एडवांस्ड सर्च

मौत के देवता 'यमराज' सड़कों पर जीवन बचाने के लिए चला रहे अभियान

Delhi Traffic rules दिल्ली ट्रैफिक पुलिस बिना हेलमेट पहने लोगों को यमराज से मिलवाकर उन्हें समझा रही है कि बिना हेलमेट पहने चलना कितना बड़ा जोखिम है. दिल्ली पुलिस चालान के साथ-साथ उन्हें ऑन स्पॉट हेलमेट भी पहना रही है.

Advertisement
aajtak.in
रामकिंकर सिंह/ तनसीम हैदर नई दिल्ली/गुरुग्राम, 17 January 2019
मौत के देवता 'यमराज' सड़कों पर जीवन बचाने के लिए चला रहे अभियान ट्रैफिक नियमों को लेकर जागरूकता अभियान (Courtecy- Ramkinkar Singh)

राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में लोगों को ट्रैफिक नियम का पाठ पढ़ाने के लिए ट्रैफिक पुलिस ने नायाब तरीका निकाला है. बिना हेलमेट और सीट बेल्ट लगाकर वाहन चलाने वाले लोगों को समझाने के लिए यमराज की मदद ली जा रही है. दिल्ली के रोहिणी इलाके में ट्रैफिक पुलिस यमराज को अपने साथ लेकर घूम रही है. ट्रैफिक पुलिस बिना हेलमेट पहने लोगों को यमराज से मिलवाकर उन्हें समझा रही है कि बिना हेलमेट चलना कितना बड़ा जोखिम है. दिल्ली पुलिस चालान के साथ-साथ उन्हें ऑन स्पॉट हेलमेट भी पहना रही है.

ट्रैफिक नियमों के उल्लंघन और सड़क हादसों को रोकने के लिए अब दिल्ली पुलिस भी यमराज की शरण में है. देश के अन्य राज्यों की तरह दिल्ली में भी पुलिस और यमराज ऐसे लोगों की धरपकड़ करते नजर आ रहे हैं, जो ट्रैफिक के नियमों का उल्ल्घन कर रहे थे. दिल्ली ट्रैफिक पुलिस भी लापरवाह लोगों को यमराज से मिलवाकर चेतावनी दिलवा रही है कि अगर वे दुपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट नहीं पहनते हैं, तो मौत के दूत यमराज कभी भी उनसे मिलने पहुंच सकते हैं.

दिल्ली के रोहिणी में ट्रैफिक पुलिस साथ में यमराज के किरदार को साथ लेकर लोगों को समझा रही है और डरा रही है कि वे बिना हेलमेट पहने दुपहिया वाहन न चलाएं. पुलिस ऐसे लोगों के चालान तो काट ही रही है. साथ ही उन्हें फ्री हेलमेट भी दे रही है. ट्रैफिक एसआई जयप्रकाश यादव ने बताया कि हेड इंजरी बहुत खतरनाक होती है, इसलिए लोगों को दुपहिया वाहन चलाते समय हेलमेट जरूर पहनना चाहिए.

उन्होंने बताया कि देश में हजारों लोगों की मौत दुर्घटनाओं में महज इसलिए हो जाती है, क्योंकि वो हेलमेट नहीं पहने होते हैं. लिहाज़ा, दिल्ली पुलिस ने ऐसे लोगों को मौत का भय दिखाने के लिए मौत के दूत यमराज को अपने साथ लिया है. यमराज का किरदार निभाने वाले हृदय नारायण ने कहा कि उनको इस काम से खुशी हो रही है. वो अपने इस किरदार के जरिए लोगों को यातायात नियमों का पालन करना सिखा रहे हैं. इससे सड़क हादसे में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या में कमी आएगी, क्योंकि आम तौर पर ज्यादातर सड़क हादसों में सिर में चोट लगने से मौतें होती हैं.

वहीं, पुलिस का यह प्रयोग दिल्ली में खास आकर्षण का केंद्र बन रहा है. हालांकि यह तो वक्त ही बताएगा कि दिल्ली पुलिस की यह पहल कहां तक रंग लाती है और ट्रैफिक उल्लंघनों व सड़क हादसों में किस हद तक कमी आती है? दिल्ली पुलिस द्वारा जारी आंकडों के मुताबिक साल 2018 में राष्ट्रीय राजधानी में ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन करने पर 11 लाख 63 हजार 438 चालान काटे गए. इसके जरिए दिल्ली ट्रैफिक पुलिस ने 105.99 करोड़ रुपये की वसूली की. इससे पहले साल 2017 में 10 लाख 37 हजार 325 चालान काटे गए थे. बताया जा रहा है कि साल 2017 के मुकाबले साल 2018 सड़के हादसे में जान गंवाने वाले लोगों की संख्या में तेजी से इजाफा हुआ है.

ट्विटर के जरिए ट्रैफिक व्यवस्था संभालेगी गुरुग्राम पुलिस

गुरुग्राम की स्मार्ट पुलिस व्हाट्सऐप और फेसबुक के बाद अब ट्विटर के सहारे ट्रैफिक व्यवस्था को संभालेंगी. इसके लिए गुरुग्राम पुलिस ने @TrafficGGM नाम से ट्विटर अकाउंट बनाया है, जिस पर लोग अपने सुझाव और ट्रैफिक संबंधी जानकारी शेयर कर सकते है. इस एकाउंट पर जो भी सूचना आएंगी, उस पर तुंरत कार्रवाई की जाएगी. इसके लिए गुरुग्राम पुलिस ने एक टीम भी बनाई है, जो इस पर काम करेगी. वहीं इसकी पूरी जानकारी पुलिस के आलाअधिकारियों को भी रहेगी, जिससे एक्शन होने की भी पूरी संभावना है. इसके अलावा कोई भी व्यक्ति इस ट्विटर पर ऐसे वाहन की फोटो भी भेज सकता है, जो ट्रैफिक नियमों का उल्लंघन कर रहा है. इसकके बाद उसका चालान काटकर पोस्टल चालान के माध्यम से भेजा जायेगा.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay