एडवांस्ड सर्च

मोदी की ताजपोशी के लिए सज गई दिल्‍ली, मेहमानों के लिए पक रहे लजीज व्‍यंजन

भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई देशों की निगाहें उस बेहद भव्‍य समारोह की ओर टिकी हुई हैं, जिसमें नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने वाले हैं. देश-विदेश के मेहमानों के स्‍वागत की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. अब सबको उस ऐतिहासिक पल का इंतजार है.

Advertisement
आज तक वेब ब्‍यूरो [Edited By: अमरेश सौरभ]नई दिल्ली, 25 May 2014
मोदी की ताजपोशी के लिए सज गई दिल्‍ली, मेहमानों के लिए पक रहे लजीज व्‍यंजन नरेंद्र मोदी (फाइल फोटो)

भारत ही नहीं, बल्कि दुनिया के कई देशों की निगाहें उस बेहद भव्‍य समारोह की ओर टिकी हुई हैं, जिसमें नरेंद्र मोदी देश के प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ग्रहण करने वाले हैं. देश-विदेश के मेहमानों के स्‍वागत की तैयारियां पूरी हो चुकी हैं. अब सबको उस ऐतिहासिक पल का इंतजार है.

इतिहास बनता देखेगा जमाना
राष्ट्रपति भवन के विशाल प्रांगण में सोमवार शाम को नरेंद्र मोदी देश के 15वें प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ग्रहण करने जा रहे हैं. लोकसभा चुनाव में अकेले दम बीजेपी की नैया पार लगाने वाले नरेंद्र मोदी पाकिस्तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और श्रीलंका के राष्ट्रपति महिंदा राजपक्षे सहित दक्षिण एशियाई क्षेत्रीय सहयोग संगठन (SAARC) के तमाम नेताओं के साथ लगभग 3000 मेहमानों की मौजूदगी में देश की बागडोर अपने हाथ में लेंगे.

समारोह के नाश्‍ते में होगा राजभोग, इमरती और...
नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में अतिथियों के नाश्‍ते का मेन्‍यू तैयार हो गया है. नाश्‍ते में मेहमानों को इमरती, रसगुल्‍ला, राजभोग, कालाजामुन, कचौड़ी, मटर की खास्‍ता पोटली, संदेश, पेटीज, वेज सैंडवीच, चार तरह की पेस्‍ट्री, कूकीज, ढोकला, खांडवी, वेज हरियाली कबाब, कटलेट, कोल्‍ड ड्रिंक, चाय और कॉफी परोसा जाएगा.

मेहमानों की फेहरिस्‍त है बहुत लंबी
राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी एक आलीशान समारोह में 63 वर्षीय मोदी और उनके मंत्रिपरिषद के सहयोगियों को भारतीय संविधान की शपथ देकर अपने पद के अनुरूप काम करने का दायित्व सौंपेंगे. इस मौके पर निवर्तमान प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी भी मौजूद रहेंगे. इनके अलावा विभिन्न राज्यों के मुख्यमंत्री और राजनीतिक दलों के नेता भी इस समारोह में आमंत्रित मेहमानों की सूची में हैं. मोदी की मां हीराबा के भी इस समारोह में मौजूद रहने की संभावना है.

 समारोह में कुछ ऐसा होगा मेहमानों के बैठने का इंतजाम...

पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ और श्रीलंका के राष्‍ट्रपति महिंदा राजपक्षे के अलावा विदेशी अतिथियों में अफगानिस्तान के राष्ट्रपति हामिद करजई, भूटान के प्रधानमंत्री त्शेरिंग तोबगे, नेपाल के प्रधानमंत्री सुशील कोइराला और मालदीव के राष्ट्रपति अब्दुल्ला यामीन अब्दुल गयूम शामिल हैं. बांग्लादेश का प्रतिनिधित्व वहां की संसद की स्पीकर शिरीन चौधरी करेंगी, क्योंकि प्रधानमंत्री शेख हसीना शपथ ग्रहण समारोह के समय जापान की यात्रा पर होंगी. शिरीन चौधरी दिल्‍ली पहुंच चुकी हैं. यह पहला मौका है, जब दक्षेस देशों के राष्ट्राध्यक्षों को भारतीय प्रधानमंत्री के शपथ ग्रहण समारोह में भाग लेने के लिए आमंत्रित किया गया है.

26 मई को 11 बजे दिल्‍ली पहुंचेंगे नवाज
पाकिस्‍तान के प्रधानमंत्री नवाज शरीफ सोमवार को सुबह 11 बजे दिल्‍ली पहुंचेंगे. एयरपोर्ट से वह सीधे होटल ताज मानसिंह जाएंगे. पाक अधिकारियों से मुलाकात के बाद वे 4 बजे मीडिया से मुखातिब होंगे. 6 बजे शाम में शपथ ग्रहण समारोह में हिस्‍सा लेने के बाद रात को राष्‍ट्रपति भवन में भोज में भी शिरकत करेंगे. 27 मई को वह हैदराबाद हाउस में मोदी से मुलाकात और बातचीत करेंगे.

पाकिस्‍तान ने 59 भारतीय मछुआरों को रिहा किया
संबंध सुधारने की दिशा में पहल करते हुए पाकिस्‍तान ने भारत के 59 मछुआरों को रिहा कर दिया है. इन्‍हें 26 मई को वाघा बॉर्डर पर भारतीय अधिकारियों को सौंप दिया जाएगा.

शपथ ग्रहण समारोह में उद्धव के आने पर सस्‍पेंस
मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में जयललिता नहीं आएंगी, यह तय हो गया है. MDMK नेता वाइको पहले से ही विरोध जता रहे हैं, जो श्रीलंका के राष्ट्रपति राजपक्षे की यात्रा के खिलाफ हैं. वाइको 26 मई को दिल्‍ली के जंतर-मंतर पर विरोध प्रदर्शन करने वाले हैं. नवाज शरीफ को लेकर उद्धव ठाकरे के आने पर भी सस्पेंस बना हुआ है.

वाजपेयी के नक्‍शे कदम पर मोदी!
अटल बिहारी वाजपेयी के नक्शे कदम पर चलते हुए मोदी ने राष्ट्रपति भवन की ऐतिहासिक इमारत के प्रांगण में शपथ ग्रहण करने की इच्छा जताई थी, ताकि समारोह में ज्यादा से ज्यादा लोग शिरकत कर सकें. इससे पहले चंद्रशेखर ने भी इसी प्रांगण में प्रधानमंत्री पद की शपथ ली थी. वैसे राष्ट्रपति भवन का खूबसूरत दरबार हाल इस तरह के समारोहों का साक्षी हुआ करता है, लेकिन वहां चूंकि 500 मेहमानों की आवभगत की व्यवस्था है, इसलिए अधिक बड़ी जगह का चुनाव किया गया.

 राष्‍ट्रपति भवन में सज चुकी हैं कुर्सियां

लगातार बढ़ता चला गया मोदी का कद
अपने दृढ़ निश्चय और अटल फैसलों के लिए पहचाने जाने वाले मोदी का कद पिछले छह आठ महीने में इतना बढ़ गया कि उन्होंने राजनीति के बाकी तमाम खिलाड़ियों को बौना साबित कर दिया. यह मोदी का ही हौसला था कि वह आलोचनाओं की तमाम आंधियों के सामने अडिग खड़े रहे, क्योंकि उनका मानना था कि देश भंवर में फंस चुका है और उन्हें पूरा भरोसा था कि अपने चंद आस्थावान साथियों के सहारे वह देश की कश्ती को भंवर से निकाल लाएंगे.

नरेंद्र मोदी ने हफ्तों तक चले चुनाव प्रचार के दौरान सैकड़ों जनसभाओं को संबोधित किया और लाखों किलोमीटर की यात्रा की. इसका नतीजा यह हुआ कि बीजेपी 543 सदस्यीय लोकसभा में बहुमत के लिए जरूरी सीटों से 10 सीट ज्यादा लेकर 282 के अभूतपूर्व आंकड़े तक जा पहुंची. इस तरह गुजरात के मुख्यमंत्री के लिए देश की सत्ता के शीर्ष पर पहुंचने का रास्ता साफ हो गया.

जमीन से आसमान तक सुरक्षा कड़ी
शपथ ग्रहण समारोह के लिए राजधानी में जमीन से आसमान तक सुरक्षा के ठीक वैसे ही इंतजाम किए गए हैं, जैसे गणतंत्र दिवस परेड के मौके पर होते हैं. समारोह को लेकर नई दिल्‍ली में ड्रोन और स्‍वचालित वाहनों पर रोक लगा दी गई है. इसके साथ ही कल नई दिल्‍ली इलाके में धारा- 144 लागू रहेगी.

दिल्ली पुलिस के अनुसार सोमवार को रायसीना हिल्स के आसपास कई परतों वाला सुरक्षा घेरा बनाया जाएगा. समारोह राष्ट्रपति भवन के प्रांगण में होगा और समारोह के दौरान आसपास के तमाम ऑफिस पांच घंटे के लिए बंद रहेंगे. शपथ ग्रहण शाम 6 बजे होगा.

 ये रहा समारोह की तैयारियों का भव्‍य नजारा...

एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने बताया, ‘राष्ट्रपति भवन के आसपास के ऑफिस दोपहर बाद एक बजे बंद कर दिए जाएंगे, जिसके बाद सुरक्षा एजेंसियां उनकी जांच करेंगी. सुरक्षा गणतंत्र दिवस के जैसी होगी.’ सूत्रों ने बताया कि भारतीय वायुसेना ने क्षेत्र के हवाई क्षेत्र की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक हवाई सुरक्षा व्यवस्था की है. खास सुरक्षा वाले इलाके के आसपास तमाम ऊंची इमारतों में स्नाइपर्स तैनात किए जाएंगे. पुलिस ने बताया कि रायसीना हिल्स की तरफ जाने वाले सभी रास्तों पर सुरक्षा कारणों से बैरियर लगाए जाएंगे.

स्‍वागत की तैयारियां पूरी
राष्ट्रपति भवन में भी विशिष्ट अतिथियों की आवभगत के लिए पुख्ता इंतजाम किए गए हैं. दक्षेस नेताओं के साथ उनके राजनयिक दल भी मौजूद रहेंगे. स्थापत्य कला, राजनीतिक महत्व व खूबसूरती के लिहाज से देश की सर्वश्रेष्ठ इमारतों में से एक राष्ट्रपति भवन को इस तारीखी मौके के लिए पूरे शाही अंदाज में संवारा जा रहा है. इमारत के विशाल प्रांगण में कुर्सियां बिछ चुकी हैं और राष्ट्रीय राजधानी की गर्मी की तपिश मेहमानों तक न पहुंचे, इसके लिए खास इंतजाम किए जा रहे हैं.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay