एडवांस्ड सर्च

Advertisement

जस्टिस आर एम लोढ़ा बने देश के 41वें CJI

जस्टिस राजेंद्र मल लोढ़ा ने रविवार को देश के 41वें प्रधान न्‍यायाधीश के तौर पर शपथ ली. राष्‍ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जस्टिस लोढ़ा को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. जस्टिस लोढ़ा ने जस्टिस पी सदाशिवम की जगह ली है जो शनिवार को रिटायर हो गए.
जस्टिस आर एम लोढ़ा बने देश के 41वें CJI जस्टिस आर एम लोढ़ा
आज तक वेब ब्‍यूरो [Edited By: रंजीत सिंह]नई दिल्‍ली, 28 April 2014

जस्टिस राजेंद्र मल लोढ़ा ने रविवार को देश के 41वें प्रधान न्‍यायाधीश के तौर पर शपथ ली. राष्‍ट्रपति भवन में आयोजित एक समारोह में राष्‍ट्रपति प्रणब मुखर्जी ने जस्टिस लोढ़ा को पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. जस्टिस लोढ़ा ने जस्टिस पी सदाशिवम की जगह ली है जो शनिवार को रिटायर हो गए.

64 साल के जस्टिस लोढ़ा जस्टिस सदाशिवम के बाद सुप्रीम कोर्ट के सबसे सीनियर जज हैं. वो अगले पांच महीने तक चीफ जस्टिस के पद पर रहेंगे. जस्टिस लोढ़ा 27 सितंबर, 2014 को रिटायर होंगे.

जोधपुर यूनिवर्सिटी से लॉ ग्रेजुएट जस्टिस लोढ़ा ने फरवरी 1973 में बतौर एडवोकेट बार काउंसिल ऑफ राजस्थान में अपना रजिस्ट्रेशन कराया और अपनी प्रैक्टिस शुरू की थी. लोढ़ा ने संवैधानिक मामलों से लेकर क्रिमिनल और सिविल मामलों की पैरवी की. जस्टिस लोढ़ा 31 जनवरी, 1994 को राजस्थान हाईकोर्ट के जज बने. 13 मई, 2008 को वह पटना हाईकोर्ट के चीफ जस्टिस बने. 17 दिसंबर 2008 को जस्टिस लोढ़ा सुप्रीम कोर्ट के जज बने.

जस्टिस लोढ़ा यूपीए-2 सरकार के दौरान चर्चित कोयला घोटाले मामले की भी सुनवाई कर रहे हैं. इस  मामले की सीबीआई जांच कर रही बेंच की अगुवाई करने वाले जस्टिस लोढ़ा ने ही जांच एजेंसी को 'मालिक की भाषा बोलने वाला पिंजड़े में बंद तोता' करार दिया था.

पाएं आजतक की ताज़ा खबरें! news लिखकर 52424 पर SMS करें. एयरटेल, वोडाफ़ोन और आइडिया यूज़र्स. शर्तें लागू
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay