एडवांस्ड सर्च

कुछ देश धर्म के नाम पर आतंक को बढ़ावा दे रहे हैं, आतंक का कोई धर्म नहीं होता: गृहमंत्री

पाकिस्तान का नाम लिए बिना गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पकिस्तान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने पर निशाना साधा है. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ देशों ने आतंक को स्टेट पॉलिसी बना दिया है और उसी के आधार पर काम कर रहे हैं.

Advertisement
aajtak.in
संदीप कुमार सिंह/ जितेंद्र बहादुर सिंह नई दिल्ली, 14 October 2016
कुछ देश धर्म के नाम पर आतंक को बढ़ावा दे रहे हैं, आतंक का कोई धर्म नहीं होता: गृहमंत्री केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह

पाकिस्तान का नाम लिए बिना गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने पकिस्तान पर आतंकवाद को बढ़ावा देने पर निशाना साधा है. गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ देशों ने आतंक को स्टेट पॉलिसी बना दिया है और उसी के आधार पर काम कर रहे हैं. राजनाथ सिंह ने ऑल इंडिया क्रिश्चियन कांफ्रेंस में कहा कि देशों के बीच विचारों का अंतर तो हो सकता है. पर उसके लिए कुछ लोग बन्दूक का सहारा ले रहे हैं. ये नहीं करना चाहिए. इस पर मिल बैठ कर हल निकलता है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंक का कोई धर्म नहीं होता पर कुछ लोग इसे धर्म से जोड़ते हैं. गृह मंत्री ने भारत की विविधता पर बोलते हुए कहा कि भारत में सभी धर्म के लोग हैं. इस्लाम के सभी सेक्ट भारत में रहते हैं. जितने महत्वपूर्ण धर्म विश्व में हैं सब भारत में हैं. इस देश में सबको अपने धर्म की प्रैक्टिस करने की पूरी छूट है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि भारत विश्व में यूनिवर्सिटी ऑफ टॉलरेन्स है, यहां किसी को. कोई दिक्कत नहीं है. राजनाथ सिंह ने इस कांफ्रेंस में कहा कि दिल्ली में चुनाव से पहले चर्च पर अटैक की घटनाएं बढ़ जाती हैं पर हम कही भी इस तरह की घटनाओं की इजाजत नहीं दे सकते. देश में धर्म के आधार पर भेदभाव की इजाजत नहीं.

गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि कुछ देश आतंकवाद को बढ़ावा दे रहे हैं. आतंकियों को पालना-पोसना उनकी घोषित नीति बन चुकी है. आज विश्व के सामने सबसे बड़ी चुनौती आतंकवाद है. दुनिया के मुल्कों को नासूर बन चुके इस मर्ज से निपटने के लिए एकजुट हो जाना चाहिए. आतंकवाद का अलग-अलग रूप नहीं है. आतंकी घटनाओं में मारे जाने वालों की नागरिकता एक दूसरे से अलग हो सकती है. लेकिन बेगुनाहों के खून का रंग एक जैसा ही होता है.

राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंकवाद को बढ़ावा देने वाले देशों को अलग-थलग करने की जरूरत है. बुनियादी मुद्दों को लेकर पड़ोसी देशों के साथ मतभेद हो सकते हैं. लेकिन कोई देश कुछ लोगों के हाथ में बंदूक थमा कर दूसरे मुल्कों में आतंकी वारदातों को अंजाम नहीं दे सकता है. उन्होंने कहा कि सच ये है कि विश्व का एक बड़ा हिस्सा गरीबी-कुपोषण के साथ-साथ आतंक के साए में जी रहा है. जिस पर अब पूरे विश्व को काम करने की ज़रूरत है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay