एडवांस्ड सर्च

नक्शे में बदलाव पर विदेश मंत्रालय ने कहा- यह नेपाल की एकतरफा हरकत

आठ मई को भारत ने उत्तराखंड के लिपुलेख से कैलाश मानसरोवर के लिए सड़क का उद्घाटन किया था. इसको लेकर नेपाल ने कड़ी आपत्ति जताई थी. इसके बाद नेपाल ने नया राजनीतिक नक्शा जारी करने का फैसला किया और इसमें भारत के कुछ क्षेत्रों को भी अपना बताकर दिखाया. इस पर दोनों देशों में तनाव बढ़ता ही जा रहा है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 21 May 2020
नक्शे में बदलाव पर विदेश मंत्रालय ने कहा- यह नेपाल की एकतरफा हरकत काठमांडु में कालापानी मुद्दे पर भारत सरकार के खिलाफ प्रदर्शन करते नेपाली छात्र (पीटीआई)

  • बातचीत के लिए सकारात्मक माहौल तैयार करे नेपालः MEA
  • नेपाल ने नक्शे में कालापानी, लिपुलेख, लिम्पियाधुरा को जोड़ा
  • नेपाल अपने फैसले पर फिर से विचार करेः भारतीय विदेश मंत्रालय
भारत-चीन सीमा विवाद के इतर भारत और नेपाल के बीच भी सीमा विवाद बना हुआ है. नए सीमा विवाद के तहत नेपाल ने अपने नए राजनीतिक नक्शे में कुछ भारतीय क्षेत्रों को भी दिखाया है. इस विवाद पर भारतीय विदेश मंत्रालय ने इसे एकतरफा कार्रवाई करार दिया है.

भारतीय विदेश मंत्रालय ने गुरुवार को नेपाल की ओर से राजनीतिक नक्शे में बदलाव पर कहा कि यह एकतरफा संशोधन कार्रवाई है, इसे हमारे द्वारा स्वीकार नहीं किया जाएगा. उम्मीद है कि नेपाली नेतृत्व भारत के साथ कूटनीतिक संवाद के लिए सकारात्मक माहौल बनाएगा.

इसे भी पढ़ें--- भारत ने दी नेपाल को नसीहत- हमारी संप्रभुता और अखंडता का सम्मान करें

इससे पहले नेपाल के नक्शे में बदलाव को लेकर बुधवार को भारतीय विदेश मंत्रालय ने नेपाल को भारत की संप्रभुता का सम्मान करने की नसीहत दी थी. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने बुधवार को कहा था, 'हम नेपाल सरकार से अपील करते हैं कि वो ऐसे बनावटी कार्टोग्राफिक प्रकाशित करने से बचे. साथ ही वह भारत की संप्रभुता और क्षेत्रीय अखंडता का सम्मान करे.'

इसे भी पढ़ें--- नेपाल ने जारी किया राजनीतिक नक्शा, भारत की इन जगहों को बताया अपना

भारत की ओर से यह भी कहा गया कि नेपाल सरकार अपने फैसले पर फिर से विचार करे. विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता ने कहा कि नेपाल सरकार, इस मामले में भारत की स्थिति से पूरी तरह से वाकिफ है.

नेपाल सरकार ने पिछले दिनों अपना नया राजनीतिक नक्शा जारी किया था, जिसमें भारत के कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा को अपने नक्शे पर शामिल कर लिया गया है.

नेपाल कैबिनेट की बैठक में भूमि संसाधन मंत्रालय ने सोमवार को नेपाल का यह संशोधित नक्शा जारी किया था. इसका बैठक में मौजूद कैबिनेट सदस्यों ने समर्थन किया था.

इससे पहले 8 मई को भारत ने उत्तराखंड के लिपुलेख से कैलाश मानसरोवर के लिए सड़क का उद्घाटन किया था. इसको लेकर नेपाल ने आपत्ति जताई थी. इसके बाद नेपाल ने नया राजनीतिक नक्शा जारी करने का फैसला किया और इसमें भारत के कुछ क्षेत्रों को भी अपना बताकर दिखाया है.

क्या है नेपाल का दावा

इस मुद्दे पर नेपाल के प्रधानमंत्री केपी. शर्मा ओली ने यहां तक भी कहा था कि वो भारत को एक इंच जमीन नहीं देंगे. इस बीच नेपाल सरकार के एक मंत्री ने दावा किया कि सरकार भारत के अतिक्रमण को लंबे समय से बर्दाश्त कर रही थी, लेकिन फिर भारतीय रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने लिपुलेख में नई सड़क का उद्घाटन कर दिया.

इसे भी पढ़ें --- दुनियाभर में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 50 लाख के पार, 3.28 लाख मौतें

नेपाल सरकार सुगौली संधि के आधार पर कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा पर अपना दावा करता है. नेपाल और ब्रिटिश भारत के बीच 1816 में सुगौली की संधि हुई थी. इस संधि के तहत दोनों देशों के बीच महाकाली नदी को सीमारेखा माना गया था. माना जा रहा है कि भारत-नेपाल सीमा विवाद महाकाली नदी की उत्पत्ति को लेकर ही है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay