एडवांस्ड सर्च

कश्मीर में नाबालिगों को हिरासत में लेने के मामले में SC ने JJB से मांगी रिपोर्ट

कश्मीर में नाबालिगों को हिरासत में लिए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कश्मीर की किशोर न्याय समिति (जेजेबी) से बच्चों को हिरासत में लेने पर रिपोर्ट तलब की है. सुप्रीम कोर्ट ने जेजेबी से हफ्ते भर में रिपोर्ट मांगी है.

Advertisement
aajtak.in
संजय शर्मा नई दिल्ली, 20 September 2019
कश्मीर में नाबालिगों को हिरासत में लेने के मामले में SC ने JJB से मांगी रिपोर्ट श्रीनगर में तैनात CRPF के जवान (फाइल फोटो-एएनआई)

  • श्रीनगर में नाबालिगों को हिरासत में लेने का मामला
  • सुप्रीम कोर्ट ने जेजेबी से मांगी रिपोर्ट

कश्मीर में नाबालिगों को हिरासत में लिए जाने का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कश्मीर की किशोर न्याय समिति (जेजेबी) से बच्चों को हिरासत में लेने पर रिपोर्ट तलब की है. सुप्रीम कोर्ट ने जेजेबी से हफ्ते भर में रिपोर्ट मांगी है. अब जेजेबी इस बात की जांच करेगी कि क्या श्रीनगर में नाबालिगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है या फिर हिरासत में लिया है? इसके बाद जेजेबी एक सप्ताह में सुप्रीम कोर्ट में रिपोर्ट सौंपेगी.

सुनवाई के दौरान चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा कि जम्मू कश्मीर में बाल अधिकारों से जुड़े मामलों को लेकर राज्य हाईकोर्ट की चीफ जस्टिस की रिपोर्ट सुप्रीम कोर्ट को मिली है. रिपोर्ट याचिकाकर्ता के आरोपों को सपोर्ट नहीं करती. रिपोर्ट के मुताबिक, लड़के को डिटेन किया गया था, लेकिन जैसे ही पता चला कि वो नाबालिग है उसे जेजेबी में भेज दिया गया. अदालत में सरकार ने कहा कि नाबालिगों से जुड़े मामलों में पूरी सावधानी बरती जा रही है.

इस मामले की पिछली सुनवाई में याचिकाकर्ता इनाक्षी गांगुली की तरफ से आरोप लगाया गया था कि कश्मीर में बाल अधिकारों का हनन हो रहा है. जब चीफ जस्टिस ने हाईकोर्ट जाने को कहा तो याचिकाकर्ता ने बताया कि जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट तक इस समय पहुंचने में दिक्कत है. वह पहुंच से दूर है. तब चीफ जस्टिस ने कहा था कि ये आरोप बेहद गंभीर है. इस बाबत कोर्ट ने जम्मू कश्मीर हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस से रिपोर्ट मांगी थी.

बता दें कि 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद-370 हटाने के बाद सरकार ने एहतियान कुछ पाबंदियां जम्मू-कश्मीर में लगाई थीं. कई गैर सरकारी संगठन और एक्टिविस्ट सरकार की इन पाबंदियों का विरोध कर रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay