एडवांस्ड सर्च

इंदिरा को खुश करने के लिए जगन्नाथ मिश्रा लाए थे प्रेस पाबंदी बिल, ऐसे लेना पड़ा वापस

सीएम रहते हुए जगन्नाथ मिश्रा ने यह बिल 1982 में पेश किया था. बिहार प्रेस विधेयक के नाम से पेश इस बिल को भारी विरोध के बाद वापस ले लिया गया था. राज्य सरकार के खिलाफ संवेदनशील लेखों को छपने से रोकने को लेकर यह बिल पेश किया गया था.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 19 August 2019
इंदिरा को खुश करने के लिए जगन्नाथ मिश्रा लाए थे प्रेस पाबंदी बिल, ऐसे लेना पड़ा वापस जगन्नाथ मिश्रा (फोटो-IANS)

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री जगन्नाथ मिश्रा (82) का सोमवार सुबह निधन हो गया. वह अपने दौर के कद्दावर नेताओं में से एक थे. उनकी लोकप्रियता बिहार के साथ देशभर में थी. उनका विवादों से भी नाता रहा. जगन्नाथ मिश्रा का नाम बहुचर्चित चारा घोटाले में आया था. इसके अलावा प्रेस पर पाबंदी का बिल भी बिहार में उन्होंने ही लाया था. हालांकि बाद में उन्हें इस फैसले पर काफी पश्चाताप हुआ था.

मुख्यमंत्री रहते हुए जगन्नाथ मिश्रा ने यह बिल 1982 में पेश किया था. बिहार प्रेस विधेयक के नाम से पेश इस बिल को भारी विरोध के बाद वापस ले लिया गया था. राज्य सरकार के खिलाफ संवेदनशील लेखों को छपने से रोकने को लेकर यह बिल पेश गया किया था. इसमें जुर्माने के साथ-साथ 5 साल तक सजा का प्रावधान था. इस विधेयक के बाद पुलिस ऐसी कोई भी शिकायत मिलने पर पत्रकारों को गिरफ्तार कर सकती थी.

बाद में जगन्नाथ मिश्रा ने कहा था कि इस बिल को लेकर उन्हें पश्चाताप है. बताया जाता है कि पूर्व मुख्यमंत्री ने इंदिरा गांधी को खुश करने के लिए ये बिल लाया था. वह एक बार दिल्ली दौरे पर आए थे. इस दौरान उन्होंने इंदिरा गांधी को परेशान देखा. उस वक्त इंदिरा की मेनका गांधी के साथ मतभेदों की चर्चाएं जोरों पर थीं. मिश्रा ने इस बिल को लेकर इंदिरा से बातचीत की थी. फिर इस संबंध में सूचना एवं प्रसारण मंत्री वसंत साठे ने उन्हें विस्तार से जानकारी दी थी.

31 जुलाई 1982 को बिहार प्रेस बिल लाया गया.  हालांकि इस बिल को लाने का दूसरा कारण यह था कि उस समय अखबारों में भ्रष्टाचार को लेकर उनके खिलाफ काफी लिखा जा रहा था. जिसे लेकर वह काफी परेशान थे. लगातार विरोध के बाद इस बिल को वापस ले लिया गया था.

बता दें कि 1975 में वह पहली बार बिहार के मुख्यमंत्री बने थे. दूसरी बार 1980 और आखिरी बार 1989 से 1990 तक बिहार के मुख्यमंत्री रहे. उन्हें 90 के दशक के दौरान केंद्रीय कैबिनेट में भी जगह मिली थी. जगन्नाथ मिश्रा ने एक प्राध्यापक के रूप में अपना करियर शुरू किया था और बाद में बिहार विश्वविद्यालय में अर्थशास्त्र के प्रोफेसर बने थे. उनकी राजनीति में काफी रूचि थी. उनके बड़े भाई ललित नारायण मिश्रा रेल मंत्री थे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay