एडवांस्ड सर्च

बिहार में बुखार है...नीतीशे कुमार है और बदहाल इंतजाम है!

बिहार के अस्पतालों में लगातार चीखें सुनाई पड़ रही हैं, चीखें उन मांओं की जिनके बच्चों ने बुखार में झुलसते हुए पाटलीपुत्र के 'सम्राट' के भरोसे की चौखट पर दम तोड़ दिया. और हुकूमत ने उसके आंचल में उसकी लाश रख दी.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: मोहित ग्रोवर]नई दिल्ली, 17 June 2019
बिहार में बुखार है...नीतीशे कुमार है और बदहाल इंतजाम है! बिहार में हाल बेहाल... (Photo: Nadeem Alam)

बिहार जैसे बड़े राज्य में एक बुखार के कारण मरने वाले बच्चों की संख्या 100 के पार पहुंच गई है. ये संख्या लगातार बढ़ती ही जा रही है लेकिन सरकार की तरफ से ना ही कोई पुख्ता इंतजाम किया जा रहा है और ना ही किसी तरह का आश्वासन दिया जा रहा है जिसपर विश्वास किया जाए. कल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन दौरे पर पहुंचे थे. उनके साथ स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे और बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे भी थे, लेकिन तीन-तीन मंत्रियों का दौरा भी बदइंतजामी को न थाम सका. नतीजा जब मंत्रियों के सामने भी बच्चों की मौत होती रही, उनकी लाशें निकलती रहीं.

दर्द के पाताल से निकली हुई सिसकियां कलेजे के चट्टान को चूर-चूर कर देती हैं. ध्वस्त कर देती हैं अवाम के नाम पर तामीर किए गए सत्ता के उन महलों महराबों को जो बच्चों के लहू से अपनी लाली लेती हैं. बिहार के अस्पतालों में लगातार चीखें सुनाई पड़ रही हैं, चीखें उन मांओं की जिनके बच्चों ने बुखार में झुलसते हुए पाटलीपुत्र और हस्तिनापुर के सम्राट के भरोसे की चौखट पर दम तोड़ दिया. और हुकूमत ने उसके आंचल में उसकी लाश रख दी.

हिंदुस्तान की सेहत के सबसे बड़े वजीर के सामने मर गया बच्चा. और उनके साथी और सहायक ताकते रह गए, डॉक्टर हर्षवर्धन चार घंटे तक बच्चों की मौत के कारखाने का मुआयना करते रहे और बाहर निकले तो समझ में नहीं आ रहा था कि कहें क्या.

कोई सवाल ना पूछे...

45 डिग्री तापमान में पीने के पानी पर सवाल मत कीजिए, इनसे पूछिए की मंगल ग्रह पर कब जा रहे हैं. बुखार की गोली और ग्लूकोज के पानी के बिना सिर पटक-पटक कर मर गए बच्चों पर सवाल मत कीजिए. मंत्री जी से पूछिए कि बुलेट ट्रेन का मजा कब मिलेगा. अस्पताल के बच्चों के मुर्दाघर में बदल जाने पर सवाल मत कीजिए. हमारे धन्य भाग, जो अस्सी-अस्सी बच्चों की मौत पर मातम के पर्यटन का फुर्सत निकाला आपने.

मंत्री ने खुद ही माना कि वो तो पांच साल पहले भी आए थे, उस साल 380 बच्चे मरे थे. तब भी कहकर गए थे कि हम सारा इंतजाम दुरुस्त करेंगे.

तो क्या फिर दिल्ली जाकर चादर तानकर सो गए. पांच साल तक जनता के दिए हुए बंगले में रहते रहे, लाल बत्ती के काफिले में धूल उड़ाते रहे, आसमान में उड़ते रहे. अब पांच साल बाद हम फिर आए हैं. आपके बच्चों की लाश पर फूल चढ़ाने, धन्यभाग जो आपने हमें फिर से ये अवसर दिया.

यहां पर कोई जवाब देने को राजी नहीं है. हुकूमत का हुक्म है कि उनसे सवाल न पूछा जाए उसे बुरा लगता है. उछलते हुए सेंसेक्स और सूर्य तक पहुंचने के जश्न में डूबे हुए देश में बुखार में बिलख-बिलखकर मरे हुए मुजफ्फरपुर के बच्चों का मुल्क के मालिकों से एक सवाल है. हमारी उखड़ती हुई सांसों पर आपको चैन की नींद कैसे आती है....

दरअसल, बच्चों की ये मौतें कोई एक दिन में नहीं हुई हैं ये सिलसिला दस साल से जारी है. और तब से बिहार में नीतीश कुमार की जेडीयू और बीजेपी का सुशासन जारी है. बीजेपी के मंगल पांडे स्वास्थ्य मंत्री हैं, केंद्रीय स्वास्थ्य राज्य मंत्री अश्विनी चौबे भी बिहार के ही हैं. लेकिन जब मुजफ्फरपुर से बच्चों की लाशें निकलनी शुरू हुई तो मंगल पांडे विदेश में मौज कर रहे थे और लौटे तो दिल्ली में पार्टी का काम करने लगे.

बिहार शोक में डूबा हुआ है और बिहार के शोक ने देश को सन्न कर दिया है. बच्चे को जुकाम तक हो जाए तो भीतर से कांप जाते हैं मां-बाप और यहां तो उनकी लाशों की लाइन लगी हुई है.

मुजफ्फरपुर अब छोटे-छोटे बच्चों के मशान का नाम है, सालभर के बच्चे..दो साल के बच्चे...तीन साल के बच्चे... चार साल के बच्चे. उन बच्चों के मां-बाप रोते हैं तो क्षितिज का पर्दा फट जाता है. धरती की छाती दरकने लगती है, गश खाने लगती हैं गंडक की धाराएं लेकिन हिदुस्तान के हाकिम चट्टान के बने हुए हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay