एडवांस्ड सर्च

जीडीपी के इन आंकड़ों में खुशी कम और गम ज्यादा?

यह आंकड़ा महज अप्रैल, मई और जून 2018 का है. इससे पहले पिछले वित्त वर्ष के दौरान विकास दर 5.3 फीसदी रही और मौजूदा आंकड़े इस 5.3 फीसदी की ग्रोथ को आधार बनाते हुए दिए गए हैं. लिहाजा, इन आंकड़ों का ज्यादा दिन तक स्थाई रहना जरूरी नहीं...

Advertisement
aajtak.in
राहुल मिश्र नई दिल्ली, 03 September 2018
जीडीपी के इन आंकड़ों में खुशी कम और गम ज्यादा? जीडीपी के आंकड़ों पर सवाल

चालू वित्त वर्ष की पहली तिमाही के जीडीपी आंकड़े केन्द्र सरकार के लिए बड़ी राहत लेकर आई है. हालांकि आर्थिक जानकारों का दावा है कि पहली तिमाही के आंकड़ों में आर्थिक स्थिति का वह जायजा नहीं मिलता जिससे किसी को खुश होने की वजह मिले.

ऐसा इसलिए कि जहां चौथी तिमाही का आंकड़ा पूरे एक साल के आर्थिक विकास की दिशा को साफ दर्शाते हैं, वहीं पहली तिमाही के आंकड़े महज त्वरित अनुमान पर आधारित रहते हैं. लिहाजा पहली तिमाही का आंकड़ा संकेत मात्र देता हैं कि अगली तीन तिमाही में अर्थव्यवस्था कैसा कर सकती है.

वित्त वर्ष 2018-19 की पहली तिमाही (अप्रैल-जून) के दौरान विकास दर दो साल के शीर्ष स्तर 8.2 फीसदी पर पहुंच गई. गौरतलब है कि इस तिमाही के दौरान ग्रॉस वैल्यू एडेड (जीवीए) ग्रोथ रेटट 8 फीसदी रहा और यह आंकड़े उत्पादक अथवा सप्लाई के मुताबिक ग्रोथ का आंकलन देते हैं वहीं जीडीपी आंकड़ा उपभोक्ता अथवा डिमांड को केन्द्र में रखते हुए आंकलन को दर्शाता है. गौरतलब है कि पिछले वित्त वर्ष की आखिरी तिमाही के दौरान विकास दर 7.7 फीसदी रही वहीं इसी वित्त वर्ष की पहली तिमाही में ये आंकड़ा 5.59 फीसदी पर रहा.

जीडीपी आंकड़ों के आधार पर केन्द्र सरकार में आर्थिक मामलों के सचिव एससी गर्ग का दावा है कि देश की आर्थिक स्थिति सामान्य हो चुकी है. गर्ग ने कहा कि इससे पहले 8 फीसदी की विकास दर 2016-17 की पहली तिमाही में दर्ज हुई थी. अब 8 तिमाहियों के बाद 8 फीसदी के ऊपर की ग्रोथ दर्ज हुई है. इसका साफ मतलब है कि देश की आर्थिक स्थिति सामान्य होने के साथ-साथ अब अर्थव्यवस्था तेज रफ्तार से दौड़ने के रास्ते पर पहुंच गई है.

केन्द्र सरकार के सचिव के दावों पर पूर्व वित्त मंत्री और कांग्रेस नेता पी चिदंबरम की दलील है कि जीडीपी आंकड़े महज आंकड़े हैं. वहीं अर्थव्यवस्था की वास्तविक स्थिति का आंकलन डॉलर के मुकाबले रुपये में दर्ज हो रही गिरावट से किया जा सकता है.

बैंकिंग कर्मचारियों की संस्था का दावा है कि केन्द्र सरकार के ये आंकड़े अधिक दिनों तक राहत नहीं देंगे. बैंकिंग संस्था के वाइस प्रेसीडेंट विश्वास उतागी ने कहा कि ग्रोथ का यह आंकड़ा महज अप्रैल, मई और जून 2018 का है. इससे पहले पिछले वित्त वर्ष के दौरान विकास दर 5.3 फीसदी रही और मौजूदा आंकड़े इस 5.3 फीसदी की ग्रोथ को आधार बनाते हुए दिए गए हैं. विश्वास का दावा है कि जहां बीती नौ तिमाही के दौरान लगातार विकास दर में गिरावट दर्ज हो रही थी वहीं 2019 क पहली तिमाही में 8 फीसदी से अधिक ग्रोथ ज्यादा दिन तक कायम नहीं रहेगी.

वहीं इंडिया टुडे के संपादक अंशुमान तिवारी का कहना है कि 8.2 फीसदी की जीडीपी विकास दरे मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर में 13.5 फीसदी की दर्ज ग्रोथ के आधार पर है. हालांकि इन दोनों आंकड़ों में अहम विरोधाभास है. पहली तिमाही के ग्रोथ आंकड़ों में मैन्यूफैक्चरिंग सेक्टर के ग्रोथ आंकड़ों को इस दौरान हुए जीएसटी कलेक्शन से बल नहीं मिल रहा है. वहीं सर्विस सेक्टर में दर्ज हुई सिंगल डिजिट ग्रोथ से निजी क्षेत्र के निवेश को बल नहीं मिलता. इन दोनों विरोधाभास के चलते इन आंकड़ों के आधार पर नहीं कहा जा सकता कि देश की अर्थव्यवस्था पटरी पर लौट चुकी है.

लिहाजा, पहली तिमाही में 8.2 फीसदी की ग्रोथ एक अच्छा संकेत है लेकिन इसे अर्थव्यवस्था की मौजूदा चुनौतियों के खत्म होने का संकेत नहीं माना जा सकता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay