एडवांस्ड सर्च

सम्मान वापसी मुद्दे पर मुनव्वर राना बोले- थके हुए लोग लौटा रहे हैं अवॉर्ड

कन्नड़ विद्वान एमएम कलबुर्गी की हत्या व सांप्रदायिक सद्भाव में कमी के विरोध में कई साहित्यकारों के पुरस्कार व नागरिक सम्मान लौटाए जाने के बीच मशहूर शायर मुनव्वर राना ने कहा है कि विरोध का यह तरीका गलत है.

Advertisement
aajtak.in
अमरेश सौरभ लखनऊ, 15 October 2015
सम्मान वापसी मुद्दे पर मुनव्वर राना बोले- थके हुए लोग लौटा रहे हैं अवॉर्ड मुनव्वर राना (फाइल फोटो)

कन्नड़ विद्वान एमएम कलबुर्गी की हत्या व सांप्रदायिक सद्भाव में कमी के विरोध में कई साहित्यकारों के पुरस्कार व नागरिक सम्मान लौटाए जाने के बीच मशहूर शायर मुनव्वर राना ने कहा है कि विरोध का यह तरीका गलत है. उन्होंने कहा, '...इसका मतलब है कि वे थक चुके हैं और उन्हें अपनी कलम पर भरोसा नहीं है.'

केंद्र सरकार को कठघरे में खड़ा करते हुए देशभर में बड़ी संख्या में साहित्यकार साहित्य अकादमी पुरस्कार और नागरिक सम्मान लौटा रहे हैं, लेकिन मुनव्वर राना ने विरोध के इस तरीके पर सवाल उठाया है. राना ने कहा, 'लेखक का काम समाज को सुधारना है. हमें समाज की चिंता करनी चाहिए.'

अपनी पुस्तक 'शाहदाबा' के लिए 2014 में साहित्य अकादमी पुरस्कार (उर्दू भाषा) से सम्मानित मुनव्वर राना ने कहा कि अगर आप सम्मान लौटा रहे हैं, तो इसका मतलब है कि आप थक चुके हैं. उन्होंने कहा, 'अपनी कलम पर आपको भरोसा नहीं है. लाख-डेढ़ लाख रुपये का सम्मान लौटाना बड़ी बात नहीं है. बड़ी बात यह है कि आप अपनी रचनाओं के माध्यम से समाज को सुधारें.'

राना ने कहा कि जिन घटनाओं के विरोध में सम्मान लौटाए जा रहे हैं, वे समाज के अलग-अलग समूहों ने की हैं. उन्होंने कहा कि हमारा विरोध समाज के उन लोगों से है, न कि हुकूमत से.

राना ने कहा कि सम्मान लौटाने को विचारधारा से जोड़ना गलत है. विचारधारा कोई भी हो, साहित्यकार जिन मूल्यों के लिए काम करते हैं, वे भिन्न नहीं हैं. उन्होंने कहा कि साहित्य अकादमी स्वायत्तशासी संगठन है. यह पूरी तरह सरकारी संस्था नहीं है. अगर सरकार ऐसी संस्था में दखल देती है तो यह गलत है. उन्होंने कहा, 'मैंने ऐसे ही दखल के खिलाफ उत्तर प्रदेश उर्दू अकादमी से इस्तीफा दिया था.'

इनपुट: IANS

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay