एडवांस्ड सर्च

कोरोना इफेक्ट: दिमागी मरीजों में 20 फीसद इजाफा, हर 5 में 1 भारतीय मनोरोग का शिकार

इंडियन साइकेट्री सोसायटी के हालिया सर्वे में बताया गया है कि महज कुछ हफ्ते में ही मनोरोगियों की संख्या में 15-20 फीसद का इजाफा देखा गया है. वजह यह है कि कोरोना वायरस फैलने के बाद लोगों के दिमाग में नकारात्मकता तेजी से फैल रही है और लोग दबाव में जीने को मजबूर हैं.

Advertisement
aajtak.in
मनोज्ञा लोइवाल नई दिल्ली, 31 March 2020
कोरोना इफेक्ट: दिमागी मरीजों में 20 फीसद इजाफा, हर 5 में 1 भारतीय मनोरोग का शिकार कोरोना वायरस और लॉकडाउन ने लोगों के रोजगार को संकट में डाल दिया है (PTI)

  • घरों में बंद रहने से लोगों में अवसाद
  • सीमित संसाधन के साथ जीने को मजबूर

कोरोना वायरस का असर मानसिक दशा पर भी देखा जा रहा है. देश में जब से इस बीमारी ने दस्तक दी है, तब से मनोरोगियों की संख्या में लगातार इजाफा देखा जा रहा है. इंडियन साइकेट्री सोसायटी के एक ताजा सर्वे के मुताबिक, मनोरोगियों में 20 फीसद तक की बढ़ोतरी देखी जा रही है. इसके पीछे वजह कुछ यह बताई जा रही है कि दुनिया में कोरोना वायरस ने जब से दस्तक दी है, तब से लोगों के रहन-सहन में अप्रत्याशित तब्दीली देखी जा रही है. इस महामारी ने वैश्विक अर्थव्यवस्था को भी गहरी चोट पहुंचाई है जिसका असर लोगों की सोच पर देखा जा रहा है.

इंडियन साइकेट्री सोसायटी के हालिया सर्वे में बताया गया है कि महज कुछ हफ्ते में ही मनोरोगियों की संख्या में 15-20 फीसद का इजाफा देखा गया है. वजह यह है कि कोरोना वायरस फैलने के बाद लोगों के दिमाग में नकारात्मकता तेजी से फैल रही है और लोग दबाव में जीने को मजबूर हैं. स्थिति तब और गंभीर हो गई जब लॉकडाउन से लोगों को अपने घरों में कैद होना पड़ा. लिहाजा काम-धंधा, नौकरी, कमाई, बचत यहां तक कि बुनियादी साधन पर भी संकट मंडराता दिख रहा है.

कोरोना पर फुल कवरेज के लि‍ए यहां क्ल‍िक करें

इस गंभीर दशा के बारे में नोएडा स्थित फोर्टिस अस्पताल के मेंटल हेल्थ एंड विहेविएरल साइंस की विभागाध्यक्ष डॉ. मंजू तिवारी ने आजतक/इंडिया टुडे से विस्तार से बात की. उन्होंने कहा कि मनोरोग का ग्राफ बढ़ रहा है और आने वाले वक्त में इसमें और भी तेजी देखी जा सकती है. डॉ. तिवारी ने कहा कि लॉकडाउन ने लोगों के रहन-सहन पर गहरा असर छोड़ा है. लोग सीमित संसाधनों के साथ घरों में रह रहे हैं. ऐसे में वे अवसाद और अल्कोहल विड्रॉल सिंड्रोम जैसी समस्या से जूझ रहे हैं.

ये भी पढ़ें: कोरोना वायरस की जांच करानी है, इन सेंटर पर दे सकते हैं सैंपल

अवसाद और पैनिक अटैक पहचानने के ये कुछ संकेत हैं-

  • तथ्यों को बार-बार चेक करना, हमेशा कुछ सोचना और तथ्यों को अलग-अलग वेबसाइट पर जांचना-परखना.
  • नींद में कमी यह सोचते हुए कि कहीं कुछ गड़बड़ न हो जाए.
  • पुरानी बातों को बार-बार याद करना.
  • हर बात पर खुद को दोषी ठहराना.
  • पेट में समस्या.
  • दिमाग स्थिर न रह पाना.

बता दें, इस साल जनवरी महीने में इंडियन काउंसिल फॉर मेडिकल रिसर्च ने एक आंकड़ा जारी किया था जिसमें बताया गया था हर 5 में एक भारतीय मनोरोग की समस्या से जूझ रहा है. अब जब पूरा देश लॉकडाउन में है, तो इस समस्या और भी इजाफा देखा जा सकता है. डॉ. मंजू तिवारी ने कहा, अभूतपूर्व स्थिति (लॉकडाउन) और रोगियों का अधिक कमजोर समूह इस बीमारी की जद में आने का बड़ा खतरा है, विशेष रूप से रोगियों को यह एहसास भी नहीं है कि उन्हें कोई बीमारी है. ज्यादातर वे लोग हैं जो बहुत अधिक बुढ़ापे की चिंता करते हैं, किसी चीज के आदी हैं या शराब पीने की आदत से पीड़ित हैं. हालांकि, आनुवांशिक विकार वाले कुछ लोग भी इसका एक हिस्सा हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay