एडवांस्ड सर्च

इसरो चेयरमैन बोले-चांद पर लैंडिंग सबसे बड़ी चुनौती, अभी पार करने हैं 4 ब्रेकर

ISRO चेयरमैन डॉ. के. सिवन ने कहा कि आज यानी 20 अगस्त (मंगलवार) को चंद्रयान-2 को सफलतापूर्वक चांद की पहली कक्षा में भेज दिया गया. अब हमारे लिए सबसे चुनौतीपूर्ण 6 और 7 सितंबर की दरम्यानी रात होगी. क्योंकि इस रात चंद्रयान-2 की लैंडिंग होगी. इस मौके पर मिशन कंट्रोल सेंटर में तनाव, खुशी, डर का मिश्रित भाव देखने को मिलेगा.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in 20 August 2019
इसरो चेयरमैन बोले-चांद पर लैंडिंग सबसे बड़ी चुनौती, अभी पार करने हैं 4 ब्रेकर चंद्रयान-2 की चुनौतियों के बारे में बताते इसरो चेयरमैन डॉ.के. सिवन (फोटो-इसरो)

भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन (ISRO) के चेयरमैन डॉ. के. सिवन ने कहा कि आज यानी 20 अगस्त (मंगलवार) को चंद्रयान-2 को सफलतापूर्वक चांद की पहली कक्षा में भेज दिया गया. अब हमारे लिए सबसे चुनौतीपूर्ण 6 और 7 सितंबर की दरम्यानी रात होगी. क्योंकि इस रात 1.40 बजे से 1.55 बजे तक चंद्रयान-2 की लैंडिंग होगी. इसरो चेयरमैन डॉ. के. सिवन ने प्रेस मीट के दौरान मीडिया को बताया कि इस मौके पर मिशन कंट्रोल सेंटर में तनाव, खुशी, डर का मिश्रित भाव देखने को मिलेगा.

डॉ. के. सिवन ने बताया कि लैंडिंग के करीब 3.10 मिनट बाद विक्रम लैंडर से प्रज्ञान रोवर बाहर निकलेगा. उसका सोलर पैनल खुलेगा. इसके करीब पांच मिनट बाद वह चांद की सतह पर चलना शुरू करेगा. प्रज्ञान रोवर 1 सेंटीमीटर प्रति सेकंड की गति से 14 दिनों तक चांद की सतह पर करीब आधा किमी की दूरी तय करेगा. वह डाटा लैंडर को भेजेगा. लैंडर उस डाटा को ऑर्बिटर के जरिए पृथ्वी पर इसरो सेंटर तक भेजेगा.

डॉ. के. सिवन ने बताया कि चंद्रयान को कई चुनौतियों का सामना करना है. इनमें अभी चार चुनौतियां बाकी हैं.

पहली चुनौतीः बदलते गुरुत्वाकर्षण प्रभाव वाले चांद की कक्षा में घूमना

चंद्रयान-2 के लिए चांद के चारों तरफ चक्कर लगाना भी आसान नहीं होगा. इसका बड़ा कारण है चांद के चारों तरफ ग्रैविटी बराबर नहीं है. इससे चंद्रयान-2 के इलेक्ट्रॉनिक्स पर असर पड़ता है. इसलिए, चांद की ग्रैविटी और वातावरण की भी बारीकी से गणना करनी होगी.

दूसरी चुनौतीः चंद्रमा पर सॉफ्ट लैंडिंग, सबसे बड़ी चुनौती होगी

इसरो वैज्ञानिकों के मुताबिक चंद्रमा पर चंद्रयान-2 को रोवर और लैंडर की सॉफ्ट लैंडिंग सबसे बड़ी चुनौती है. चांद की कक्षा से दक्षिणी ध्रुव पर रोवर और लैंडर को आराम से उतारने के लिए प्रोपल्शन सिस्टम और ऑनबोर्ड कंप्यूटर का काम मुख्य होगा. ये सभी काम ऑटोमेटिकली होंगे. इस दौरान लैंडर में लगे सेंसर्स और कैमरे चांद की सतह की तस्वीरें लेंगे. उनकी जांच करके समतल जगह पर उतरने की कोशिश करेगा चंद्रयान-2. क्योंकि, 12 डिग्री से ज्यादा की ढाल पर विक्रम लैंडर पलट जाएगा.

तीसरी चुनौतीः चंद्रमा की धूल, बचने के लिए पांच की जगह एक इंजन चलेगा

डॉ. के. सिवन ने बताया कि चांद की सतह पर ढेरों गड्ढे, पत्थर और धूल है. जैसे ही लैंडर चांद की सतह पर अपना प्रोपल्शन सिस्टम ऑन करेगा, वहां तेजी से धूल उड़ेगी. धूल उड़कर लैंडर के सोलर पैनल पर जमा हो सकती है, इससे पावर सप्लाई बाधित हो सकती है. ऑनबोर्ड कंप्यूटर के सेंसर्स पर असर पड़ सकता है. इससे बचने के लिए विक्रम लैंडर में लगे पांच इंजन में से चार इंजन करीब 13 मीटर ऊपर बंद कर दिया जाएगा. सिर्फ बीच वाला इंजन काम करेगा. इससे धूल छंटकर दूसरी दिशा में जाएगी.

चौथी चुनौतीः बदलता तापमान, दोबारा काम कर सकता है रोवर-लैंडर

डॉ. के. सिवन ने बताया कि चांद का एक दिन या रात धरती के 14 दिन के बराबर होती है. इसकी वजह से चांद की सतह पर तापमान तेजी से बदलता है. इससे लैंडर और रोवर के काम में बाधा आएगी. अगर चांद में होने वाली रात और उससे गिरने वाले तापमान को रोवर और लैंडर बर्दाश्त कर लेंगे. उनके सारे पेलोड्स सही काम करते रहेंगे तो हम दोबारा उन्हें काम पर लगा देंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay