातार बढ़ते सैलानी, निर्माण कार्य और पाइपों की लीकेज आदि कारणों से शिमला में पानी का गंभीर संकट हो गया था.

water-1_060919090745.jpegपिछले साल इसी सीजन में शिमला में पानी को लेकर संकट गहरा गया था (फाइल-PTI)

लोगों को पानी के लिए घंटों कतार में खड़ा होना पड़ा था. समस्या इस कदर विकट हो गई थी कि पानी की किल्लत के कारण शिमला के 30 से ज्यादा रेस्टोरेंट बंद कर दिए गए थे. साथ ही जल संकट को देखते हुए कई दिनों तक स्कूल बंद कर दिए गए थे. निर्माण कार्य और कार धोने पर पूरी तरह से बैन लगा दिया गया था. पानी वितरण के लिए टैंक आने के दौरान वहां पर सुरक्षा के भारी इंतजाम किए गए थे.

गर्मी से निजात पाने के लिए सैलानी पहाड़ की ओर रुख करते हैं, इस कारण उन्हें इससे कुछ समय के लिए राहत मिल जाती है, लेकिन बड़ी संख्या में लोगों के पहाड़ पर जाने से वहां के भौगोलिक संतुलन बिगड़ जाता है. सरकार को पर्यटन से कमाई करने के साथ ही ऐसी व्यवस्था भी करनी चाहिए कि गर्मी के सीजन में पहाड़ की भौगोलिक व्यवस्था बनी रहे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay