एडवांस्ड सर्च

लंदन में नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज, 30 मई को होगी अगली सुनवाई

कोर्ट ने तीसरी बार भगोड़ा कारोबारी नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर दी है. सुनवाई की शुरुआत में ईडी ने कहा कि परिस्थितियों में कुछ भी बदलाव नहीं हुआ है इसलिए नीरव मोदी को बेल नहीं मिलनी चाहिए.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: पुनीत सैनी]नई दिल्ली, 08 May 2019
लंदन में नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज, 30 मई को होगी अगली सुनवाई नीरव मोदी (फाइल फोटो)

वेस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट की कोर्ट ने बुधवार को नीरव मोदी की तीसरी बार जमानत याचिका खारिज कर दी. इस मामले की अगली सुनवाई 30 मई को होगी. अगली सुनवाई पर नीरव मोदी को कोर्ट में पेश होना होगा. अगली सुनवाई तक नीरव मोदी को जेल में रहना होगा.

सफेद कमीज, क्लीन शेव में पेश हुए नीरव मोदी ने कोर्ट को 2 मिलियन पाउंड बेल बॉन्ड और 24 घंटे कर्फ्यू में रहने के लिए कहा था, लेकिन कोर्ट ने उनकी जमानत याचिका स्वीकार नहीं की.

नीरव मोदी के वकील ने आरोप लगाया कि ईडी ने लोगों को नीरव मोदी के खिलाफ बोलने के लिए उकसाया. मोदी के वकील ने कोर्ट में कहा 'नीरव मोदी की यात्रा के बारे में पूछे जाने के बावजूद भारत सरकार ने कोई प्रमाण नहीं दिया. उनका (नीरव मोदी) रद्द किया जा चुका था इसलिए वह यात्रा नहीं कर सकते थे.' भारतीय एजेंसियों ने आरोप लगाया था कि नीरव मोदी ने रद्द किए जा चुके पासपोर्ट और रेड कॉर्नर नोटिस जारी होने के बावजूद यात्रा की थी.

क्राउन प्रोसिक्यूशन सर्विस ने भारतीय एजेंसियों का कोर्ट में प्रतिनिधित्व किया. CPS ने आरोप लगाया कि नीरव मोदी की टीम ने दस्तावेज और मोबाइल फोन चीन में नष्ट किए थे. परब सुभाष शंकर भी इसमें मोदी के साथ शामिल था और वह इजिप्ट में अपना बिजनेस सेटअप कर रहा था. इजिप्ट में बिजनेस सेट करने के लिए मोदी और उसका साथी डायरेक्टर स्थापित करने की प्रक्रिया में था. सीपीएस ने कोर्ट में कहा कि परिस्थितियों में कुछ भी बदलाव नहीं हुआ है इसलिए नीरव मोदी को जमानत नहीं मिलनी चाहिए.  सुनवाई के बाद जज ने नीरव मोदी की जमानत याचिका खारिज कर दी.

भगोड़ा हीरा कारोबारी नीरव मोदी बुधवार को ब्रिटेन की अदालत के समक्ष जमानत के लिए तीसरी बार अपील की है. इससे पहले दो बार उसकी अर्जी खारिज हो चुकी है. पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी) में दो अरब डॉलर की धोखाधड़ी और मनी लांड्रिंग के आरोपी नीरव मोदी को भारत लाने का प्रयास किया जा रहा है. लंदन में वेंस्टमिंस्टर मजिस्ट्रेट अदालत में मुख्य मजिस्ट्रेट एम्मा आर्बुथनॉट आठ मई को नीरव मोदी की तीसरी अपील पर सुनवाई कर रहा है.

इस मामले में 26 अप्रैल को पिछली सुनवाई के दौरान मोदी जज आर्बुथनॉट के समक्ष वीडियो लिंक के जरिए पेश हुआ था, उस समय मोदी के वकीलों ने उसकी जमानत की अपील नहीं की थी और उसे 24 मई तक न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया था. इससे पहले उसकी जमानत की दो याचिकाओं को अदालत ने इस आधार पर खारिज कर दिया था कि इस बात की काफी संभावना है कि वह आत्मसमर्पण नहीं करेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay