एडवांस्ड सर्च

Advertisement

शरीफ के आने पर शिवसेना ने तोड़ी चुप्‍पी

देश के 15वें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शिव सेना के नेता शामिल होंगे लेकिन तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता के शामिल होने पर सस्‍पेंस बरकरार है. वहीं, चेन्‍नई में फिल्‍म स्‍टार रजनीकांत के घर के बाहर विरोध-प्रदर्शन हुआ. प्रदर्शनकारी रजनीकांत से अपील कर रहे हैं कि वो मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्‍सा न लें.
शरीफ के आने पर शिवसेना ने तोड़ी चुप्‍पी नरेंद्र मोदी और जयललिता (फाइल फोटो)
आज तक वेब ब्यूरो [Edited By: रंजीत सिंह]नई दिल्ली, 26 May 2014

देश के 15वें प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में शिव सेना के नेता शामिल होंगे लेकिन तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता के शामिल होने पर सस्‍पेंस बरकरार है. वहीं, चेन्‍नई में फिल्‍म स्‍टार रजनीकांत के घर के बाहर विरोध-प्रदर्शन हुआ. प्रदर्शनकारी रजनीकांत से अपील कर रहे हैं कि वो मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में हिस्‍सा न लें.

उद्धव ठाकरे ने तोड़ी चुप्‍पी
शपथ समारोह में नवाज शरीफ के आने पर शिवसेना ने चुप्पी तोड़ दी है. पार्टी प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बयान जारी कर अपनी नाराजगी जताई है. उन्‍होंने कहा कि करगिल युद्ध को भूलना मुश्किल है. ठाकरे ने नरेंद्र मोदी की पहल पर नवाज शरीफ के सुधरने की उम्मीद जताई है. हालांकि उद्धव ठाकरे शपथ ग्रहण समारोह में हिस्‍सा लेंगे. शिव सेना के सभी नवनिर्वाचित सांसदों और सीनियर नेताओं को समारोह में शामिल होने का न्‍योता भेजा गया है. उद्धव सोमवार सुबह मुंबई से नई दिल्‍ली के लिए रवाना होंगे.

जयललिता पर सस्‍पेंस
जयललिता शपथ ग्रहण समारोह में आने के लिए श्रीलंका के राष्ट्रपति महिन्दा राजपक्षे को न्योता भेजे जाने से नाराज हैं. मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में जयललिता के खुद भाग लेने या किसी प्रतिनिधि को भेजने के संबंध में हालांकि सोमवार शाम तक तमिलनाडु सरकार या जयललिता की पार्टी एआईडीएमके की ओर से कोई औपचारिक बयान जारी नहीं हुआ है.

जयललिता ने पिछले सप्ताह मोदी की ओर से राजपक्षे को न्यौता भेजे जाने को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा था कि यह गलत सलाह है और इससे बचा जा सकता था क्योंकि यह कदम पहले से जख्मी तमिल भावनाओं पर नमक छिड़कने जैसा है. एमडीएमके नेता वाइको भी इसी वजह से मोदी के शपथ ग्रहण समारोह में नहीं आएंगे.

'तमिलों के मुद्दों का समाधान हो'
राजपक्षे को न्‍योता दिए जाने के विरोध के बीच माकपा ने आज कहा कि केंद्र सरकार को इस मौके का इस्‍तेमाल श्रीलंका के तमिलों के मुद्दे के समाधान में करना चाहिए. माकपा के महासचिव जी. रामकृष्णन ने चेन्‍नई में एक बयान जारी कर कहा, 'युद्ध के अंतिम चरण (2009 में लिट्टे के खिलाफ) के दौरान कथित मानवाधिकार उल्लंघन की जांच नहीं हुई. साथ ही तमिल इलाकों में शक्ति के विकेंद्रीकरण के कदम भी नहीं उठाए गए. उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार को राजपक्षे के दिल्ली दौरे का इस्तेमाल करना चाहिए और तमिल मुद्दों के समाधान के लिए उन पर और दबाव बनाना चाहिए.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay