एडवांस्ड सर्च

फिर अनलकी हुआ 99: राजनीति हो या खेल, हर ओर 99 का फेर, जो फंसा वो हो गया फेल

एचडी कुमारस्वामी की सरकार 224 सदस्यीय विधानसभा में विश्वास मत में महज 99 मत ही हासिल कर सकी जबकि विरोध में कुल 105 मत पड़े. कुमारस्वामी ही अकेले ऐसे नहीं है जो 99 के फेर में पड़े और घाटे में चले गए. 99 के फेर में फंसने वाले और लोग भी हैं.

Advertisement
aajtak.in
सुरेंद्र कुमार वर्मा नई दिल्ली, 24 July 2019
फिर अनलकी हुआ 99: राजनीति हो या खेल, हर ओर 99 का फेर, जो फंसा वो हो गया फेल कुमारस्वामी की सरकार विश्वास मत में 99 वोट ही पा सकी (IANS)

कर्नाटक की राजनीति का वर्तमान अध्याय आखिरकार 99 के फेर में फंसकर खत्म हो गया. 18 जुलाई से चल रही बहस के बाद कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस की कुमारस्वामी की सरकार विश्वास मत हासिल नहीं कर सकी और उन्हें इस्तीफा देना पड़ गया. इस सरकार को गिरने से बचाने के लिए मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी ने काफी कोशिश की, लेकिन सरकार को बचाने में नाकाम रहे. यह सरकार महज 426 दिन ही चल सकी.

एचडी कुमारस्वामी की सरकार 224 सदस्यीय विधानसभा में विश्वास मत में महज 99 मत ही हासिल कर सकी जबकि विरोध में कुल 105 मत पड़े. कुमारस्वामी ही अकेले ऐसे नहीं है जो 99 के फेर में पड़े और घाटे में चले गए. एक नजर डालते हैं जब कोई पार्टी या लोग 99 के फेर में फंसे और मुसीबत में पड़ गए.

कांग्रेस के लिए एक और 99 का फेर

कर्नाटक में सरकार बचाने की पर्दे की पीछे की लाख कोशिशों के बाद भी सरकार पक्ष में 99 मत ही हासिल कर सकी और सरकार गिर गई. हालांकि सरकार में साझीदार रही कांग्रेस पहले भी 99 के फेर में फंस चुकी है.

पिछले साल राजस्थान विधानसभा चुनाव में कांग्रेस बीजेपी को हराने में कामयाब रही, लेकिन 200 सदस्यीय विधानसभा सीट में 199 सीटों पर हुए चुनाव में कांग्रेस के खाते में 99 सीटें ही आईं और वह बहुमत से 1 सीट दूर रह गई, जबकि बीजेपी को 73 सीटों से ही संतोष करना पड़ा. सरकार बनाने के लिए कांग्रेस को 100 सीट चाहिए थी, बाद में 6 सीट जीतने वाली बीएसपी के समर्थन से पार्टी सरकार बनाने में कामयाब रही. हालांकि बाद में एक सीट पर हुए उपचुनाव में जीत हासिल कर कांग्रेस ने 100 के आंकड़े को पार कर लिया.

बीजेपी ने भी देखा 99 का फेर

99 के फेर में फंसकर एचडी कुमारस्वामी की सरकार भले ही गिर गई हो, लेकिन करीब डेढ़ साल पहले ऐसी ही एक स्थिति भारतीय जनता पार्टी के सामने भी आई थी जब 2017 में गुजरात विधानसभा चुनाव में बीजेपी 2 अंकों पर सिमट गई यानी उसके खाते में 99 सीटें ही आईं.

गुजरात में नरेंद्र मोदी युग के शुरू होने के बाद राज्य में पार्टी का यह सबसे खराब प्रदर्शन रहा और यह तब हुआ जब उनके देश के प्रधानमंत्री रहते पार्टी ने चुनाव लड़ा. साथ ही बीजेपी जब से गुजरात में सत्ता में आई है तब से लेकर उसका यह खराब प्रदर्शन रहा.

99 के फेर में भी सचिन तेंदुलकर 'मास्टर'

99 का फेर बेहद बुरा होता है और क्रिकेट के मैदान में इसे बेहद नापसंद किया जाता है. कोई भी क्रिकेटर इस अप्रिय स्थिति का सामना नहीं करना चाहता. अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में सबसे ज्यादा रन बनाने का वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाने वाले मास्टर ब्लास्टर सचिन तेंदुलकर के नाम 99 के फेर में फंसने का भी वर्ल्ड रिकॉर्ड है. सचिन वनडे क्रिकेट में एकमात्र ऐसे बल्लेबाज हैं जो एक, दो नहीं बल्कि 3 बार 99 रन के स्कोर पर आउट हुए.

सचिन तेंदुलकर एक ही साल (2007) में 3 बार 99 के स्कोर पर आउट हुए. 26 जून 2007 को वह दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ, फिर 24 अगस्त को इंग्लैंड के खिलाफ और 8 नवंबर को पाकिस्तान के खिलाफ अपने 99 के स्कोर को 100 में बदल नहीं सके और वर्ल्ड रिकॉर्ड बना बैठे.

पंकज रॉय भारत के पहले बल्लेबाज

अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इतिहास में 99 के फेर में फंसने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर का नाम है पंकज रॉय. 12 दिसंबर, 1959 को दिल्ली टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बल्लेबाजी के दौरान 99 रन पर आउट हो गए थे. वह दुनिया के 18वें और भारत के पहले टेस्ट बल्लेबाज थे जो 99 के स्कोर पर आउट हो गए.

जहां तक वनडे क्रिकेट में पहले भारतीय बल्लेबाज का सवाल है तो यह अनचाहा रिकॉर्ड कृष्णमचारी श्रीकांत के नाम है जो 27 दिसंबर, 1984 को कटक वनडे में इंग्लैंड के खिलाफ 99 रन पर आउट हो गए थे.

गेंदबाजी में उलझाने वाले शेन वॉर्न बल्लेबाजी में उलझ गए

क्रिकेट में पहले 99 के फेर का सामना आज से 117 साल पहले ओवरऑल 66वें टेस्ट मैच में हुआ था जिसका शिकार बने ऑस्ट्रेलिय के क्लेम हिल जो इंग्लैंड के खिलाफ मैच में 99 रन पर आउट हो गए.

अपनी फिरकी से जादू दिखाने वाले फिरकी गेंदबाज शेन वॉर्न के लिए 99 का स्कोर हमेशा अनचाहा बना रहेगा क्योंकि वह टेस्ट इतिहास में पहली बार शतक के करीब पहुंचे थे, लेकिन 99 के स्कोर पर आउट हो गए और उनका सपना अधूरा का अधूरा रह गया. 30 नवंबर 2001 को पर्थ टेस्ट में न्यूजीलैंड के खिलाफ वह 99 के स्कोर से आगे नहीं बढ़ सके. इस फेर के बाद वॉर्न ने 50 और टेस्ट मैच खेला, लेकिन वह कभी स्कोर को पार नहीं कर सके.

जंगल में एक ही दिन में 99 आग

अमेरिका के कूटेनाई नेशनल फॉरेस्ट में 15-16 अगस्त 2000 को अचानक आग लग गई, लेकिन करीब 5000 एकड़ क्षेत्र में फैले जंगल में एक-दो जगह नहीं बल्कि एक ही दिन में 99 जगहों पर आग लग गई. आग बुझाने के लिए 99 टीमों को ऑपरेशन में लगाया गया. इस आग से बड़ी संख्या में पेड़ और जीव-जन्तु जल गए.

हालांकि एक दिन बाद आग की संख्या बढ़कर 100 हो गई. कुल मिलाकर आग की संख्या बढ़ते हुए कुछ दिनों में 160 जगहों में आग लग गई.

99 नहीं 199 का भी फेर

क्रिकेट में मोहम्मद अजहरुद्दीन और लोकेश राहुल ऐसे अनलकी भारतीय बल्लेबाज हैं जो टेस्ट में 199 रन के स्कोर पर आउट हो गए. 99 टेस्ट मैच खेलने वाले अजहरुद्दीन अपने टेस्ट करियर में कभी भी 199 रन से ज्यादा का स्कोर नहीं कर सके और यही पारी उनके करियर की सबसे बड़ी पारी बनकर रह गई. अजहर 1986 में कानपुर टेस्ट में श्रीलंका के खिलाफ 199 रन बनाकर आउट हो गए थे.

न्यूजीलैंड के पूर्व कप्तान मार्टिन क्रो सबसे अनलकी बल्लेबाजों में गिने जाते हैं क्योंकि 31 जनवरी 1991 में वह विलिंगटन में श्रीलंका के खिलाफ 299 रन के स्कोर पर आउट हो गए थे. इतने नजदीक से तिहरे शतक से चूकने वाले वह दुनिया के एकमात्र बल्लेबाज हैं.

पाकिस्तान के लिटिल मास्टर कहे जाने वाले हनीफ मोहम्मद भी 99 के फेर में फंस गए और रिकॉर्ड उनसे चूक गया. प्रथम श्रेणी क्रिकेट में एक ऐतिहासिक पारी के दौरान वह 499 रन के स्कोर पर रन आउट हो गए और अनलकी बल्लेबाजों में शामिल हो गए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay