एडवांस्ड सर्च

यूक्रेन-रूस के बीच तनावपूर्ण संबंधों की वजह से AN-32 के अपडेशन में आ रही दिक्कत

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में प्रश्न काल के दौरान कहा था कि भारतीय वायुसेना में मौजूद 115 एएन-32 विमानों में से 55 अपडेट किया जा चुका है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्हीं विमानों को उड़ान भरने की अनुमति दी गई है जो सुरक्षा मानकों को पूरा करते हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 15 July 2019
यूक्रेन-रूस के बीच तनावपूर्ण संबंधों की वजह से AN-32 के अपडेशन में आ रही दिक्कत फाइल फोटो- श्रीपद नाइक, ट्विटर

रक्षा राज्य मंत्री श्रीपद नाइक ने वायुसेना के विमान एएन-32 के अपडेशन पर राज्यसभा में कहा है कि आधे से अधिक एएन-32 विमानों का अपडेशन किया जा चुका है. वहीं बाकी बचे हुए विमानों को अपडेट करने की प्रक्रिया चल रही है. मंत्री ने यह भी कहा कि रूस और यूक्रेन के बीच संबंध ठीक नहीं होने से विमानों के अपडेशन के लिए जरूरी कुछ पार्ट्स नहीं उपलब्ध हो पा रहे हैं, इसलिए अपडेशन में दिक्कत आ रही है.

वर्तमान में भारतीय वायुसेना के पास 98 एएन-32 विमान हैं जिन्होंने अपना कार्यकाल पूरा नहीं किया है.

इससे पहले रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने राज्यसभा में प्रश्न काल के दौरान कहा था कि भारतीय वायुसेना में मौजूद 115 एएन-32 विमानों में से 55 अपडेट किया जा चुका है. रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने बताया कि उन्हीं विमानों को उड़ान भरने की अनुमति दी गई है जो सुरक्षा मानकों को पूरा करते हैं.

राज्यसभा में सवालों का जवाब देते हुए रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि  विमान दुर्घटनाओं के बाद पिछले पांच साल में कुल 34 कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी की मंजूरी दी गई है. इनमें से 27 की रिपोर्ट मिल गई है और उनके सुझावों पर काम किया जा रहा है जिससे भविष्य में हादसों को टाला जा सके.

रक्षामंत्री ने कहा कि विमानों का अपडेशन एक लगातार जारी रहने वाली प्रक्रिया है. उन्होंने कहा, अगर किसी एएन-32 विमान को अपडेट नहीं किया गया है तो ऐसा नहीं है कि वह उड़ान नहीं भर सकता. मानकों को पूरा करने वाले विमानों को उड़ान भरने की अनुमति है.'

राजनाथ सिंह ने कहा कि पिछले दिनों अरूणाचल प्रदेश में दुर्घटनाग्रस्त हुए विमान को अपडेट किया गया था. इस हादसे में 13 लोग मारे गए थे.

रक्षा मंत्री ने कहा कि हादसे रोकने के लिए सभी तरह की ऐहतियात बरती जाती है लेकिन कई बार मानवीय चूक या खराब मौसम की वजह से भी हादसा होता है. जब भी कोई हादसा होता है, कोर्ट ऑफ इन्क्वायरी के आदेश दिए जाते हैं.उन्होंने बताया कि अरूणाचल प्रदेश में विमान के उतरने वाले मैदान छोटे हैं और आसपास पहाड़ियां हैं इसलिए विमानों को घाटी में कम ऊंचाई पर उड़ान भरना पड़ता है. यही वजह है कि वहां एएन-32 विमान उड़ाए जाते हैं.

(ANI और PTI इनपुट के साथ)

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay