एडवांस्ड सर्च

मुंबई: 26/11 हमले में मिले 10 फर्जी आईडी कार्ड, सब पर लिखे थे हिंदू नाम

19.02.08 को कसाब ने मुंबई की अदालत में बयान दिया, जिसमें साबित हुआ कि 10 आरोपियों के पास 10 फर्जी आईडी थे. कसाब ने कहा था कि काफा, जिसने उसे सैन्य प्रशिक्षण दिया था, ने बताया था कि उन्हें 10 फर्जी आईडी दिए जाएंगे.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 20 February 2020
मुंबई: 26/11 हमले में मिले 10 फर्जी आईडी कार्ड, सब पर लिखे थे हिंदू नाम 26/11 आतंकी हमले के मुकदमे की अदालत में पैरवी करने वाले विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम

  • अजमल कसाब के बयान पर निकम का बड़ा खुलासा
  • पुलिस को बहकाने के लिए फर्जी कार्ड का इस्तेमाल

मुंबई के 26/11 आतंकी हमले के मुकदमे की कोर्ट में पैरवी करने वाले विशेष सरकारी वकील उज्ज्वल निकम ने कहा है कि जहां तक 26/11 मुंबई हमले की बात है, हमने अदालत के सामने 10 आईडी कार्ड पेश किए थे जो फर्जी थे. उनमें से एक कसाब और 9 अन्य आरोपियों के कार्ड थे. यह सच है कि उन आईडी कार्ड पर हिंदू नाम लिखे थे.

उज्ज्वल निकम ने समाचार एजेंसी एएनआई से कहा, 19.02.08 को कसाब ने मुंबई की अदालत में बयान दिया, जिसमें साबित हुआ कि 10 आरोपियों के पास 10 फर्जी आईडी थे. कसाब ने कहा था कि काफा, जिसने उसे सैन्य प्रशिक्षण दिया था, ने बताया था कि उन्हें 10 फर्जी आईडी दिए जाएंगे. कसाब ने कहा था कि फर्जी कार्ड का इस्तेमाल पुलिस को बहकाने के लिए किया गया और हमने इसे साबित भी किया है.

ये भी पढ़ें: राम माधव बोले- 26/11 हमले को RSS से जोड़ने की कोशिश की गई

बता दें, मुंबई हमले में 10 आतंकवादियों में से नौ मारे गए थे और कसाब को जिंदा गिरफ्तार किया गया था. हमलावर अजमल कसाब की गिरफ्तारी भारत के लिए काफी अहम साबित हुई, जिसने कई सनसनीखेज खुलासे किए. हमले के बाद संदेह पाकिस्तान में स्थित एक बड़े जिहादी समूह लश्कर-ए-तैयबा पर गया था.

उज्ज्वल निकम का यह बयान मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया के उस दावे के बाद आया है जिसमें कहा है कि लश्कर-ए-तैयबा ने 26/11 के मुंबई आतंकी हमले को 'हिंदू आतंक' साबित करने और पाकिस्तानी आतंकवादी मोहम्मद अजमल कसाब को बेंगलुरु के समीर चौधरी के रूप में मरने के लिए प्रोजेक्ट करने की योजना बनाई थी.

पूर्व कमिश्नर मारिया ने सोमवार को जारी अपनी आत्मकथा 'Let Me Say It Now' में, 26/11 के मुंबई आतंकी हमले में खुद की ओर से की गई जांच का जिक्र किया है. इस आतंकी हमले की योजना लश्कर ने बनाई थी और इसमें पाकिस्तान का हाथ था.

26/11 आतंकी हमले को 'हिंदू आतंकवाद' के रूप में पेश करने की लश्कर की योजना का जिक्र करते हुए पूर्व कमिश्नर मारिया ने लिखा है, 'यदि सब कुछ योजना के अनुसार होता, तो कसाब समीर चौधरी के रूप में मारा जाता और मीडिया की ओर से इस हमले के लिए 'हिंदू आतंकवादियों' को दोषी ठहराया जाता. उन्होंने अपनी किताब में यह भी उल्लेख किया है कि आतंकवादी संगठन ने कथित तौर पर आतंकवादियों पर भारतीय पते के साथ फर्जी आईडी कार्ड लगा रखे थे.

ये भी पढ़ें: राकेश मारिया के खुलासे पर बोलीं प्रज्ञा ठाकुर- कांग्रेस ने गढ़ी हिंदू आतंकवाद की थ्योरी

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay