एडवांस्ड सर्च

4 राज्यों में भारी बारिश, गुजरात में 33 की मौत, मानसून के प्रकोप ने अब तक ली 100 से ज्यादा जानें

बारिश से गुजरात, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. गुजरात में ताजा बाढ़ से बनासकांठा, साबरकांठा, सुरेंद्रनगर, कच्छ और पाटन में 33 लोगों की मौत हो गई है.

Advertisement
aajtak.in [Edited By: कुलदीप मिश्र]अहमदाबाद, 31 July 2015
4 राज्यों में भारी बारिश, गुजरात में 33 की मौत, मानसून के प्रकोप ने अब तक ली 100 से ज्यादा जानें Gujarat Flood

बारिश से गुजरात, राजस्थान, पश्चिम बंगाल और ओडिशा में जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. गुजरात में ताजा बाढ़ से बनासकांठा, साबरकांठा, सुरेंद्रनगर, कच्छ और पाटन में 33 लोगों की मौत हो गई है. इस साल मानसून के भयावह रूप से मरने वालों की संख्या बढ़कर 100 से ज्यादा हो गई है. इनमें जून में अमरेली में हुई 26 मौतें भी शामिल हैं.

बांग्लादेश में तबाही मचाने के बाद चक्रवाती तूफान 'कोमेन' पश्चिम बंगाल की ओर बढ़ गया है. इसके चलते बंगाल और ओडिशा में गुरुवार से मूसलाधार बारिश हो रही है.

लगातार छह दिनों से हो रही बारिश से राजस्थान का बाड़मेर शहर बेहाल है. कई घर पानी में डूब गए हैं और दो बच्चियों की मौत हो गई है. माउंट आबू में भी भारी बारिश ने सैलानियों की मुसीबत बढ़ा दी है. जरूरी सामानों की सप्लाई ठप होने से टूरिस्ट भी परेशान हैं. खेड़ा जिले के 5 गांव पूरी तरह पानी में डूब गए हैं. 40 मजदूरों को बचाने के लिए राहत टीम ने 4 घंटे तक रेस्क्यू ऑपरेशन चलाया.

राजस्थान में बाढ़ प्रभावित इलाकों में राहत के लिए NDRF की टीम लगाई गई है और जोधपुर से लगातार मदद भेजी जा रही है. राजस्थान और गुजरात के बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में राहत के काम में वायुसेना की मदद ली जा रही है और खाने के पैकेट हेलिकॉप्टर से पहुंचाए जा रहे हैं.

गुजरात में बाढ़ से 70 की मौत
मूसलाधार बारिश के कारण गुजरात के कई जिलों में बाढ़ से हालात खराब हैं. अकेले अमरेली जिले में 26 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि बनासकांठा में बारिश रुकने के बावजूद सैलाब से राहत नहीं मिल रही है. यहां पानी की तेज धार में 21 साल का एक युवक बह गया. बनासकांठा में मूसलाधार बारिश से करीब 600 गांव प्रभावित हैं. भोजन और पानी की किल्लत से ग्रामीण बेहाल हैं. रोड और मोबाइल संपर्क भी टूट चुका है. गुजरात में धरोई डैम से ढाई लाख क्यूसेक पानी छोड़े जाने से साबरमती नदी में सैलाब और अहमदाबाद में डेढ़ हजार से ज्यादा लोग सुरक्षित जगहों पर ले जाए गए हैं.

ब्रिटेन दौरा अधूरा छोड़कर लौटीं ममता बनर्जी
पश्चिम बंगाल के कई इलाकों में भारी बारिश से बाढ़ जैसे हालात बन चुके हैं. राज्य के तीन जिलों में कल से चल रहे तेज तूफान के चलते सैकड़ों मकान ढह गए, बड़ी संख्या में लोग बेघर हो गए तथा कम से कम 12 लोग घायल हुए हैं. हालात इतने खराब हो गए हैं कि मुख्यमंत्री ममता बनर्जी को अपना ब्रिटेन दौरा अधूरा छोड़कर वापस लौटना पड़ा.

मुर्शिदाबाद. बीरभूम, बर्धवान और पश्चिमी मिदनापुर में पानी ने लोगों को परेशान कर रखा है. मूसलाधार बारिश से पश्चिम बंगाल के कई जिलों में हजारों हेक्टेयर फसल डूब चुकी है. पश्चिमी मिदनापुर में सैलाब के पानी से घाटक-चंद्रकोना स्टेट हाइवे टूट गया है. मौसम विभाग के मुताबिक कोमेन के कमजोर पड़ने के बावजूद कुछ जगहों पर भारी बारिश का अनुमान है.

राजस्थान पर भी बारिश की मार
राजस्थान के जैसलमेर में बारिश से सैलाब जैसे हालात हैं. लाठी के पास सगरा मिनी बांध टूटने से कुछ गांवों में पानी घुस चुका है. चांधन के पास गोगड़ी नदी के पानी से नेशनल हाईवे नंबर 15 बाधित है, जबकि जोधपुर-जैसलमेर के बीच सड़क मार्ग बंद है. राजस्थान के बाड़मेर जिले में लगातार छह दिनों की बारिश से लूणी नदी उफान पर है. सैकड़ों गांवों को जोड़ने वाली सड़क जलमग्न है.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay