एडवांस्ड सर्च

खूनी रहा है आरक्षण के लिए आंदोलनों का इतिहास, गई हैं कई जानें

general quota reservation आरक्षण को लेकर एक बार फिर सियासत तेज हो गई है. नरेंद्र मोदी सरकार ने 10 फीसदी सवर्णों को आरक्षण देने का फैसला किया है. जबकि आरक्षण की आग में कई बार देश झुलस चुका है. आरक्षण की लड़ाई में कई युवाओं को अपनी जान गंवानी पड़ी है.

Advertisement
कुबूल अहमदनई दिल्ली, 08 January 2019
खूनी रहा है आरक्षण के लिए आंदोलनों का इतिहास, गई हैं कई जानें आरक्षण आंदोलन हिंसक रूप (फोटो-फाइल)

मोदी सरकार ने सामान्य वर्ग के लिए 10 फीसदी आरक्षण देने का कदम उठाया है. इसके लिए सरकार संविधान संशोधन विधेयक का रास्ता भी अपना रही है. हालांकि पिछले कई दशक से देश के अलग-अलग राज्यों में आरक्षण की मांगें उठती रही हैं. इतना ही नहीं, आरक्षण के लिए देश में कई बड़े आंदोलन भी हुए और लोगों की जानें भी गई हैं. इस तरह से आरक्षण का इतिहास खून से सना हुआ है.

ओबीसी आरक्षण के खिलाफ

आरक्षण की आग में देश कई बार झुलस चुका है. पहली बार मंडल कमीशन की सिफारिशों को 1990 में जब तत्कालीन प्रधानमंत्री वीपी सिंह ने लागू किया तो देश में सवर्ण समुदाय के लोग इसके विरोध में सड़क पर उतर आए. ओबीसी आरक्षण के खिलाफ देशभर में प्रदर्शन हुआ, इस दौरान दिल्ली यूनिवर्सिटी के छात्र राजीव गोस्वामी ने आत्मदाह कर लिया. इसके अलावा कई जगह आगजनी-तोड़फोड़ तक हुई.

पटेल आंदोलन

मोदी सरकार के सत्ता में आने के बाद कई बार देश के अलग-अलग राज्यों में आरक्षण की मांग को लेकर आंदोलन हुए. मोदी के गृहराज्य गुजरात में 2015 में पटेल आरक्षण की मांग हार्दिक पटेल के नेतृत्व में उठी और पूरे सूबे को अपनी चपेट में ले लिया. पटेल आरक्षण की अगुवाई कर रहे हार्दिक को पुलिस ने हिरासत में लिया तो सूबे का माहौल ही बिगड़ गया. देखते ही देखते पटेल समाज के लोग 12 से ज्यादा शहरों में सड़क पर उतर आए. इस दौरान उन्होंने तोड़फोड़ और आगजनी करते हुए करीब सवा सौ गाड़ियों में आग लगा दी और 16 थाने जला दिए. ट्रेन की पटरियां भी उखाड़ दी गई थीं.

जाट आंदोलन

यूपीए सरकार ने चुनाव से ऐन पहले जाट समुदाय को ओबीसी की श्रेणी में शामिल किया था, जिसे कोर्ट ने रद्द कर दिया था. इसे लेकर हरियाणा सहित कई राज्यों में जाट समुदाय के लोग सड़क पर उतर आए और उनके आंदोलन ने हिंसक रुख अख्तियार कर लिया. जाट आंदोलन में हरियाणा में जमकर हिंसा, आगजनी व तोड़-फोड़ हुई. रेलवे व बस सेवा पूरी तरह ठप हो गई. आंदोलन के दौरान करीब 30 लोगों की जान गई और राज्य को 34 हजार करोड़ रुपये की धनहानि हुई.

गुर्जर आंदोलन

राजस्थान में गुर्जर समुदाय अलग से आरक्षण की मांग को लेकर सड़क पर उतरा और कई दिनों तक रेलवे ट्रैक को जाम कर रखा. 2008 में गुर्जर आंदोलनकारियों पर पुलिस की गोलीबारी की वजह से हिंसा भड़क गई थी. इस दौरान 20 लोगों की मौत हुई थी. हजारों की संख्या में प्रदर्शनकारियों ने दिल्ली व मुंबई के रेल रूट को ब्लॉक कर दिया था. इसके बाद 2015 में एक बार फिर गुर्जर समुदाय के लोग सड़क पर उतरे और रेलवे ट्रैक पर कब्जा किया, पटरियां उखाड़ीं व आगजनी की, जिससे 200 करोड़ का नुकसान हुआ.

मराठा आरक्षण

महाराष्ट्र में मराठा आरक्षण की मांग काफी लंबे समय से हो रही है. इसके लिए मराठा समुदाय के लोग कई बार सड़क पर उतरे चुके हैं. आरक्षण की मांग को लेकर जुलाई 2018 में एक युवक ने ख़ुदकुशी कर ली. इसके बाद आंदोलनकारियों ने कई गाड़ियों को आग के हवाले कर दिया. इसके बाद सरकार को झुकना पड़ा और महाराष्ट्र के विधानसभा में 16 फीसदी मराठा आरक्षण बिल पास कर दिया गया.

निषाद आंदोलन

हाल ही में उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में निषाद आरक्षण आंदोलन के चलते एक सिपाही को अपनी जान गंवानी पड़ी. दिसंबर 2018 में नरेंद्र मोदी गाजीपुर में रैली करने गए थे. इस दौरान निषाद समुदाय के लोगों ने रोड जाम कर दिया था, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें हटाने की कोशिश की तो पथराव शुरू हो गया. इसके बाद भीड़ हिंसक हो गई और एक सिपाही सुरेश वत्स की मौत हो गई. हालांकि निषाद समुदाय के लोग एससी में शामिल होने के लिए कई बार संघर्ष कर चुके हैं. 2015 में गोरखपुर में रेलवे ट्रैक जाम किया था.

आंध्र प्रदेश में हिंसा की आग

उत्तर भारत की तरह ही दक्षिण भारत में भी आरक्षण आंदोलन हुए हैं. आंध्र प्रदेश के कापू समुदाय ने 2016 में ओबीसी दर्जे की मांग को लेकर हिंसक प्रदर्शन किए थे. राज्य में पूर्वी गोदावरी जिले में प्रदर्शन के दौरान प्रदर्शनकारियों ने रत्नाचल एक्सप्रेस के चार डिब्बों सहित दो पुलिस थानों को आग के हवाले कर दिया था. इस दौरान कई लोग व पुलिसकर्मी घायल हुए.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay