एडवांस्ड सर्च

गुजरात के बाद राहुल गांधी पर अब कांग्रेस के 'पुर्नजन्म' की चुनौती

राहुल गांधी के लिए गुजरात चुनाव 'संजीवनी बूटी' साबित हुई. लेकिन उनकी सबसे बड़ी चुनौती उनकी खुद की कांग्रेस पार्टी है जिसका जनाधार देश में तेजी से गिरता जा रहा है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in दिल्ली, 20 December 2017
गुजरात के बाद राहुल गांधी पर अब कांग्रेस के 'पुर्नजन्म' की चुनौती राहुल गांधी

राहुल गांधी के लिए गुजरात चुनाव दो मायनों में बेहद यादगार रहेगा. पहला तो यह कि वह कांग्रेस के अध्यक्ष बने और दूसरा सियासत में उन्हें मोदी के खिलाफ एक मजबूत विपक्षी नेता के तौर पर उभार दिया.

सक्रिय राजनीति में आने के बाद राहुल ने काफी जोर-आजमाइश की लेकिन उनकी पार्टी को कई राज्यों में हार का मुंह देखना पड़ा. इस दौर में बीजेपी की ओर से कांग्रेस मुक्त भारत का नारा दिया गया और सोशल मीडिया में उनके नेतृत्व क्षमता पर सवाल उठाए जाने लगे और लोगों ने जमकर उनका मजाक भी उड़ाया.

गुजरात चुनाव से बदला माहौल

खैर, गुजरात चुनाव उनके लिए 'संजीवनी बूटी' साबित हुई और निरस हो चुके उनके राजनीतिक कैरियर में नया रंग और उत्साह भर दिया. उन्होंने पिछले चुनावों के उलट गुजरात में रहकर न सिर्फ लगातार प्रचार किया बल्कि लोगों से मिलते रहे और जनता का समर्थन हासिल करने के लिए वो सब कुछ किया जो एक मंझे हुए राजनेता करते हैं.

अब गुजरात चुनाव का परिणाम आ गया है और कांग्रेस जीती तो नहीं लेकिन राहुल की अगुवाई में बीजेपी को कड़ी टक्कर जरूर दी. उनके आलोचक अब उन्हें संजीदगी से लेंगे. हालांकि राहुल के रूप में विपक्षी नेता की जो छवि अभी बनती दिख रही है, उसे बनाए रखने के लिए उन्हें अभी काफी मेहनत करनी होगी.

राहुल गांधी को यह याद रखना होगा कि जिस पार्टी के वह मुखिया बने हैं, उसकी छवि अभी देश में अच्छी नहीं है. हर राज्य में उसे लगातार हार मिल रही है. वहीं नरेंद्र मोदी और अमित शाह के रूप में भाजपा का शीर्ष नेतृत्व लगातार 'कांग्रेस मुक्त' भारत की बात कर रहा है, अभी के जो हालात है उसके आधार पर वह अपने मिशन में कामयाब होता दिख भी रहा है. इस समय महज 4 राज्यों में ही कांग्रेस का शासन है जबकि 1991 में सिर्फ 4 राज्यों में शासन करने वाली भाजपा इस समय 19 राज्यों में सत्ता संभाले हुए हैं.

राहुल की चुनौतियां

कांग्रेस के नए अध्यक्ष राहुल गांधी के सामने ढेरों चुनौतियां है. गुजरात में कांग्रेस के प्रदर्शन को अच्छा समझा जा सकता है, लेकिन यह भी नहीं भूलना चाहिए कि वहां पर भाजपा 22 सालों से शासन में है और उसके खिलाफ सत्ता विरोधी लहर भी थी, बावजूद इसके वह सत्ता बचाने में कामयाब हो गई. राहुल को पार्टी मुख्यालय में पूर्ण बदलाव लाना ही होगा बल्कि राज्यों में अपनी पार्टी को मजबूत करना होगा. साथ ही स्थानीय स्तर पर निराश और हताश हो चुके अपने कार्यकर्ताओं में जोश भरना होगा. उन्होंने कुछ साल पहले पार्टी की मजबूत बनाने के लिए स्थानीय स्तर जो प्रयास शुरू किए थे, उसे फिर से अमल में लाना होगा.

कांग्रेस को अपने कट्टर प्रतिद्धंद्वी पार्टी भाजपा से यह सबक लेना चाहिए कि वह पश्चिम बंगाल, केरल, ओडिशा और तमिलनाडु जैसे उन राज्यों में अपनी पकड़ बनाने में जुटा है जहां उसका कोई जनाधार नहीं है. इसके उलट उनकी पार्टी ही ऐसी पार्टी है जिसका कभी देश के हर राज्य में जनाधार था. अब इसे फिर से संजोना राहुल की सबसे बड़ी चुनौती होगी.  

इस चुनाव के बाद उन्हें हर राज्य का दौरा करना होगा, और ज्यादा से ज्यादा कार्यकर्ताओं से मिलकर पार्टी को फिर से मुख्यधारा में लाने की योजना बनानी होगी. अगले साल कर्नाटक, राजस्थान, मध्य प्रदेश और छत्तीसगढ़ समेत 8 राज्यों में चुनाव है, उन्हें भी भाजपा की तर्ज पर अभी से चुनावी मिशन में जुट जाना चाहिए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay