एडवांस्ड सर्च

बनारस में पीएम मोदी को पहनाई गई थी पंचफूल की विशेष माला, जानिए क्या है इसका महत्व

चुनाव में प्रचंड जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 मई को पहली बार अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी पहुंचे. मोदी ने बाबा विश्वनाथ का रुद्राभिषेक किया और पंचफूल की माला, 303 श्वेत कमल से तैयार की गई 3 माला बाबा को अर्पित की.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 29 May 2019
बनारस में पीएम मोदी को पहनाई गई थी पंचफूल की विशेष माला, जानिए क्या है इसका महत्व पीएम मोदी को पहनाई गई थी पंचफूल की विशेष माला

लोकसभा चुनाव में प्रचंड जीत के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 27 मई को पहली बार अपने निर्वाचन क्षेत्र वाराणसी पहुंचे. मोदी ने बाबा विश्वनाथ का रुद्राभिषेक किया और पंचफूल की माला, 303 श्वेत कमल से तैयार की गई 3 माला बाबा को अर्पित की.

पूजा संपन्न होने के उपरांत गर्भगृह में मौजूद काशी विश्वनाथ न्यास के अध्यक्ष अशोक द्विवेदी ने मोदी के गले में पंचफूल की माला डाली. इस माला में बीच-बीच में बेला, गेंदा, कुंद, जूही के पुष्प गूंथे गये थे. बाबा को अर्पित करने के बाद मोदी को पहनाई गई यह माला दिखने में विशेष थी.

विशेष अवसरों पर ही चढ़ती है पंचफूल की माला

न्यास के अध्यक्ष अशोक द्विवेदी ने माला चढ़ाए जाने को सामान्य बताया, लेकिन मंदिर के ही पुजारी और इसे तैयार करने वाले अंकित भारती ने बताया कि इस माला का विशेष महत्व है. यह केवल विशेष पर्वों पर ही चढ़ाई जाती है.

उन्होंने कहा कि यह केवल श्रावण मास, शिवरात्रि पर और बैकुंठ चतुर्दशी के दिन ही चढ़ाई जाती है. प्रचंड जीत के साथ मोदी फिर से प्रधानमंत्री बनने जा रहे हैं, इसलिए मंदिर प्रबंधन की ओर से विशेष इंतजाम किया गया था. अंकित ने कहा कि रुद्राक्ष तो बाबा का प्रिय है ही, इसके साथ पंचफूल के भी जुड़ जाने पर बाबा विश्वनाथ अतिप्रसन्न होते हैं.

भाजपा के जितने सांसद, उतने कमल की माला भी की अर्पित

मोदी ने बाबा विश्वनाथ को 101 पुष्प से निर्मित 3 माला भी अर्पित की. कुल 303 श्वेत कमल से निर्मित माला चढ़ा मोदी ने समृद्धि की कामना की. गौरतलब है कि लोकसभा चुनाव में कमल निशान वाली पार्टी भाजपा ने 303 ही सीटें जीती हैं.

इस संबंध में मोदी की पूजा संपन्न करनेवाले आचार्यों में शामिल रहे पंडित श्रीकांत ने बताया कि श्वेत कमल शांति, खुशहाली और समृद्धि का प्रतीक है. मोदी ने भी इन्हीं कामनाओं के साथ यह माला चढ़ाई.

बता दें कि निवर्तमान पीएम मोदी को पहनाई गई यह विशेष माला अपनी बनावट के कारण चर्चा में आ गई थी. इसे लेकर तरह-तरह की चर्चाएं होने लगी थीं. राजनीतिक गलियारों में इसे टोटके से जोड़कर देखा जाने लगा था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay