एडवांस्ड सर्च

ममता से दूर और कांग्रेस के करीब TMC सांसद दिनेश त्रिवेदी, राहुल से की लंबी मुलाकात

ममता के निर्देश को डेरेक की आगे बढ़ाते हैं और इस तरह सांसदों को उन्हीं के निर्देशानुसार काम करना होता है. समझा जा रहा है कि बैरकपुर से सांसद दिनेश त्रिवेदी इस व्यवस्था और व्यवहार से नाखुश हैं और अब पार्टी से छुटकारा चाह रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
स्‍वपनल सोनल/ कुमार विक्रांत नई दिल्ली, 07 May 2016
ममता से दूर और कांग्रेस के करीब TMC सांसद दिनेश त्रिवेदी, राहुल से की लंबी मुलाकात पूर्व रेल मंत्री और टीएमसी सांसद दिनेश त्रिवेदी

रेल मंत्री रहते हुए ममता बनर्जी से नाराजगी मोल लेकर यूपीए सरकार में अपनी कुर्सी गंवाने वाले दिनेश त्रिवेदी इन दिनों 'दीदी' से काफी नाराज हैं. दरअसल, दिल्ली में कभी ममता की आवाज कहे जाने वाले दिनेश त्रिवेदी की जगह अब राज्यसभा सांसद डेरेक ओ ब्रायन ने ले ली है. सियासी गलियारे में वैसे तो दिनेश की जगह पहले मुकुल रॉय ने ली थी, लेकिन फिर उनके किनारे होने पर ममता के निर्देश अब सिर्फ डेरेक को मिलते हैं.

जानाकर बताते हैं कि ममता के निर्देश को डेरेक की आगे बढ़ाते हैं और इस तरह सांसदों को उन्हीं के निर्देशानुसार काम करना होता है. समझा जा रहा है कि बैरकपुर से सांसद दिनेश त्रिवेदी इस व्यवस्था और व्यवहार से नाखुश हैं और अब पार्टी से छुटकारा चाह रहे हैं.

हाल के विधानसभा चुनाव के दौरान भी दिनेश त्रिवेदी ने इशारों-इशारों में अपनी ही पार्टी को निशाने पर ले लिया. वैसे भी रेल मंत्री की कुर्सी से ममता के दबाव में हटने के बाद दिल्ली में ममता की नंबर वन पसंद दिनेश त्रिवेदी अलग थलग पड़ गए थे. बड़ी मुश्कि‍ल से उनको लोकसभा का टिकट मिल गया और वो जीत गए, लेकिन पार्टी के भीतर के लोग बताते हैं कि ममता की नजर दिनेश पर टेढ़ी ही रही.

पार्टी में दिन काट रहे हैं त्रिवेदी
बताया जाता है कि दिनेश त्रिवेदी अब पार्टी में दिन काट रहे हैं. यही नहीं, उन्होंने भविष्य के लिए अपने नए ठिकाने की तलाश भी शुरू कर दी है. हाल ही संसद भवन परिसर में कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गांधी से उनकी मुलाकात महज संयोग नहीं है. दिनेश के करीबी सूत्रों के मुताबिक, वो खुद तृणमूल छोड़कर अपनी सांसदी नहीं गंवाना चाहते, इसलिए पार्टी छोड़ने की बजाय यह चाहते हैं कि अगर पार्टी उनके खि‍लाफ एक्शन लेना चाहती है तो ले ले.

...तो क्या कांग्रेस में करेंगे घरवापसी
दिनेश के करीबी कहते हैं की ममता 2019 में बंगाल में बुरे सियासी दौर में होंगी. हालात बदले तो बीजेपी 5 साल सत्ता में रहकर एंटी इनकंबेंसी झेल रही होगी. जबकि बंगाल में कांग्रेस और लेफ्ट का गठजोड़ होगा. समझा जाता है कि तब दिनेश त्रिवेदी कांग्रेस की जमीन से सियासी फसल बेहतर काट सकेंगे. वैसे भी दिनेश त्रिवेदी का मूल कांग्रेस ही रहा है. वो राजीव गांधी के करीब रहे हैं और गांधी परिवार से उनके पुराने रिश्ते रहे हैं. ऐसे में भविष्य में कांग्रेस में लौटना उनके लिए घर वापसी जैसा होगा.

सांसदी बचाने की कवायद
फिलहाल दिनेश त्रिवेदी 2019 तक अपनी लोकसभा की सदस्यता बचाए रखना चाहते हैं. यही कारण है कि वह खुद तृणमूल कांग्रेस नहीं छोड़ने वाले और ना ही जल्दबाजी में कांग्रेस ज्वॉइन करने वाले हैं. हालांकि, दिनेश की ममता से नाराजगी एकतरफा नहीं है. ममता भी दिनेश से नाराज हैं. रेल मंत्री रहते हुए वह ममता की बजाय रिफॉर्मिस्ट PM मनमोहन सिंह की बात मानकर दीदी की वफादारी की लिस्ट से आउट हो चुके हैं.

बताया जाता है कि समय के साथ दोनों नेतओं में दूरी बढ़ती चली गई. दूरी अब खाई में तब्दील हो चुकी है और दोनों के रास्ते जुदा होने की कगार पर हैं. उधर, ममता भी दिनेश को सबक सिखाना चाहती हैं और उनके खिलाफ एक्शन लेने के मूड में हैं. लेकिन दिनेश आश्वस्त हैं कि ममता कुछ भी करें उनकी सांसदी तो 2019 तक है ही.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay