एडवांस्ड सर्च

नृपेंद्र मिश्रा अगले पांच साल तक रहेंगे पीएम नरेंद्र मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी

केंद्रीय कैबिनेट की अप्वाइंटमेंट कमेटी ने एक बार फिर नृपेंद्र मिश्रा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को प्रिंसिपल सेक्रेटरी नियुक्त किया है.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 11 June 2019
नृपेंद्र मिश्रा अगले पांच साल तक रहेंगे पीएम नरेंद्र मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी नृपेंद्र मिश्रा [फाइल फोटो]

केंद्रीय मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने एक बार फिर नृपेंद्र मिश्रा को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के तौर पर नियुक्त किया है. इसके साथ ही प्रधानमंत्री के एडिशनल प्रिंसिपल सेक्रेटरी के रूप में डॉ. पीके मिश्रा को नियुक्त किया गया है. दोनों को ही सेवा विस्तार दिया गया है.

मंत्रिमंडल की नियुक्ति समिति ने प्रधानमंत्री के प्रिंसिपल सेक्रेटरी के रूप में रिटायर्ड आईएएस नृपेंद्र मिश्रा को एक बार फिर से चुना है. वहीं रिटायर्ड आईएएस डॉ. प्रमोद कुमार मिश्रा को पीएम के एडिशनल प्रिंसिपल सेक्रेटरी के रूप में फिर से नियुक्त किया गया है. दोनों की नियुक्ति 31 मई 2019 से प्रभावी होगी. वहीं दोनों को कैबिनेट मंत्री का दर्जा भी दिया गया है.

कौन है नृपेंद्र मिश्रा

मिश्रा 2006 से 2009 के बीच ट्राई (भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण) के अध्यक्ष रह चुके हैं और 2009 में ही रिटायर हुए. ट्राई के पूर्व अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्रा 1967 बैच के रिटायर्ड आईएएस अधिकारी हैं और उत्तर प्रदेश कैडर के हैं. मिश्रा उत्तर प्रदेश से हैं और राजनीति शास्त्र एवं लोक प्रशासन में स्नातकोत्तर हैं. मिश्रा की अध्यक्षता में ट्राई ने अगस्त 2007 में सिफारिश की थी कि स्पेक्ट्रम की नीलामी की जानी चाहिए. मिश्रा 2जी स्पेक्ट्रम आवंटन में कथित अनियमितताओं के मामले की सुनवाई में दिल्ली की एक अदालत में अभियोजन पक्ष के गवाह के रूप में पेश हो चुके हैं.

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल में नियुक्ति पर बवाल

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल के दौरान नृपेंद्र मिश्रा को प्रधानमंत्री के प्रमुख सचिव के तौर पर नियुक्त किए जाने पर काफी हंगामे का सामना करना पड़ा था. तब विपक्ष ने हंगामा किया था कि ट्राई कानून के मुताबिक इसका अध्यक्ष रिटायर होने के बाद केंद्र या राज्य सरकारों से जुड़े किसी पद पर नहीं बैठ सकता है. हालांकि अपने पहले कार्यकाल में मोदी सरकार ने इस कानून को अध्यादेश के जरिए संशोधित किया और मिश्रा को नियुक्ति दी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay