एडवांस्ड सर्च

मोदी कैबिनेट की बैठक आज, NIA को और शक्तिशाली बनाने की तैयारी

एनआईए अब तक केवल संगठनों को 'आतंकवादी संगठन' के रूप में घोषित करती रही है लेकिन कानून में संशोधन के बाद वह व्यक्ति को भी आतंकवादी घोषित कर सकती है. मुंबई आतंकवादी हमले के बाद 2009 में एनआईए का गठन किया गया था.

Advertisement
aajtak.in [Edited by: विशाल कसौधन/रविकांत सिंह]नई दिल्ली, 24 June 2019
मोदी कैबिनेट की बैठक आज,  NIA को और शक्तिशाली बनाने की तैयारी एनआईए की फाइल फोटो (IANS)

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में सोमवार को कैबिनेट की बैठक होगी. इस बैठक में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को और अधिकार देने के लिए दो कानूनों में संशोधन करने पर फैसला होगा. एनआईए कानून में संशोधन होने के बाद यह जांच एजेंसी विदेश में भारतीयों और भारतीय हितों के खिलाफ आतंकवादी गतिविधियों की जांच कर सकेगी.

कैबिनेट बैठक के बाद संशोधित कानून को इस हफ्ते संसद में पेश किया जा सकता है. संशोधन एनआईए को साइबर अपराध और मानव तस्करी के मामलों की जांच करने की भी इजाजत देगा. साथ ही गैरकानूनी गतिविधियां (रोकथाम) कानून की अनुसूची चार में संशोधन से एनआईए उस व्यक्ति को आतंकवादी घोषित कर पाएगी, जिस पर आतंकवाद से संबंध होने का संदेह हो. अब तक, केवल संगठनों को 'आतंकवादी संगठन' के रूप में घोषित किया जाता है. 2017 से केंद्रीय गृह मंत्रालय दो कानूनों पर विचार कर रहा है ताकि एनआईए और शक्तिशाली हो सके. मुंबई आतंकवादी हमले के बाद 2009 में एनआईए का गठन किया गया था.

इस दर्दनाक घटना में 166 लोगों की मौत हुई थी. केंद्रीय गृह मंत्रालय काफी अर्से से दो कानूनों पर विचार कर रहा है ताकि नई चुनौतियों से निपटने के लिए एनआईए को और शक्ति मिल सके. इसमें साइबर अपराध और किसी व्यक्ति को आतंकी घोषित करने का अधिकार खास है क्योंकि दिनों दिन इसके खतरों में बहुत तेजी से बढ़ोतरी देखी जा रही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay