एडवांस्ड सर्च

ब्रह्मोस मिसाइल कोस्टल बैटरी के अधिग्रहण को रक्षा मंत्रालय की मंजूरी

ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल कोस्टल बैटरी के अधिग्रहण के अलावा सशस्त्र बलों के लिए मेड इन इंडिया सॉफ्टवेयर पर चलने वाले रेडियो के अधिग्रहण को मंजूरी दी गई.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 08 August 2019
ब्रह्मोस मिसाइल कोस्टल बैटरी के अधिग्रहण को रक्षा मंत्रालय की मंजूरी रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (IANS)

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने गुरुवार को भारतीय नौसेना के लिए दो ब्रह्मोस सुपरसोनिक क्रूज मिसाइल कोस्टल बैटरी के अधिग्रहण को मंजूरी दे दी. रक्षा मंत्री ने सशस्त्र बलों के लिए मेड इन इंडिया सॉफ्टवेयर पर आधारित रेडियो के अधिग्रहण को भी मंजूरी दी.

ब्रह्मोस मिसाइल जमीन पर मौजूद टारगेट को ध्वस्त कर सकने में सक्षम है. बालाकोट में वायुसेना ने ऐसा ही एयर स्ट्राइक किया था. इस मिसाइल का इस्तेमाल शुरू होने के बाद विमानों को दुश्मन की सीमा में जाने की जरूरत भी नहीं होगी. इसका सफल परीक्षण भी किया जा चुका है.

सेना के सूत्रों के मुताबिक, बीते दिनों रक्षामंत्री राजनाथ सिंह ने सैन्य अधिकारियों के साथ समीक्षा बैठक की थी. इस बैठक में सेना की तकनीक अपग्रेड करने के लिए तेजी से कदम उठाने के लिए कहा गया था. इसके बाद तेजी से रक्षा सौदे किए जा रहे हैं. भविष्य में कई और रक्षा सौदे किए जा सकते हैं.

सरकार ने अपने 50 दिन के कार्यकाल में 8500 करोड़ रुपए के रक्षा अधिग्रहण को मंजूरी दे दी है. इसके अंतर्गत इजराइल से स्पाइस 2000 स्टैंड ऑफ बम और स्पाइक एंटी टैंक गाइडेड मिसाइल खरीदे जाने हैं. साथ ही रूस से स्ट्रम अटाका एयर लॉन्च्ड एटीजीएम और अन्य कई स्पेयर पार्ट्स की खरीद की जाएगी.

सूत्रों ने न्यूज एजेंसी एएनआई को बताया कि 14 चॉपर के अधिग्रहण के लिए टेंडर की योजना बन चुकी है जो यूरोप, अमेरिका और रूस की कंपनियों को दिया जाएगा. इन देशों की कंपनियां भारत को चॉपर सप्लाई करेंगी. इससे जुड़ा एक फैसला पहले भी हुआ था लेकिन रक्षा मंत्रालय ने इसे खारिज कर दिया क्योंकि इसमें कुछ खामियां मिली थीं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay