एडवांस्ड सर्च

नरसिम्हा राव पर लगेगा सिख दंगों का दाग? मनमोहन सिंह के बयान से उठ रहे सवाल

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने बुधवार को कहा कि तत्कालीन गृहमंत्री पीवी नरसिम्हा राव ने अगर समय रहते हुए इंद्र कुमार गुजराल की सलाह मानी होती, तो 1984 में हुए सिख दंगे को टाला जा सकता था. इसका मतलब साफ है कि सिख दंगे का दाग जो कांग्रेस के दामन पर लगा है, क्या अब उसे पार्टी नरसिम्हा राव के मत्थे मढ़ना चाहती है.

Advertisement
aajtak.in
आनंद पटेल नई दिल्ली, 05 December 2019
नरसिम्हा राव पर लगेगा सिख दंगों का दाग? मनमोहन सिंह के बयान से उठ रहे सवाल पूर्व प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव और पूर्व पीएम मनमोहन सिंह

  • इंदिरा गांधी की हत्या के बाद 1984 में हुआ था सिख दंगा
  • सिख दंगे के दाग को आज तक नहीं छुड़ा पाई कांग्रेस पार्टी

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने 1984 के सिख दंगों को लेकर ऐसा बयान दिया है, जिसे लेकर कई सवाल खड़े होने लगे हैं. मनमोहन सिंह ने बुधवार को कहा कि तत्कालीन गृहमंत्री पीवी नरसिम्हा राव ने अगर समय रहते हुए इंद्र कुमार गुजराल की सलाह मानी होती, तो 1984 में हुए सिख दंगे को टाला जा सकता था. इसका मतलब साफ है कि सिख दंगे का दाग जो कांग्रेस के दामन पर लगा है, क्या अब उसे पार्टी नरसिम्हा राव के मत्थे पर मढ़ना चाहती है.

मनमोहन सिंह ने पूर्व प्रधानमंत्री इंद्र कुमार गुजराल की 100वीं जयंती पर आयोजित कार्यक्रम में बोलते हुए कहा कि गुजराल ने 1984 के सिख दंगों को रोकने के लिए सेना को तैनात करने की सलाह दी थी, लेकिन तत्कालीन गृहमंत्री नरसिम्हा राव ने उनकी इस सलाह को नजरअंदाज कर दिया था. गुजराल ने सिख दंगा भड़कने की रात को गृहमंत्री नरसिम्हा राव से मुलाकात भी की थी.

मनमोहन सिंह ने कहा, 'इंद्र कुमार गुजराल सिख दंगे से पहले के माहौल को लेकर बेहद चिंतित थे और रात में तत्कालीन गृहमंत्री नरसिम्हा राव के पास गए थे. गुजराल ने नरसिम्हा राव को सलाह दी थी कि हालात बेहद गंभीर हैं. लिहाजा सरकार को जल्द से जल्द सेना को बुलाना चाहिए और तैनात करना चाहिए. अगर गुजराल की सलाह को नरसिम्हा राव ने मान लिया होता, तो 1984 का सिख नरसंहार टल सकता था.'

इंदिरा गांधी की हत्या के बाद सिख दंगा

दरअसल पंजाब में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी ने आतंकवाद के सफाए के लिए ऑपरेशन ब्लूस्टार चलाया था. इसी के चलते उनके नाराज सिख सुरक्षाकर्मियों ने 31 अक्टूबर 1984 को इंदिरा गांधी की हत्या कर दी थी और इसके अगले रोज से ही दिल्ली और देश के दूसरे कुछ हिस्सों में सिख विरोधी दंगे भड़क उठे थे.

सिख दंगों के बाद 19 नवंबर, 1984 को  इंदिरा गांधी के उत्तराधिकारी उनके पुत्र राजीव गांधी ने बोट क्लब में इकट्ठा हुए लोगों के हुजूम के सामने कहा था, 'हमें मालूम है कि लोगों के अंदर कितना क्रोध है, लेकिन जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो आसपास की धरती हिलती है.'

कांग्रेस के दामन पर 84 दंगे का दाग

इस बयान के बाद सिख समुदाय में राजीव गांधी के प्रति काफी नाराजगी बढ़ी. ऐसा माना गया कि राजीव की दंगाइयों के प्रति हमदर्दी थी और उन्होंने सिख समुदाय के कत्लो-गारत को उतनी गंभीरता से नहीं लिया जिस रूप में लिया जाना चाहिए था. राजीव गांधी के वक्तव्य सिख दंगा पीड़ितों को जख्म पर नमक छिड़कने जैसा लगा था.

बीजेपी और अकाली दल जैसे कई विपक्षी पार्टियां आज भी अक्सर राजीव गांधी के इस बयान को कोट करते हैं और कांग्रेस के खिलाफ हथियार के रूप में इस्तेमाल करते हैं. 1984 का सिख दंगा कांग्रेस के गले की हड्डी बन चुका है. सोनिया गांधी से लेकर राहुल गांधी तक 1984 दंगे के लिए सिख समुदाय से माफी मांग चुके हैं. इसके बावजूद दंगे का भूत कांग्रेस का पीछा नहीं छोड़ रहा है. ऐसे में मनमोहन सिंह का गुजराल की जयंती के मौके पर सिख दंगों पर दिया गया बयान क्या इस दाग को नरसिम्हा राव के मत्थे पर मढ़ने की रणनीति का हिस्सा तो नहीं है?

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay