एडवांस्ड सर्च

Opinion: नरेंद्र मोदी एक 'शपथ' और कई 'संदेश'

नरेन्द्र मोदी ने शपथ ग्रहण समारोह को देश के नाम संदेश का एक जरिया बना दिया. उन्होंने इससे कई तरह के संदेश दिए. एक कॉम्पैक्ट मंत्रिमंडल बनाकर उन्होंने सबसे बड़ा संदेश यह दिया कि वे बहुत बड़े सरकारी अमले या तामझाम में विश्वास नहीं करते हैं.

Advertisement
aajtak.in
मधुरेन्द्र सिन्हानई दिल्‍ली, 27 May 2014
Opinion: नरेंद्र मोदी एक 'शपथ' और कई 'संदेश'

नरेन्द्र मोदी ने शपथ ग्रहण समारोह को देश के नाम संदेश का एक जरिया बना दिया. उन्होंने इससे कई तरह के संदेश दिए. एक कॉम्पैक्ट मंत्रिमंडल बनाकर उन्होंने सबसे बड़ा संदेश यह दिया कि वे बहुत बड़े सरकारी अमले या तामझाम में विश्वास नहीं करते हैं. उनकी सोच सीधी सी यह है कि बड़ा मंत्रिमंडल उतना प्रभावी नहीं होता जितना एक कसा हुआ और समर्पित राजनेताओं का समूह. यूपीए सरकार में 70 मंत्री थे और हमने उनका काम-काज देखा और अब हम देखेंगे 45 मंत्रियों के काम-काज को. नौकरशाही भारत की सबसे बड़ी समस्या है.

सचिवालयों की भूलभुलैया में फाइलें गुम हो जाती हैं या प्रतीक्षा सूची में रह जाती हैं और कई तो ठंडे बस्ते में डाल दी जाती हैं. इस नौकरशाही को कसने के लिए समर्पित मंत्री चाहिए होते हैं न कि बहुत सारे मंत्री. नरेन्द्र मोदी ने यह एक बड़ा प्रयास किया है. अपने विश्वसनीय सहयोगियों को उन्होंने महत्वपूर्ण विभाग देकर यह तय कर दिया है कि आने वाले समय में उन्हें किसी तरह का विरोधाभास नहीं झेलना पड़ेगा यानी उनके सहयोगियों की राय वही होगी जो उनकी होगी.

इस तरह का तालमेल यूपीए सरकार में बहुत कम दिखा. नरेन्द्र ने कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों को स्वतंत्र प्रभार के राज्य मंत्रियों के हवाले तो किया है लेकिन उनकी मंशा साफ है कि वे खुद इनके काम काज की प्रगति का मुआयना करते रहेंगे. इनमें पेट्रोलियम और गैस के अलावा बिजली और कॉमर्स मंत्रालय भी है जो बहुत महत्वपूर्ण हैं और ज़ाहिर है कि प्रधानमंत्री उनके प्रोग्रेस पर नज़र रखेंगे क्योंकि ये देश की तरक्की से सीधे जुड़े मंत्रालय हैं. एक और बात है कि उन्होंने इस बात का ध्यान रखा कि बहुत बूढ़े नेता मंत्रिमंडल में न हों और कम उम्र के लोगों को सही प्रतिनिधित्व मिले.

चुनाव प्रचार के दौरान राहुल गांधी को लगातार शहज़ादे शब्द से संबोधित करके नरेन्द्र मोदी ने राजनीति में वंशवाद को पूरी तरह से नकारा था. उन्होंने इसे आगे बढ़ाते हुए अपने मंत्रिमंडल में ऐसे सिर्फ दो मंत्री बनाए जिनके घरवाले राजनीति में बड़ी हस्ती हैं. ये हैं पीयूष गोयल और हरसिमरत कौर. पीयूष गोयल हैं तो पूर्व मंत्री वेदप्रकाश गोयल के पुत्र लेकिन वह राजनीति में 27 वर्षों से जुड़े हुए हैं. इसी तरह हरसिमरत कौर पंजाब के सीएम प्रकाश सिंह बादल की पुत्रवधू हैं और अकाली दल के कोटे से मंत्री बनी हैं. यह एक बड़ी बात है क्योंकि यूपीए सरकार में तो वंशवाद अपने चरम पर था.

इस शपथ ग्रहण समारोह में नरेन्द्र मोदी ने नवाज़ शरीफ सहित सार्क के तमाम नेताओं को बुलाकर देश की विदेश नीति भी तय कर दी. आलोचकों द्वारा यह कहा जा रहा था कि अगर बीजेपी की सरकार आई तो वह अपने पड़ोसियों खासकर पाकिस्तान और बांग्लादेश के प्रति विद्वेषपूर्ण नीति रखेगी. लेकिन नरेन्द्र मोदी ने एक झटके में यह मिथक तोड़ दिया. उन्होंने एक ठोस विदेश नीति की नींव रख दी जिसके दूरगामी प्रभाव होंगे. उन्होंने जता दिया कि उनके पास मौलिक विचारधारा और पूर्वाग्रह रहित सोच है जिस पर चलकर वह देश को अंतरराष्ट्रीय रंगमंच पर फिर से स्थापित कर सकते हैं. उन्हें पता है कि पड़ोसियों से मित्रवत संबंध रखकर ही वह देश में विकास को बढ़ावा दे सकते हैं. नवाज़ शरीफ से सीधे संवाद करके उन्होंने दोस्ती की अपनी मंशा साफ कर दी है. ऐसे बहुत सारे संदेश नरेन्द्र मोदी ने दे दिए हैं और अब आने वाले समय में हम देखेंगे कि कैसे वह अपनी चुनावी घोषणाओं को कार्यान्वित करते हैं. नरेन्द्र मोदी जानते हैं कि इस सरकार से उम्मीदें बहुत हैं और इसलिए उन्होंने पहले दिन से ही उसे पूरा करने की शुरूआत कर दी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay