एडवांस्ड सर्च

कन्याकुमारी का गांव, जहां बच्चों से पूछो- क्या बनोगे, जवाब मिलता है- डॉ. सिवन

कन्याकुमारी का सरक्कलविलाई गांव, जहां सिवन पैदा हुए वो आज उनपर जान लुटाता है. इस गांव के बच्चे डॉ. सिवन से प्रेरणा लेते हैं. इस गांव में डॉ. सिवन की मेहनत, संघर्ष और सफलता की ही बातें होती हैं. इसके अलावा कोई चर्चा होती ही नहीं है.

Advertisement
aajtak.in
शालिनी मारिया लोबो नई दिल्ली, 09 September 2019
कन्याकुमारी का गांव, जहां बच्चों से पूछो- क्या बनोगे, जवाब मिलता है- डॉ. सिवन चंद्रयान-2 के बारे में एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताते इसरो चेयरमैन डॉ. के. सिवन. (फोटो-इसरो)

  • डॉ. सिवन के गांव को है उनपर गर्व
  • सरक्कलविलाई गांव से हैं डॉ. सिवन

विज्ञान में सफलता और असफलता से उतना फर्क नहीं पड़ता, जितना उसके लिए किए गए संघर्ष और समर्पण से. ऐसे ही समर्पण और संघर्ष की कहानी का जीता जागता उदाहरण हैं इसरो के चेयरमैन डॉ. कैलाशावदिवु सिवन. डॉ. सिवन के लिए इसरो (Indian Space Research Organisation - ISRO) जैसे बड़े संस्थान का नेतृत्व करना इतना आसान नहीं है. न ही वे आसानी से इस पद पर पहुंचे हैं. अपने पिता से साथ खेतों में काम करना, नंगे पैर स्कूल जाना, छोटे सरकारी स्कूल में पढ़कर इसरो के चेयरमैन तक बनने में संघर्षों की आग में तपकर आगे बढ़े हैं डॉ. सिवन.

कन्याकुमारी का सरक्कलविलाई गांव, जहां सिवन पैदा हुए, जहां पले-बढ़े वो आज उनपर जान लुटाता है. उन्हें प्यार करता है. इस गांव के बच्चे डॉ. सिवन से प्रेरणा लेते हैं. इस गांव में डॉ. सिवन की मेहनत, संघर्ष और सफलता की ही बातें होती हैं. इसके अलावा कोई चर्चा होती ही नहीं है. इस गांव में रहने वाला डॉ. सिवन का परिवार, उनके स्कूल के दोस्त और गांव के युवाओं को इसरो चीफ और उनके काम पर गर्व है. इस गांव के लोगों को किसी भी मिशन की सफलता और असफलता से फर्क नहीं पड़ता.

इस गांव के बच्चे कहते हैं कि डॉ. सिवन से हम यह सीखते हैं कि कोई भी काम कठिन नहीं है. कोई भी लक्ष्य हासिल किया जा सकता है. हम सब सिर्फ उनकी तरह पढ़ लिखकर आगे बढ़ना चाहते हैं. गांव के एक युवा प्रवीण ने कहा कि यहां ज्यादातर लोग डॉ. सिवन को रोल मॉडल मानते हैं. पहले उन्हें कोई नहीं जानता था, लेकिन इसरो की वजह से अब उन्हें हर कोई जानता है. हमें गर्व होता है कि हम उसी गांव से हैं, जहां डॉ. सिवन रहते हैं. इस गांव में आप किसी भी बच्चे से पूछो कि आप बड़े होकर क्या बनोगे? जवाब मिलता है - डॉ. सिवन.

इंडिया टुडे ने सरक्कलविलाई गांव में डॉ. सिवन के रिश्तेदारों से मुलाकात की, उनसे बातें कीं. इसरो चीफ डॉ. सिवन की भांजी निशा उनसे बहुत ज्यादा प्रेरित है. निशा उन्हें प्यार से चिटप्पा कहती है. निशा ने बताया कि चिटप्पा बहुत मुश्किलों से आगे बढ़े हैं. उनकी पढ़ाई-लिखाई बेहद संघर्षपूर्ण रही है. अभी वो इसरो चेयरमैन हैं लेकिन वे हमेशा हम सब से बातें करते हैं. कन्याकुमारी फेमस है, लेकिन चिटप्पा की वजह से हमारा गांव भी प्रसिद्ध हो गया है. इस गांव के सभी लोग उनके काम से खुश हैं.

उनके भाई नारायण पेरुमल कहते हैं कि जब सारे बच्चे खेलने के लिए बाहर जाते थे, तब सिवन लाइब्रेरी में पढ़ता रहता था. वह अखबार भी बहुत पढ़ता था. आज उसने जो भी हासिल किया है वह एक जीत है. एक ग्रामीण बताते हैं कि जिस सरकारी स्कूल में सिवन पढ़ते थे, आज वह अच्छा हो गया है. उसमें सारी सुविधाएं हैं. यह सब सिर्फ सिवन की वजह से हुआ है. तमिल मीडियम से प्राइमरी और हायर सेकेंडरी स्कूल में पढ़ने वाले सिवन ने कन्याकुमारी के एसटी हिंदू कॉलेज से ग्रेजुएशन किया था.

गांव के मदनकुमार बताते हैं कि जब सिवन पांचवीं क्लास में थे, तब मैं पहली कक्षा में था. सिवन हमेशा क्लास में फर्स्ट आते थे. उन्हें 100 में 100 अंक मिलते थे. वो हमारे लिए प्रेरणास्रोत हैं. हमें खुशी होती है जब हम ये देखते हैं कि हमारे गांव की मिट्टी के लाल को पूरे देश प्यार करता है.  

पूरा सरक्कलविलाई गांव डॉ. सिवन से प्यार करता है. उन्हें प्रेरणस्रोत मानता है. एक लड़का जिसके पास सुविधाओं की कमी थी आज वह पूरे देश का नाम रोशन कर रहा है. इस गांव को पूरा भरोसा है कि एक दिन भारत अंतरिक्ष विज्ञान में दुनिया का सबसे अग्रणी देश बन जाएगा. पूरी दुनिया भारत की तरफ देखेगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay