एडवांस्ड सर्च

शिवसेना का केंद्र सरकार पर तंज- विजय उत्सव खत्म हो गया हो तो अलीगढ़ कांड पर ध्यान दें

शिवसेना ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में ‘निर्भया कांड’ हुआ. उस समय जिन लोगों ने संसद नहीं चलने दी और महिला अत्याचार के विरोध में सरकार को कठोर कानून लागू करने के लिए मजबूर किया, वही लोग आज सत्ता में बैठे हैं.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: सना जैदी]नई दिल्ली, 10 June 2019
शिवसेना का केंद्र सरकार पर तंज- विजय उत्सव खत्म हो गया हो तो अलीगढ़ कांड पर ध्यान दें शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे (फाइल फोटो)

अलीगढ़ में मासूम बच्ची के साथ हुई बर्बरता के मामले पर शिवसेना ने केंद्र की बीजेपी सरकार पर निशाना साधा है. शिवसेना ने सोमवार को अपने मुखपत्र सामना में कहा कि विजय का उत्सव खत्म हो गया हो तो अलीगढ़ में हुए दर्दनाक कांड की तरफ देखना चाहिए.

शिवसेना ने कहा कि उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में सिर्फ 10 हजार रुपये के लिए ढाई साल की बच्ची की हत्या कर दी गई. पूरे देश में इसे लेकर आक्रोश है, कुछ लोगों ने मोमबत्तियां जलाकर आक्रोश व्यक्त किया तो वहीं अक्षय कुमार, अनुपम खेर, अभिषेक बच्चन और सानिया मिर्जा जैसी 'उत्सव' मंडली ने इस घटना के खिलाफ अपना आक्रोश व्यक्त किया है.

अक्षय कुमार ने अपनी भावनाओं को व्यक्त करते हुए कहा कि मैं भयभीत और निराश हूं. ये वो दुनिया नहीं है, जो हम अपने बच्चों के लिए बनाना चाहते थे. शिवसेना ने अपने मुखपत्र में कहा कि यही पूरे देश की भावना है.

शिवसेना ने कहा कि कांग्रेस के शासनकाल में ‘निर्भया कांड’ हुआ. उस समय जिन लोगों ने संसद नहीं चलने दी और महिला अत्याचार के विरोध में सरकार को कठोर कानून लागू करने के लिए मजबूर किया, वही लोग आज सत्ता में बैठे हैं. इसलिए वर्तमान सत्ताधारियों की जिम्मेदारी बड़ी है.

शिवसेना ने कहा कि अलीगढ़ की इस घटना से समाज सुन्न हो गया है. यह एक प्रकार का बहरापन साबित होता है क्योंकि ऐसी कई कोमल कलियों पर अत्याचार होता रहता है. ‘बेटी बचाओ’ के नारे ऐसे समय में व्यर्थ साबित होते हैं. शिवसेना ने कहा कि अलीगढ़ की घटना से मानवता पर कलंक लगा है और समाज का सिर एक बार फिर से शर्म से झुक गया है.  

शिवसेना ने कहा कि उस अभागन बच्ची के पिता ने पड़ोसी को 10 हजार रुपये दिए थे. पैसे वापस मांगने की सजा उस सिरफिरे ने ढाई साल की मासूम बच्ची को दी. बच्ची की क्रूरता से हत्या कर दी गई. बच्ची की आंखों को नोंच दिया, पैरों को तोड़ दिया और उस मासूम को चीर डाला. जिस तरह से ढाई साल की बच्ची की जिंदगी खत्म कर दी गई उसके लिए अमानवीय और नृशंस जैसे शब्द भी कम पड़ जाएं.

शिवसेना ने कहा कि प्रियंका गांधी, राहुल गांधी और अखिलेश यादव ने भी बच्ची के प्रति अपनी संवेदना व्यक्त की है, लेकिन सत्ताधीश के रूप में चुनकर आए हैं, ऐसे जनप्रतिनिधियों को अपनी मर्यादा का पालन करना चाहिए. मोदी और शाह ऐसे लोगों को बार-बार समझाते रहते हैं, फिर भी ये लोग क्यों भटक जाते हैं? बीजेपी के सांसद साक्षी महाराज जेल में जाकर बलात्कार के एक आरोपी से मिले, उस पर उत्तर प्रदेश में हंगामा हुआ.

शिवसेना ने कहा कि अखिलेश यादव कहते हैं कि उत्तर प्रदेश में जंगलराज है, लेकिन इस जंगलराज के असली जन्मदाता और पोषक हम ही हैं. जंगलराज के विरोध में योगी सरकार ने मुहिम छेड़ रखी है और कई माफिया को गोलियों से भून दिया है. लेकिन ढाई साल की बच्ची के साथ जो घटना हुई वो शर्मनाक है.

शिवसेना ने कहा कि आतंकवादियों और अपराधियों को सीधे-सीधे गोली मारी जा सकती है, लेकिन सिरफिरे हमारे ही आसपास छुपे होते हैं और मौका देखते ही वे अपराध को अंजाम देते हैं. ऐसे अपराधियों के खिलाफ एक्शन लेना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay