एडवांस्ड सर्च

यूपी में कांग्रेस नेताओं की मांग- प्रियंका गांधी बनें CM उम्मीदवार

समीक्षा बैठक में कांग्रेस के नेताओं ने एक सुर में प्रियंका गांधी को 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने की मांग की है. बैठक में हार के लिए कमजोर संगठन को जिम्मेदार मान गया जबकि पार्टी का मानना है कि भविष्य में पार्टी को गठबंधन नहीं करना चाहिए.

Advertisement
नीलांशु शुक्ला [Edited By: वरुण शैलेश]लखनऊ, 12 June 2019
यूपी में कांग्रेस नेताओं की मांग- प्रियंका गांधी बनें CM उम्मीदवार कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी (PTI)

लोकसभा चुनावों में करारी शिकस्त के बाद कांग्रेस पार्टी अपने चुनावी अभियान की समीक्षा करने में जुटी हुई है. कांग्रेस महासचिव और पूर्वी यूपी की प्रभारी प्रियंका गांधी समीक्षा बैठक कर रही हैं. इस बैठक में पार्टी के नेताओं ने एक सुर में प्रियंका गांधी को 2022 में होने वाले उत्तर प्रदेश विधानसभा में मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाने की मांग की है. बैठक में हार के लिए कमजोर संगठन को जिम्मेदार मान गया जबकि पार्टी का मानना है कि भविष्य में पार्टी को गठबंधन नहीं करना चाहिए.  

वाराणसी के पूर्व सांसद और कांग्रेस नेता राजेश मिश्रा ने 'आजतक' से बातचीत में बताया, 'प्रियंका गांधी से अगामी उपचुनावों और राज्य में होने वाले चुनावों के लिए पार्टी को मजबूत बनाने का अनुरोध किया गया. हमने उनसे मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनने का भी अनुरोध किया ताकि भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) को शिकस्त दी जा सके. पार्टी के नेताओं का यह भी कहना था कि हमें बिना गठबंधन का चुनाव लड़ना चाहिए.'

राजेश मिश्रा ने कहा, 'ज्यादातर नेताओं का मानना है कि संगठन के कमजोर होने की वजह से पार्टी को शिकस्त का सामना करना पड़ा. राज्यभर में पार्टी को मजबूत बनाने के लिए काम किया जा रहा है. हमने मिलकर काम करने का तय किया है ताकि संगठन को मजबूत और कारगर बनाया जा सके. अगर प्रियंका डोर-टु-डोर प्रचार की जिम्मेदारी संभालती हैं तो निश्चित रूप से राज्य में हमारी सरकार होगी.'

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने कहा कि पार्टी के अधिकांश नेता चाहते हैं कि राज्य में 12 सीटों पर होने वाले उपचुनावों में पार्टी अपने दम पर मैदान में उतरे. हम भले ही लोकसभा चुनाव हार चुके हैं लेकिन हमारी पार्टी भविष्य जरूर वापसी करेगी. हम 2022 का विधानसभा चुनाव मजबूती से लड़ेंगे.

कांग्रेस के टिकट पर बहराइच में लोकसभा चुनाव हार चुकी सावित्री बाई फुले का कहना है कि हम चुनाव इसलिए हारे क्योंकि चुनाव बैलेट पेपर पर नहीं हुए. बीजेपी ने लोकतंत्र का मजाक बनाकर रख दिया है. ईवीएम में बड़े पैमाने पर गड़बड़ियां की गईं. मैं नेतृत्व से मांग करती हूं कि ईवीएम को लेकर राष्ट्रीय स्तर पर आंदोलन शुरू किया जाए और फिर से बैलेट पेपर वोटिंग की प्रक्रिया शुरू की जाए.  

इस बीच, सूत्रों ने बताया कि अमेठी में कांग्रेस की हार को लेकर राहुल और प्रियंका गांधी को रिपोर्ट सौंप दी गई है. राहुल गांधी अमेठी में बीजेपी नेता स्मृति ईरानी से 55,000 वोटों के मामूल अंतर से हार गए थे. सूत्रों के मुताबिक कुछ जिला अध्यक्ष ने उम्मीदवारों के चयन पर भी सवाल उठाए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay