एडवांस्ड सर्च

उपचुनाव: कैराना में 20 फीसदी कम वोटिंग, नूरपुर में 61 प्रतिशत मतदान

ईवीएम और वीवीपैट में खराबी की शिकायतों के बाद विपक्ष ने इसे बीजेपी की साजिश बताया है. कैराना से आरएलडी उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर शिकायत की है.

Advertisement
aajtak.in
मोहित ग्रोवर नई दिल्ली, 29 May 2018
उपचुनाव: कैराना में 20 फीसदी कम वोटिंग, नूरपुर में 61 प्रतिशत मतदान देश में कई सीटों पर उपचुनाव

देश की 4 लोकसभा और 10 विधानसभा सीटों पर हुए उपचुनाव में कई जगह ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायतों के बीच मतदान संप्पन हुआ. उत्तर प्रदेश की कैराना लोकसभा सीट 54 फीसदी और नूरपुर विधानसभा सीट पर 61 फीसदी मतदान हुआ.

उत्तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वरलू ने बताया कि वोटिंग के दौरान करीब 384 स्थानों पर वीवीपैट खराब होने की शिकायतें मिली थीं, जिन्हें बदल कर सुचारू रूप से वोटिंग कराई गई. उन्होंने बताया कि 2014 में कैराना में 73 फीसदी जबकि 2017 में नूरपुर में 67 फीसदी वोट पड़े थे.

जरूरत पड़ी तो होगा पुनर्मतदान

राज्य चुनाव आयोग के मुताबिक रिपोर्ट प्राप्त होने के बाद उक्त वोटिंग सेंटर्स पर पुनर्मतदान के संबंध में आयोग द्वारा निर्णय लिया जाएगा. इससे पहले ईवीएम गड़बड़ी की शिकायतों के बीच वेंकटेश्वरलू ने कहा था, 'मैं राजनीतिक पार्टियों को आश्वासन देना चाहता हूं कि गड़बड़ ईवीएम मशीनें बदली जा रही हैं. अगर किसी वजह से वे बदल नहीं पाती हैं तो हम पुनर्मतदान का आदेश देने में हिचकिचाएंगे नहीं.' विपक्षी सपा और आएलडी ने कैराना और नूरपुर सीटों पर वोटिंग के दौरान ईवीएम में गड़बड़ी की शिकायत की थी.

तबस्सुम हसन ने भी लगाया आरोप

ईवीएम और वीवीपैट में खराबी की शिकायतों के बाद विपक्ष ने इसे बीजेपी की साजिश बताया है. कैराना से आरएलडी उम्मीदवार तबस्सुम हसन ने चुनाव आयोग को पत्र लिखकर शिकायत की है. इस दौरान उन्होंने बीजेपी पर आरोप लगाया कि जानबूझकर ईवीएम और वीवीपैट मशीनों से हर जगह छेड़छाड़ की गई है. उन्होंने कहा कि मुस्लिम और दलित बहुल इलाके में खराब ईवीएम को नहीं बदला गया, भाजपा को लगता है कि वे इस तरह चुनाव जीत सकते हैं.

अखिलेश ने भी किया वार

सपा अध्यक्ष और यूपी के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी ट्वीट कर ईवीएम में गड़बड़ी होने की शिकायत की. उन्होंने कहा कि हजारों ईवीएम में खराबी की शिकायतें आ रही हैं. अखिलेश बोले ''किसान, मजदूर, महिलाएं और नौजवान भरी धूप में वोट डालने के लिए अपनी बारी के इंतजार में भूखे-प्यासे खड़े हैं. ये तकनीकी खराबी है या चुनाव प्रबंधन की विफलता या फिर जनता को मताधिकार से वंचित करने की साजिशय. इस तरह से तो लोकतंत्र की बुनियाद ही हिल जाएगी.''

पूर्वी राज्यों में पड़े वोट

पूर्वोत्तर और पूरब के राज्यों में भी लोकसभा और विधानसभा उपचुनाव शांतिपूर्ण संपन्न हो गया. नगालैंड की एकमात्र संसदीय सीट पर 70 फीसद मतदाताओं ने वोट डाला. मेघालय की आमपाटी, झारखंड की गोमिया और सिली, पश्चिम बंगाल में महेशतला और बिहार की जोकीहाट विधानसभा सीटों पर उपचुनाव हुआ.

आयोग के मुताबिक आमपाटी में 90.42 फीसद, गोमिया और सिली में क्रमश: 62.61 और 75.5 फीसद, महेशतला में शाम पांच बजे तक 70 फीसद और जोकीहाट में शाम पांच बजे तक 53 फीसद मतदान हुआ है.

कहां हुआ मतदान?

बता दें कि सोमवार को यूपी की कैराना, महाराष्ट्र की पालघर और गोंदिया के साथ नागालैंड में एक लोकसभा सीट के लिए मतदान हुआ. वहीं, यूपी की नूरपुर विधानसभा सीट के साथ बिहार, झारखंड, केरल, महाराष्ट्र, मेघालय, पंजाब, उत्तराखंड और पश्चिम बंगाल को मिलाकर कुल 10 विधानसभा सीटों पर वोट डाले गए. इन उपचुनावों के नतीजे 31 मई को आएंगे.

उत्तर प्रदेश में राजनीतिक रूप से अहम कैराना सीट के अलावा महाराष्ट्र के भंडारा-गोंदिया और पालघर संसदीय सीटों और नगालैंड लोकसभा सीटों पर भी वोटिंग हुई. कैराना उपचुनाव में बीजेपी का मुकाबला संयुक्त विपक्ष उम्मीदवार से है. राष्ट्रीय लोकदल की प्रत्याशी तबस्सुम हसन को सपा, कांग्रेस और बसपा का समर्थन हासिल है जबकि बीजेपी ने स्वर्गीय हुकुम सिंह की बेटी मृंगाका सिंह को चुनावी मैदान में उतारा है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay