एडवांस्ड सर्च

सोली सोराबजी ने किया केजरीवाल से किनारा

पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी ने आप सरकार की ओर से जनलोकपाल विधेयक को विधानसभा में पेश करने से पहले केन्द्र सरकार की मंजूरी लेने के उपराज्यपाल नजीब जंग के फैसले को सही ठहराते हुए कहा है कि वह सिर्फ मौजूदा नियमों का पालन कर रहे थे.

Advertisement
aajtak.in
आज तक ब्यूरो [Edited By: पंकज विजय] 16 February 2014
सोली सोराबजी ने किया केजरीवाल से किनारा सोली सोराबजी

पूर्व अटॉर्नी जनरल सोली सोराबजी ने आप सरकार की ओर से जनलोकपाल विधेयक को विधानसभा में पेश करने से पहले केन्द्र सरकार की मंजूरी लेने के उपराज्यपाल नजीब जंग के फैसले को सही ठहराते हुए कहा है कि वह सिर्फ मौजूदा नियमों का पालन कर रहे थे.

सोराबजी ने एक न्यूज चैनल से कहा, ‘वह नियम नहीं बनाते हैं. जब तक नियम मौजूद हैं. जबतक कि नियमों में अदालती प्रकिया से बदलाव नहीं हुआ हो या उन्हें रद्द ना किया गया हो, उपराज्यपाल को उनका पालन करना होता है.’ उन्होंने कहा, ‘उपराज्यपाल ने नियम नहीं बनाए. नियम मौजूद हैं और व्यक्ति को उन्हें मानना है.’

आप सरकार ने पूर्व अटॉर्नी जनरल से उनकी राय मांगी थी कि क्या उसके पास जनलोकपाल विधेयक को सदन में रखने का अधिकार है. उन्होंने कहा कि केन्द्र की मंजूरी के बगैर विधेयक को सदन में रखने की अनुमति नहीं देने के मामले में उपराज्यपाल पर दोष मढ़ना गलत है. सोली सोराबजी ने कहा है कि मैंने कोई राय दी ही नहीं. मुझे बिल नहीं भेजा गया. शीली दीक्षित ने क्या किया है मुझे नहीं मालूम.

गौरतलब है कि आम आदमी पार्टी सोली सोराबजी के उस बयान को अपने बचाव के लिए इस्तेमाल करती रही है, जिसमें उन्होंने कहा था कि गृह मंत्रालय का पत्र असंवैधानिक है. इसी के आधार पर अरविंद केजरीवाल बिना केंद्र की इजाजत के विधानसभा में बिल पेश करने को सही ठहराते रहे हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay