एडवांस्ड सर्च

मनी लॉन्ड्रिंग केस: 5 लाख के निजी मुचलके पर सतीश सना बाबू को जमानत

मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपी सतीश सना बाबू को जमानत मिल गई है. दिल्ली की एक कोर्ट ने 5 लाख रुपये के निजी मुचलके पर सतीश बाबू को जमानत दी है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सतीश बाबू को 27 जुलाई को गिरफ्तार किया था.

Advertisement
aajtak.in
मुनीष पांडे नई दिल्ली, 19 August 2019
मनी लॉन्ड्रिंग केस: 5 लाख के निजी मुचलके पर सतीश सना बाबू को जमानत प्रवर्तन निदेशालय

मीट कारोबारी मोइन कुरैशी के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपी सतीश सना बाबू को जमानत मिल गई है. दिल्ली की एक कोर्ट ने 5 लाख रुपये के निजी मुचलके पर सतीश बाबू को जमानत दी है. प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) ने सतीश बाबू को 27 जुलाई को गिरफ्तार किया था.

गिरफ्तारी के बाद सीबीआई की विशेष अदालत ने सतीश बाबू को प्रवर्तन निदेशालय की हिरासत में भेज दिया था. बचाव पक्ष के वकील मोहम्मद वसी खान का तर्क था कि उनका मुवक्किल शुरू से ही ईडी के साथ सहयोग कर रहा है और जांच में शामिल भी हो गया है. वकील ने कहा, "वह ईडी कार्यालय आए और उन्होंने उसे गिरफ्तार कर लिया."

उन्होंने अदालत को यह भी बताया कि बाबू इस मामले में एक प्रमुख गवाह था, लेकिन अब एक आरोपी में बदल दिया गया है, जबकि मुख्य आरोपी मोइन कुरैशी जमानत पर बाहर है.

बाबू ने भ्रष्टाचार के मामले में मदद करने की एवज में वरिष्ठ सीबीआई अधिकारियों पर रिश्वत लेने का आरोप लगाया था. इसके बाद ही कुरैशी के गलत कामों में बाबू की भूमिका सामने आई. बाबू द्वारा यह बयान तत्कालीन सीबीआई निदेशक आलोक वर्मा और विशेष निदेशक राकेश अस्थाना के बीच हुई अनबन के दौरान दिया गया था.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay