एडवांस्ड सर्च

मतभेदों के बावजूद भारत-अमेरिका में पहले से बढ़ा द्विपक्षीय व्यापार

2019 में दोनों देशों ने 92.08 अरब डॉलर का कारोबार किया जो 2018 की तुलना में 5 फीसदी ज्यादा था. बता दें, भारत ने 239 अरब डॉलर के अधिशेष (सरप्लस) के साथ 2019 में अमेरिका के 9वें सबसे महत्वपूर्ण व्यापारिक भागीदार का अपना रुतबा बनाए रखा.

Advertisement
aajtak.in
दीपू राय नई दिल्ली, 24 February 2020
मतभेदों के बावजूद भारत-अमेरिका में पहले से बढ़ा द्विपक्षीय व्यापार ट्रंप के भारत दौरे पर हो सकते हैं कुछ व्यापारिक समझौते (ANI)

  • दोनों देश के व्यापार में कच्चे तेल की भूमिका अहम
  • पिछले साल 87 फीसदी ज्यादा तेल का हुआ आयात

अमेरिका राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के भारत दौरे के दौरान ना-नुकुर के बावजूद कुछ व्यापार समझौते होने के आसार हैं. राष्ट्रपति ट्रंप सोमवार से भारत का दो दिन का दौरा शुरू कर रहे हैं. आंकड़े बताते हैं कि भारत और अमेरिका में मतभेद भले हों, लेकिन दोनों देशों ने द्विपक्षीय व्यापार के क्षेत्र में अच्छी खासी तरक्की की है.

साल 2019 में दुनिया के देशों के साथ अमेरिका का व्यापार एक फीसदी से भी कम रहा लेकिन भारत के साथ ऐसी स्थिति नहीं दिखती. 2019 में दोनों देशों ने 92.08 अरब डॉलर का कारोबार किया जो 2018 की तुलना में 5 फीसदी ज्यादा था. बता दें, भारत ने 239 अरब डॉलर के अधिशेष (सरप्लस) के साथ 2019 में अमेरिका के 9वें सबसे महत्वपूर्ण व्यापारिक भागीदार का अपना रुतबा बनाए रखा. दोनों देशों के इस व्यापार में कच्चे तेल की भूमिका सबसे अहम रही. भारत ने अमेरिका से 5.64 अबर डॉलर के कच्चे तेल का आयात किया. इसी के साथ अमेरिका ने भारत के लिए चार प्रमुख तेल सप्लायर देशों में अपनी स्थिति मजबूत कर ली.

diu1_022420111830.png

ईरान पर अमेरिकी प्रतिबंध लगने के बाद भारत ने जून, 2019 से खाड़ी देश से कच्चे तेल का आयात बंद कर दिया है. वहीं, अमेरिकी क्रूड सप्लाई में एक साल में 96 फीसदी का उछाल आया है. आंकड़े बताते हैं कि भारत ने 2019 में 87 प्रतिशत अधिक तेल का आयात किया. यह आंकड़ा 5.64 बिलियन डॉलर का बनता है. यूएस सेंसस ब्यूरो डेटा के मुताबिक, 2019 में भारत ने अमेरिका से 34.41 अरब डॉलर से ज्याादा के सामान आयात किए, जिनमें 57.67 अरब डॉलर के हीरे, दवाइयां और जूलरी शामिल हैं.

ये भी पढ़ें: ट्रंप के दौरे से 6 न्यूक्लियर रिएक्टर्स पर आगे बढ़ सकता है काम

diu2_022420111850.png

हालांकि दोनों देशों में व्यापार बढ़ने के साथ मतभेद भी काफी बढ़े हैं. जनरलाइज्ड सिस्टम ऑफ प्रीफरेंसेस (जीएसपी) ऐसा मुद्दा है जो राष्ट्रपति ट्रंप के भारत दौरे में अहम साबित हो सकता है. जीएसपी दो देशों के बीच व्यापार भागीदारी को बढ़ाने के लिए टैरिफ-मुक्त व्यापार (टैरिफ फ्री ट्रेड) प्रणाली है. पिछले साल 5 जून को अमेरिका ने भारत को इस लिस्ट से बाहर कर दिया. उसका आरोप है कि भारत उसके प्रोडक्ट को सही ढंग से बाजार नहीं दे पा रहा है, जबकि 2018 में भारत को जीएसपी से खूब लाभ मिला था.

diu3_022420111905.png

अमेरिका कई वर्षों से टैरिफ मसले पर भारत की आलोचना करता रहा है. अमेरिकी सांसदों का आरोप है कि भारत ने टैरिफ की दर काफी ऊंची कर रखी है, खास कर कृषि उत्पादों पर. अभी हाल के एक रिसर्च में भी कहा गया था कि 'व्यापार प्रणालियों को लेकर ट्रंप प्रशासन ने भारत की आलोचना की है.'

oil_022420010631.jfif

राष्ट्रपति ट्रंप भारत आने से पहले ऐलान भी कर चुके हैं कि भारत के साथ शायद ही कोई बड़ा समझौता हो, लेकिन विश्लेषकों का मानना है कि दोनों देशों में कुछ व्यापार समझौते हो सकते हैं. अमेरिका दोबारा भारत को जीएसपी की लिस्ट में शामिल कर सकता है, लेकिन यह तभी संभव है जब भारत उसके लिए अपने बाजार सही ढंग से खोले.

ये भी पढ़ें: भारत 24वां देश जिसके दौरे पर आ रहे ट्रंप, इन देशों की कर चुके हैं यात्रा

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay