एडवांस्ड सर्च

कानून मंत्री सदानंद गौड़ा बोले- बंगलुरु में रह रहे विदेशी छात्र अवैध कामों में लिप्त, रखी जाए नजर

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'हम मीडिया में यह देख रहे हैं कि जो विदेशी छात्र यहां पढ़ने आते हैं, वह अवैध गतिविधि‍यों में लिप्त थे. यह असहनीय है. राज्य सरकार खुद भी यह कह चुकी है कि एक हजार से अधि‍क छात्र ऐसे हैं, जिनके वीजा की अवधि‍ खत्म हो चुकी है लेकिन वो बंगलुरु में ही हैं.'

Advertisement
aajtak.in
स्‍वपनल सोनल नई दिल्ली, 06 February 2016
कानून मंत्री सदानंद गौड़ा बोले- बंगलुरु में रह रहे विदेशी छात्र अवैध कामों में लिप्त, रखी जाए नजर केंद्रीय कानून मंत्री सदानंद गौड़ा

अफ्रीकी छात्रा के साथ बदसलूकी और पिटाई पर मचे बवाल के बीच केंद्रीय कानून मंत्री सदानंद गौड़ा ने विदेशी छात्रों के मामले पर बड़ा बयान दिया है. शुक्रवार को उन्होंने कहा कि बंगलुरु के कॉलेजों में पढ़ रहे विदेशी छात्र अवैध गतिविधि‍यों में शामिल थे. यही नहीं, उन्होंने कर्नाटक सरकार से विदेशी छात्रों पर नजर रखने के लिए एक विशेष दस्ते का गठन करने को कहा है.

केंद्रीय मंत्री ने कहा, 'हम मीडिया में यह देख रहे हैं कि जो विदेशी छात्र यहां पढ़ने आते हैं, वह अवैध गतिविधि‍यों में लिप्त थे. यह असहनीय है. राज्य सरकार खुद भी यह कह चुकी है कि एक हजार से अधि‍क छात्र ऐसे हैं, जिनके वीजा की अवधि‍ खत्म हो चुकी है लेकिन वो बंगलुरु में ही हैं. वो यहां क्या कर रहे हैं?'

कानून मंत्री सदानंद गौड़ा ने शुक्रवार को उस महिला के परिवार से मुलाकात की, जिसकी रविवार रात विदेशी छात्रों के कार के नीचे आ जाने से मौत हो गई थी. बता दें कि इस दुर्घटना के बाद वहां मौजूद लोगों की भीड़ उग्र हो गई और लोगों ने विदेशी छात्रों की पिटाई कर दी. यही नहीं, उग्र भीड़ ने वहां से गुजर रही तंजानिया की एक छात्रा की भी पिटाई की और उसके कपड़े फाड़ दिए.

कांग्रेस सरकार को जमकर कोसा
उत्तरी बंगलुरु से सांसद गौड़ा ने कुछ विदेशी छात्रों के खराब व्‍यवहार को लेकर स्‍थानीय लोगों की शिकायतों पर ध्‍यान नहीं देने के लिए राज्य सरकार को जमकर कोसा. कांग्रेस शासित राज्‍य सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा, 'अगर राज्‍य सरकार कानून व्‍यवस्‍था पर नियंत्रण नहीं रख सकती, तो इससे आने वाले दिनों में बहुत बड़ी समस्‍या खड़ी हो सकती है. मैं राज्‍य सरकार से आग्रह करता हूं कि वह विदेशी छात्रों पर नजर रखने के लिए स्‍पेशल स्‍क्‍वॉड का गठन करे.'

'मृतक के परिवार को मुआवजा दे राज्य सरकार'
उन्‍होंने रविवार की घटना के मामले में केंद्र सरकार के हस्‍तक्षेप की भी मांग की है ताकि सच्‍चाई का पता लगाया जा सके. गौड़ा ने कहा है कि इस मामले में निर्दोष लोगों को गिरफ्तार नहीं किया जाना चाहिए. ठीक ऐसा ही आरोप स्‍थानीय लोग भी लगा चुके हैं.

कार हादसे में महिला की मौत के लिए गौड़ा ने राज्‍य सरकार को जिम्‍मेदार ठहराया और कहा कि मृतक के परिवार को 25 लाख रुपये का मुआवजा दिया जाए, क्‍योंकि दो छोटे बच्‍चों ने अपनी मां को खो दिया है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay