एडवांस्ड सर्च

NRI भाइयों ने पत्नियों को WHATSAPP किया - 'तलाक, तलाक, तलाक, केस दर्ज

पिछले हफ्ते मोगलपुरा इलाके की माहरीन नूर को उसके पति मोहम्मद अब्दुल अकील ने न्यूयॉर्क से व्हाट्सऐप पर तीन बार तलाक लिखकर भेज दिया. अकील उर्फ उस्मान कुरैशी सेवन हैवन मेडिकल एजेंसी में सीनियर अनैलिस्ट है. उसने 2015 में माहरीन से शादी की थी और कुछ वक्त तक पत्नी के साथ रहने के बाद वो न्यूयॉर्क चला गया था. खबरों के मुताबिक उस्मान ने व्हाट्सऐप डिस्प्ले पिक्चर (डीपी) पर भी तीन तलाक की फोटो लगा दी.

Advertisement
aajtak.in
लव रघुवंशी हैदराबाद, 05 March 2017
NRI भाइयों ने पत्नियों को WHATSAPP किया - 'तलाक, तलाक, तलाक, केस दर्ज  व्हाट्सऐप पर तलाक कितना जायज?

शादी को जन्मों का साथ माना जाता है. लेकिन नई तकनीक और पुरानी रिवायतों का मेल इसे चुटकियों में तोड़ भी सकता है. हैदराबाद में एक ही परिवार की दो बहुओं को उनके पतियों ने व्हाट्सऐप पर तलाक दे दिया.

पिछले हफ्ते मोगलपुरा इलाके की माहरीन नूर को उसके पति मोहम्मद अब्दुल अकील ने न्यूयॉर्क से व्हाट्सऐप पर तीन बार तलाक लिखकर भेज दिया. अकील उर्फ उस्मान कुरैशी सेवन हैवन मेडिकल एजेंसी में सीनियर अनैलिस्ट है. उसने 2015 में माहरीन से शादी की थी और कुछ वक्त तक पत्नी के साथ रहने के बाद वो न्यूयॉर्क चला गया था. खबरों के मुताबिक उस्मान ने व्हाट्सऐप डिस्प्ले पिक्चर (डीपी) पर भी तीन तलाक की फोटो लगा दी.

कुछ हफ्ते पहले उस्मान के भाई फय्याजुद्दीन कुरैशी ने भी अपनी पत्नी हिना फातिमा को तलाक देने के लिए यही तरीका अपनाया था. उस्मान की तरह फय्याजुद्दीन भी अमेरिका में रहता है. उसने हिना से 2013 में शादी की थी.

इंसाफ की जंग
व्हाट्सऐप पर तलाक के बाद ससुरालवालों ने माहरीन को घर से निकाल दिया. मजबूरन उसे 27 फरवरी को पुलिस के पास शिकायत दर्ज करवानी पड़ी. इसके बाद ससुर हफीज और सास आतिया को गिरफ्तार कर लिया गया है. दोनों एनआरआई पतियों के खिलाफ कार्रवाई के लिए कानूनी सलाह ली जा रही है. दोनों पीड़ित पत्नियों ने अपने ससुराल के बाहर विरोध प्रदर्शन भी किया था. लेकिन घरवालों ने उन्हें भीतर नहीं घुसने दिया. हिना और माहरीन दोनों ने अब हक की लड़ाई लड़ने का फैसला किया है. हिना ने कहा- 'शरिया कानून में आपको तलाक देने का हक है. लेकिन हमारे बच्चों का क्या होगा? क्या उसी शरिया कानून में पिता को बच्चों का ख्याल रखने के लिए नहीं कहा गया है?

तीन तलाक पर विवाद
पिछले कुछ वक्त से तीन तलाक के मसले पर बहस जारी है. सुप्रीम कोर्ट ने पिछले दिनों तीन तलाक की वैधता पर संवैधानिक बेंच का गठन किया था. केंद्र सरकार ने अदालत को बताया था कि वो इस प्रथा के खिलाफ है क्योंकि महिलाओं के अधिकारों के साथ धार्मिक रिवाजों के नाम पर समझौता नहीं हो सकता. हालांकि ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने तीन तलाक का समर्थन किया है. मुस्लिम महिलाओं में इसे लेकर राय बंटी है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay