एडवांस्ड सर्च

कार्ति चिदंबरम की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, UK में बेनामी संपत्तियों का हुआ खुलासा

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ सकती है. दरअसल, प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कार्ति की बेनामी संपत्तियों का पता लगाया है. ईडी ने जांच के दौरान कार्ति के दस्तावेज, ईमेल और हार्डवेयर सीज किए हैं. सूत्रों के मुताबिक कार्ति के ईमेल से यूके में कार्ति की बेनामी संपत्तियों का पता चला है.

Advertisement
aajtak.in
मुनीष पांडे नई दिल्ली, 23 August 2019
कार्ति चिदंबरम की बढ़ सकती हैं मुश्किलें, UK में बेनामी संपत्तियों का हुआ खुलासा कार्ति चिदंबरम (फाइल फोटो)

पूर्व वित्त मंत्री पी. चिदंबरम के बेटे कार्ति चिदंबरम की मुश्किलें बढ़ सकती हैं. दरअसल, प्रवर्तन निदेशालय (ED) ने कार्ति की बेनामी संपत्तियों का पता लगाया है. ईडी ने जांच के दौरान कार्ति के दस्तावेज, ईमेल और हार्डवेयर सीज किए हैं. सूत्रों के मुताबिक कार्ति के ईमेल से यूके में कार्ति की बेनामी संपत्तियों का पता चला है.

ईडी के सूत्रों ने इंडिया टुडे को बताया है कि कार्ति चिदंबरम से जुड़े मामलों की जांच के दौरान उन्होंने कार्ति के प्रॉपर्टी डीलर लोरेन मूनी और सीबीएन रेड्डी के बीच ईमेल के बारे में पता लगाया. इस कथित ईमेल में कार्ति चिदंबरम को भी मार्क किया गया था. सूत्रों के मुताबिक ईडी ने संपत्तियों के दस्तावेजों के आधार पर आरोप लगाया है कि कार्ति ने अपनी बेनामी संपत्ति को बनाए रखने के लिए डीलर को संपत्ति के लिए 1000 पाउंड की रकम दी थी. वहीं जांच एजेंसी ने कार्ति के संपत्ति डीलर के जरिए हासिल जमीन के किराए का चालान संलग्न किया है.

सूत्रों का दावा है कि इन अचल संपत्तियों को गैरकानूनी तौर से कमाए गए धन से खरीदा गया था. यह उन विदेशी संपत्तियों का हिस्सा है, जिन्हें ईडी ने ट्रैक किया है. वहीं कार्ति चिदंबरम अपने पिता के साथ कई दूसरे संदिग्ध लेन-देन के मामलों में भी ईडी के रडार पर हैं. पी चिदंबरम और उनके परिवार का नाम एयरसेल मैक्सिस, आईएनएक्स मीडिया, डियाजियो स्कॉटलैंड और कटारा होल्डिंग्स सहित कई मामलों में सामने आ चुका है.

शेल कंपनियों की पहचान

इसके साथ ही जांच एजेंसी ने कई ऐसी शेल कंपनियों की पहचान की है, जो भारत और विदेश में पंजीकृत हैं. इनमें से एक शेल कंपनी का 300 करोड़ रुपये से अधिक का निवेश था. पूर्व मंत्री के बेटे कार्ति चिदंबरम के स्वामित्व वाली शेल कंपनी को ब्रिटिश वर्जिन आइलैंड स्थित एक कंपनी से भी काफी भुगतान मिला था और यह कंपनी पनामा पेपर्स में भी सामने आ चुकी है.

सूत्रों ने कहा कि शेल कंपनियों में पैसा चिदंबरम के परिवार को दिया गया था और उनका इस्तेमाल उन्होंने निजी खर्च के लिए किया गया था. ईडी दस्तावेजों के मुताबिक, इन शेल कंपनियों में जमा रकम का इस्तेमाल पी चिदंबरम और कार्ति चिदंबरम के निजी खर्च को पूरा करने, 2 दर्जन से ज्यादा विदेशी बैंक खातों को खोलने और उनमें राशि जमा करने के अलावा मलेशिया, स्पेन, यूके आदि में कई संपत्तियां खरीदने के लिए किया गया.

हालांकि कार्ति ने आरोपों का खंडन किया है. कार्ति चिदंबरम ने कहा, 'मैं किसी भी शेल कंपनी के बारे में नहीं जानता और आरोप निराधार हैं.'

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay