एडवांस्ड सर्च

नरेंद्र मोदी के लिए खतरे की घंटी अखिलेश-मायावती की जोड़ी, ऐसे बिगाड़ सकती है खेल

SP-BSP Alliance यूपी  में विपक्ष ने मोदी को हराने का मास्टरप्लान तैयार किया है. अखिलेश यादव और मायावती की जोड़ी ने मोदी लहर की काट निकालने की कोशिश की है जिसका ऐलान आज हो जाएगा. अखिलेश-मायावती की जोड़ी प्रधानमंत्री मोदी के लिए किसी खतरे की घंटी से कम नहीं है.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: देवांग दुबे]नई दिल्ली, 12 January 2019
नरेंद्र मोदी के लिए खतरे की घंटी अखिलेश-मायावती की जोड़ी, ऐसे बिगाड़ सकती है खेल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (फोटो- PTI)

उत्तर प्रदेश में विपक्ष ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हराने का मास्टरप्लान तैयार किया है. अखिलेश यादव और मायावती की जोड़ी ने मोदी लहर की काट निकालने की कोशिश की है जिसका ऐलान आज हो जाएगा. अखिलेश-मायावती की जोड़ी पीएम मोदी के लिए किसी खतरे की घंटी से कम नहीं है क्योंकि उपचुनाव में ये जोड़ी कमाल दिखा चुकी है. ऐसे में इस बार यूपी में बीजेपी की राह आसान नहीं है.

अखिलेश और मायावती दोनों ने साथ आने के संकेत काफी पहले से देने शुरू कर दिए थे. इस जोडी का फॉर्मूला यूपी में हुए उपचुनाव में निकला, जहां लोकसभा चुनाव में डंके बजाने वाली बीजेपी को चारो खाने चित होना पड़ा. बीजेपी का गढ़ और योगी आदित्यनाथ का चुनावी क्षेत्र गोरखपुर बीजेपी के हाथ से निकल गया. इसके अलावा फूलपुर में भी मायावती के उम्मीदवार के चुनाव न लड़ने से बीजेपी को एसपी के हाथों हार का सामना करना पड़ा. कैराना और नूरपुर की सीट भी बीजेपी के हाथ से निकल गई.

2014 में मोदी लहर में भी इस मामले में मजबूत थी सपा-बसपा

यूपी में हुए विधानसभा चुनाव में अखिलेश और राहुल की अच्छे लड़कों की जोड़ी पूरी तरह से फ्लॉप हो गई थी. वहीं 2014 के चुनाव में दोनों ही पार्टियों को बुरा हाल रहा था. 2014 लोकसभा चुनाव में बीजेपी को जहां 71 सीटें मिली थी. वहीं एसपी को 5 और कांग्रेस को दो सीटें मिली थी, जबकि बीएसपी अपना खाता भी नहीं खोल सकी थी.

हालांकि मोदी लहर के बावजूद वोट प्रतिशत के मामले में एसपी-बीएसपी काफी मजबूत रही थी और अगर 2014 जैसी लहर मान ले तो ये गठबंधन आंकड़ों के हिसाब से मोदी सरकार के पसीने छुड़ा सकता है.  2014 में मोदी लहर के बावजूद सपा-बसपा 41.80 फीसदी वोट हासिल करने में कामयाब रही थी. जबकि बीजेपी को 42.30 फीसदी वोट मिले थे. सूबे में 12 फीसदी यादव, 22 फीसदी दलित और 18 फीसदी मुस्लिम हैं, जो कुल मिलाकर आबादी का 52 फीसदी हिस्सा है.

यूपी के जातीय समीकरण और इतिहास को देखें तो ये जोड़ी बीजेपी और मोदी के लिए एक बड़ी चुनौती बन सकती है और पीएम के रास्ते का रोड़ा जो कि महागठबंधन से भी ज्यादा खतरनाक हो सकती है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay