एडवांस्ड सर्च

AN-32 विमान की तलाश में अब रात में भी चलेगा सर्च ऑपरेशन

इससे पहले वायु सेना ने लापता एएन-32 विमान के बारे में जानकारी देने वाले को पांच लाख रुपये का इनाम देने की शनिवार को घोषणा की थी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 11 June 2019
AN-32 विमान की तलाश में अब रात में भी चलेगा सर्च ऑपरेशन भारतीय वायु सेना ने बड़े स्तर पर सर्च ऑपरेशन चलाया है (रॉयटर्स फाइल फोटो)

वायुसेना के लापता एएन-32 विमान का अभी तक सुराग नहीं मिल पाया है. अब विमान की तलाश के लिए रात में भी सर्च ऑपरेशन चलाया जा रहा है. मानव रहित हवाई वाहन (यूएवी) और सी -130 को भी लगाया गया है. इससे पहले वायु सेना ने लापता एएन-32 विमान के बारे में जानकारी देने वाले को पांच लाख रुपये का इनाम देने की शनिवार को घोषणा की थी.

वायुसेना के एक बयान के अनुसार, इलाके में खराब मौसम के कारण तलाशी अभियान प्रभावित हुआ. हेलीकॉप्टर और ट्रांसपोर्ट विमान इलाके में बादलों के नीचे होने और बारिश के कारण तलाशी अभियान नहीं चला सके लेकिन जमीनी टीम ने पूरी ताकत के साथ तलाश जारी रखा.

बयान के मुताबिक, जमीनी टीम रात में भी तलाशी अभियान जारी रखेगी. वायुसेना ने लापता विमान के बारे में जानकारी देने वाले के लिए पांच लाख रुपये पुरस्कार की शनिवार को घोषणा की थी. गौरतलब है कि कारगो विमान असम के जोरहाट से अरुणाचल प्रदेश के पश्चिम सियांग जिले में स्थित मेचुका एडवांस्ड लैंडिंग ग्राउंड के लिए उड़ान भरने के बाद तीन जून को लापता हो गया था.

विमान की तलाश के लिए तीन खोज दल बनाए गए हैं, जिसमें शि-योमी जिले का एक और सेना का एक दल शामिल हैं, कई संभावित जगहों की ट्रेकिंग की जा रही है. पुलिस, सेना और भारतीय वायुसेना (आईएएफ) का एक संयुक्त प्रयास दल अरुणाचल प्रदेश के सियांग जिले में लगभग 2,500 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में दुर्घटनाग्रस्त स्थान की खोज कर रहा है.

मुख्यमंत्री खांडू ने सियांग, वेस्ट सियांग, लोअर सियांग और शि-योमी के जिला प्रशासन को खोज और बचाव अभियान तेज करने के निर्देश दिए हैं. खांडू ने कहा कि सियांग और पश्चिम सियांग के उपायुक्तों ने लापता विमान का पता लगाने के लिए शुरू किए गए कदमों की जानकारी से उन्हें अवगत कराया है. मुख्यमंत्री ने कहा, "उन्होंने हर टीम में 3/4 स्थानीय लोगों को शामिल किया, जो लापता विमान और जहाज पर सवार लोगों का पता लगाने में मदद कर रहे हैं."

वायुसेना ने अपने खोज और बचाव कार्य फिर से शुरू किए. अरुणाचल प्रदेश के जोरहाट व मेचुका के बीच घने जंगलों में रूसी मूल के एएन -32 ट्रांसपोर्टर का पता लगाने के लिए वायुसेना ने अपने एमआई-17 और एएलएच हेलीकॉप्टरों को सेवा में लगाया है. पूर्वी वायुसेना कमान के कमांडिंग-इन-चीफ एयर मार्शल आर.डी माथुर, खोज और बचाव कार्यों की निगरानी कर रहे हैं. उन्होंने भारतीय वायुसेना के लापता जवानों के परिवारों से मुलाकात भी की.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay