एडवांस्ड सर्च

थरूर के 'हिंदू-पाकिस्तान' को हामिद अंसारी का समर्थन, कहा- देश में डर का माहौल

पूर्व उपराष्ट्रपति ने कहा कि सवाल है कि इस प्रकार का व्यापक माहौल क्यों बनाया जा रहा है, ये पिछले कुछ समय से ही होना शुरू हुआ है. पिछले आम चुनाव के बाद से कुछ ज्यादा होने लगा है, जो अब साफ दिख रहा है.

Advertisement
aajtak.in
राहुल श्रीवास्तव/ मोहित ग्रोवर नई दिल्ली, 12 July 2018
थरूर के 'हिंदू-पाकिस्तान' को हामिद अंसारी का समर्थन, कहा- देश में डर का माहौल पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी (फाइल फोटो)

कांग्रेस नेता शशि थरूर के 'हिंदू-पाकिस्तान' वाले बयान को पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने सही बताया है. उन्होंने कहा कि शशि थरूर पढ़े-लिखे आदमी हैं, उन्होंने जो भी कहा होगा सोच-समझ कर कहा होगा. अंसारी ने कहा कि वह अपना फैसला सुनाने के लिए स्वतंत्र हैं. हालांकि, उन्होंने ये भी कहा कि मैंने अभी उनका बयान नहीं पढ़ा है लेकिन जो उन्होंने कहा होगा सही ही कहा होगा.

पूर्व उपराष्ट्रपति हामिद अंसारी ने देश के मौजूदा हालातों पर भी सवाल उठाए. हामिद अंसारी ने कहा कि आज की सोसाइटी में सवाल पूछने पर पाबंदी है. उन्होंने कहा कि आजकल ऐसा है कि अगर आप सवाल पूछते हैं तो आपको इस प्रकार निशाने पर लिया जाता है जो वैश्विक स्तर पर नहीं होता है.

पूर्व उपराष्ट्रपति ने कहा कि सवाल है कि इस प्रकार का व्यापक माहौल क्यों बनाया जा रहा है, ये पिछले कुछ समय से ही होना शुरू हुआ है. पिछले आम चुनाव के बाद से कुछ ज्यादा होने लगा है, जो अब साफ दिख रहा है.

इतना ही नहीं राज्यसभा चेयरमैन के तौर पर उनकी विदाई के दौरान प्रधानमंत्री मोदी के भाषण पर उन्होंने कहा कि पीएम ने वो कहा होगा जो उन्हें लगा. मैं एक प्रोफेसर और डिप्लोमेट रहा हूं इसलिए मैं इससे पीछे नहीं हट सकता हूं. अगर इस सवाल को देखें तो ये पूछना चाहिए कि ऐसा क्यों हो रहा है. आज समाज में कई प्रकार से डर का माहौल है, जिसके कई कारण हो सकते हैं.

उन्होंने कहा कि सहिष्णुता कोई मुद्दा नहीं है, समावेश है. मॉब लिंचिंग पर उन्होंने कहा कि भारत में हमेशा स्वीकार्य विचार रहा है, अगर चीजें विचलित होती हैं तो ऐसा ही होता है. यूनिवर्सिटी विवाद पर पूर्व उपराष्ट्रपति बोले कि यूनिवर्सिटी एक ऐसी जगह है जहां पर खुले तौर पर बहस होने देनी चाहिए. इससे पहले भी एएमयू में गांधी, जिन्ना, नेहरू और टेरेसा की तस्वीरें थी, शायद लोगों ने देखी नहीं थीं.

सोशल मीडिया ट्रोल पर अंसारी ने कहा कि ये अब हद से अधिक हो गया है, ये एक तरह से एंटी सोशल है. हाल में उठे शरिया कोर्ट के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि सोशल प्रैक्टिस को कानूनी सिस्टम से जोड़कर नहीं देखना चाहिए. हमारा संविधान हर समाज को अपने नियमों को लागू करने की आज़ादी देता है. भारत में पर्सनल लॉ ही शादी, तलाक जैसी चीज़ों को देखता है. हर समाज को अपने पर्सनल लॉ के तहत इसे लागू करने का अधिकार है. 

आपको बता दें कि बुधवार को ही कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री शशि थरूर ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और बीजेपी पर करारा हमला बोला था. उन्होंने कहा कि अगर साल 2019 में होने वाले लोकसभा चुनाव में बीजेपी जीती, तो हिंदुस्तान का संविधान खतरे में पड़ जाएगा. भारत हिंदू पाकिस्तान बन जाएगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay