एडवांस्ड सर्च

क्या PAK पर होगा ओसामा जैसा एक्शन? राजनाथ बोले- इंतजार कीजिए, देश निराश नहीं होगा

Rajnath Singh Interview आजतक से बातचीत में राजनाथ ने कहा कि NIA पुलवामा हमले की जांच कर रही है और हमें बगैर जांच के कोई बयान नहीं देना चाहिए. उन्होंने कहा कि विस्फोटक को लेकर भी तमाम बातें आ रही है, लेकिन जांच के बाद ही इस बारे में कुछ साफ कहा जा सकता है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 22 February 2019
क्या PAK पर होगा ओसामा जैसा एक्शन? राजनाथ बोले- इंतजार कीजिए, देश निराश नहीं होगा राजनाथ सिंह (फाइल फोटो)

पुलवामा में हुए आतंकी हमले के बाद केंद्रीय गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने 'आजतक' के साथ खास बातचीत में कहा कि पाकिस्तान का हुक्का-पानी बंद होने से हमें संतोष नहीं है, अभी यह सिर्फ शुरुआत है. पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान के बयान पर उन्होंने कहा कि पुलवामा हमले के बाद जिस प्रधानमंत्री ने हमारे शहीद जवानों के प्रति श्रद्धांजलि तक अर्पित न की हो, वह आतंकवाद पर भारत के साथ क्या बातचीत करेगा, अब बातचीत का वक्त निकल चुका है.

जब राजनाथ सिंह से सवाल पूछा गया कि क्या भारत भी उसी प्रकार की कार्रवाई कर सकता है जैसे अमेरिका ने अलकायदा प्रमुख ओसामा पर की थी. तो उन्होंने कहा कि अमेरिका को भी इस कार्रवाई करने में ढाई साल लगे थे, हमें इतना वक्त नहीं लगेगा. अभी आप प्रतीक्षा कीजिए, देश निराश नहीं होगा. 

अब लड़ी जाएगी निर्णायक लड़ाई

राजनाथ सिंह ने कहा कि आतंकवाद के खिलाफ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी वैश्विक समुदाय को एक मंच पर लाने में कामयाब हुए हैं. उन्होंने कहा कि आज दुनिया के तमाम देश पुलवामा हमले की आलोचना कर रहे हैं. अब निर्णायक लड़ाई का वक्त है, अब आतंकवाद पर जो लड़ाई होगी वह निर्णायक होगी. उनका कहना है कि चीन भी पुलवामा हमले के बाद हमारे साथ खड़ा हुआ है और पाकिस्तान एक दम अलग-थलग है.

कांग्रेस के आरोप बेबुनियाद

केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कांग्रेस की ओर से लगाए गए आरोपों पर कहा कि यह बहुत ही बेबुनियाद आरोप हैं और जवानों की शहादत पर राजनीति नहीं की जानी चाहिए. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री से ज्यादा संवेदनशील कोई नहीं हो सकता और हमले की सूचना मिलते ही उन्होंने लोगों से बातचीत करना शुरू कर दिया था. देश की सुरक्षा से जुड़े सवालों पर कांग्रेस को इस तरह की राजनीति नहीं करनी चाहिए.

PM को तुरंत मिली थी जानकारी

केंद्रीय गृह मंत्री बोले कि प्रधानमंत्री को तुरंत हमले की जानकारी दी गई और इसमें कोई भी देरी नहीं की गई थी. प्रधानमंत्री से इस तरह के सवाल करना ठीक नहीं है. अमित शाह के बयान पर राजनाथ ने कहा कि बीजेपी सरकार से मतलब है कि प्रधानमंत्री की अगुवाई में हम मजबूती से कदम बढ़ा रहे हैं.

हमले की जांच जारी है

'आजतक' से बातचीत में राजनाथ ने कहा कि NIA पुलवामा हमले की जांच कर रही है और हमें बगैर जांच के कोई बयान नहीं देना चाहिए. उन्होंने कहा कि विस्फोटक को लेकर भी तमाम बातें आ रही है, लेकिन जांच के बाद ही इस बारे में कुछ साफ कहा जा सकता है. जवानों को एयरलिफ्ट करने के सवाल पर राजनाथ ने कहा कि कांग्रेस के शासन में तो जम्मू से श्रीनगर के लिए सिर्फ 4 एयर कोरियर सेवा थीं उसे हमने बढ़ाकर 7 बार किया और फिर 4 दिन और बढ़ाया. राजनाथ ने कहा कि जवानों के सवाल पर हमारी सरकार बहुत संवेदनशील है और इस पर तुरंत कार्रवाई की जाती है.

नेताओं का संवेदनशील होना जरूरी

शहीद की अंतिम यात्रा में साक्षी महाराज की हंसते हुए तस्वीर पर राजनाथ ने कहा कि जनता के लिए नेताओं को संवेदनशील होना चाहिए, नहीं तो वह जनता की सेवा नहीं कर सकते. उन्होंने कहा कि ऐसा नहीं होना चाहिए था.

1971 में अटल जी ने की थी इंदिरा की तारीफ

राजनाथ सिंह ने कहा कि हमारे नेता अटल बिहारी वाजपेयी ने बांग्लादेश के उदय से पहले जो पाकिस्तान से युद्ध हुआ था, उस पर संसद में खड़े होकर इंदिरा गांधी तारीफ की थी. हमने उस समय सरकार के कदम की सराहना की थी. राजनाथ सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय सुरक्षा पर बीएस हुड्डा कांग्रेस को अच्छे सुझाव देंगे. उनका राजनीति से कोई-लेना देना नहीं है.

पुलवामा का देंगे मुहंतोड़ जवाब

गृहमंत्री ने कहा कि हमारी सरकार जनता के भरोसे को टूटने नहीं देगी और पुलवामा हमले का जवाब पुरजोर तरीके से दिया जाएगा. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री मोदी ने सख्त बयान दिया है और काम भी कठोरता के साथ किया जाएगा. पाकिस्तान से युद्ध के सवाल पर राजनाथ ने कहा कि इस बारे में अभी कुछ नहीं कहा जा सकता.

पाकिस्तान में मच गई है खलबली

उन्होंने कहा कि सीमा पर हमारे जवान और ज्यादा चौकन्ने हो गए हैं. पाकिस्तान में अब खलबली मच गई है और वहां सीमा से सटे गांवों को खाली कराया जा रहा है. राजनाथ ने कहा कि भारत क्या करेगा, इस बारे में कुछ नहीं कह सकता लेकिन प्रधानमंत्री ने साफ किया है कि हमने जवानों को खुली छूट दे रखी है, यह काफी सख्त बयान है.

सिर्फ धोखा देता है पाकिस्तान

उन्होंने कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि आतंकवाद पाकिस्तान में पैदा होता है और वहीं फलता-फूलता है. दुनियाभर में आतंकी घटनाओं के पीछे पाकिस्तान की साजिश रहती है. वह अब हाफिज सईद के संगठन को बैन कर दुनिया को धोखा देने की कोशिश कर रहा है, जो सिर्फ दिखावा है.

राजनाथ ने कहा कि पाकिस्तान तो आतंकियों को सुरक्षित ठिकानों पर छुपाने का काम कर रहा है. उन्होंने कहा कि हम पाकिस्तान को सबूत नहीं देने जा रहे हैं और हमारे लोगों के दिल में भी आग जल रही है.

गृहमंत्री ने कहा कि 'भारत के वीर' वेबसाइट से जवानों को काफी मदद मिल रही है और इसी वजह से 2016 में हमने यह वेबसाइट लॉन्च की थी. उन्होंने इसके लिए अभिनेता अक्षय कुमार का भी आभार जताया. अब किसी जवान के परिवार को एक करोड़ से कम की आर्थिक मदद नहीं मिल रही है, लेकिन यह सच है कि राशि से किसी व्यक्ति की जिंदगी का मूल्यांकन नहीं हो सकता, लेकिन इससे परिवार को सहायता जरूर मिलती है.

हमने कश्मीर दिखाई काफी दरियादिली

राजनाथ सिंह ने कहा कि हम जितनी दरियादिली दिखा सकते थे, हम दिखा चुके हैं. उन्होंने कहा कि उधर से जैसा व्यवहार दिखना चाहिए, वैसा नहीं हुआ. कश्मीर में कुछ लोग पाकिस्तान से पैसा लेते हैं, उनके इशारे पर काम करते हैं. वो लोग कश्मीर के जरिए भारत में अशांति का माहौल पैदा करने की कोशिश करते हैं.  इसी वजह से हमने अलगाववादियों की सुरक्षा वापस लेने का फैसला किया है. हम लोगों ने पीडीपी के साथ शांति और अमन की बहाली के लिए सरकार बनाई थी, लेकिन वह कोशिश नाकाम रही.

मोदी विरोध का मतलब राष्ट्र विरोध नहीं

गृहमंत्री ने कहा कि नरेंद्र मोदी के विरोध को राष्ट्र विरोध हमने आजतक नहीं कहा, लोकतंत्र में सभी को विरोध का अधिकार है. कश्मीर में धारा 370 के सवाल पर राजनाथ ने कहा कि जो कुछ भी करने की जरूरत होगी, वैसे कदम उठाने के लिए हम तैयार हैं.

कश्मीरी छात्रों पर हमले की घटनाओं पर राजनाथ सिंह ने कहा कि अगर ऐसी घटनाएं हुईं हैं तो यह बिल्कुल निंदनीय हैं. हमारे कश्मीर के नौजवानों के लिए किसी तरह का संकट न पैदा हो, इसके लिए तुरंत राज्य सरकारों को एडवाइजरी जारी की गई थी. हमारे कश्मीर के बच्चे जो अलग-अलग हिस्सों में पढ़ रहे हैं, उनकी सुरक्षा पर कोई आंच नहीं आने दी जाएगी.

आतंकी हमलों की जिम्मेदारी किसकी?

आतंकी घटनाओं के लिए किसी को जिम्मेदार ठहराना ठीक नहीं है. अगर ऐसे देखा जाए तो कितनी घटनाएं हुई हैं, कोई चूक हुई तो उसमें सुधार किया जाएगा. राजनाथ ने कहा कि देश से कहना चाहता हूं कि हमारी सरकार जनता के भरोसे को टूटने नहीं देगी और अभी जो कदम उठाए जा रहा हैं, वह सिर्फ शुरुआत है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay