एडवांस्ड सर्च

क्या मोदी 2.0 में AIADMK साबित होगी जगन मोहन रेड्डी की YSR कांग्रेस?

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी की शुक्रवार को दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद राजनीतिक हलकों में इन दोनों के साथ आने को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं. शनिवार को पीएम मोदी की अगुवाई वाली नीति आयोग की बैठक में जगन पहली बार शामिल होंगे, जिसमें वह आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य देने का मुद्दा उठा सकते हैं.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 15 June 2019
क्या मोदी 2.0 में AIADMK साबित होगी जगन मोहन रेड्डी की YSR कांग्रेस? पीएम नरेंद्र मोदी और जगन मोहन रेड्डी.

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी की शुक्रवार को दिल्ली में गृह मंत्री अमित शाह से मुलाकात के बाद राजनीतिक हलकों में इन दोनों के साथ आने को लेकर कयास लगाए जा रहे हैं. शनिवार को पीएम मोदी की अगुवाई वाली नीति आयोग की बैठक में जगन पहली बार शामिल होंगे, जिसमें वह आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य देने का मुद्दा उठा सकते हैं. राजनीतिक गलियारों में सूत्रों के हवाले से यह खबर भी चल रही है कि वाईएसआर कांग्रेस को बीजेपी ने लोकसभा में डिप्टी स्पीकर का पद ऑफर किया है.

लेकिन शर्त रखी गई है कि उसे एनडीए का हिस्सा बनना होगा. रेड्डी ने अमित शाह के साथ बैठक में अनुरोध किया कि वह आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने के लिए पीएम मोदी को मनाएं. आंध्र प्रदेश पर फिलहाल 2.58 लाख करोड़ का कर्ज है. अमित शाह और जगन मोहन रेड्डी की मुलाकात के बाद यह सवाल उठ रहे हैं कि क्या वाईएसआर कांग्रेस एनडीए का हिस्सा बनेगी या फिर जगन आंध्र प्रदेश के विशेष राज्य का मुद्दा आगे रखकर बाहर से ही एनडीए को संसद में समर्थन देते रहेंगे? जगन की पार्टी के अलावा इसके अलावा नवीन पटनायक की बीजू जनता दल (बीजेडी) को भी भाजपा की ओर से डिप्टी स्पीकर के पद की पेशकश की गई है.

YSRC ने किया शानदार प्रदर्शन

लोकसभा 2019 चुनाव में आंध्र प्रदेश की 25 लोकसभा सीटों में से वाईएसआर कांग्रेस ने 22 सीटों पर विजय हासिल की. वहीं ओडिशा में  बीजेडी ने 13 और भारतीय जनता पार्टी ने 8 सीटों पर जीत पाई.  बीजेपी अपने दम पर 303 सीट लेकर आई है. वहीं एनडीए 353 सीट जीती है. न तो चुनाव से पहले और न ही चुनाव के बाद वाईएसआर कांग्रेस  या बीजेडी ने एनडीए में शामिल होने की ख्वाहिश जताई है. लेकिन संसद में खुद को और मजबूत करने के लिए बीजेपी इन्हें अपने पाले में लाना चाहती है. इसलिए इन पार्टियों को डिप्टी स्पीकर का पद ऑफर किया है.

बीजेपी का पुराना दांव

बीजेपी ने साल 2014 में भी यही दांव खेला था. उस वक्त बीजेपी ने एआईएडीएमके को अपने पाले में रखने के लिए डिप्टी स्पीकर का पद दे दिया था. इसके बाद थंबीदुरई को डिप्टी स्पीकर बनाया गया था, जिसका उसे फायदा भी मिला और नुकसान भी. कई अहम बिल जैसे तीन तलाक को लेकर एआईएडीएमके ने सदन से वॉक आउट तक किया. लेकिन कुछ मुद्दों पर उसने मोदी सरकार को पूरा समर्थन दिया.

बीजेपी को मिलेगा सहारा

अब सवाल उठ रहा है कि क्या वाईएसआर कांग्रेस बीजेपी के लिए AIADMK साबित होगी. यानी अगर वह एनडीए में शामिल होती है तो हो सकता है कि वह मोदी सरकार को कई अहम बिलों पर समर्थन दे और जब मुद्दा आंध्र को विशेष राज्य का दर्जा देने का हो तो विरोध भी जताए. दूसरी सूरत यह हो सकती है कि वह मोदी सरकार को बाहर से समर्थन दे और लगातार अपने मुद्दे को उठाती रहे.

किस करवट बैठेगा ऊंट?

सूत्र कह रहे हैं कि बीजेपी द्वारा डिप्टी स्पीकर की पेशकश पर वाईएसआर कांग्रेस ने कहा कि विशेष राज्य का दर्जा नहीं मिलने पर वह एनडीए का हिस्सा नहीं बनेगी.  बीते दिनों के घटनाक्रम को देखें तो पीएम मोदी मॉरिशस और श्रीलंका के दौरे से लौटकर आंध्र प्रदेश गए थे, जहां उन्होंने भगवान तिरुपति बालाजी के मंदिर में पूजा-अर्चना की थी. इस दौरान जगन भी उनके साथ थे. एयरपोर्ट पर जगन ने मोदी के रोकने के बावजूद उनके पैर छुए थे. तब कयास और भी तेज हो गए थे कि वाईएसआर बीजेपी का हाथ थाम सकती है. लेकिन ऊंट किस करवट बैठेगा, यह तो आने वाले दिनों में ही मालूम चलेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay