एडवांस्ड सर्च

देश में सांप्रदायिक तनाव फैलाना चाहता था दाऊद, तैयार की थी बीजेपी-RSS नेताओं की हिटलिस्ट

एनआईए शनिवार को डी-कंपनी के 10 सदस्यों के खिलाफ चार्जशीट फाइल करेगी. इन सदस्यों को मोदी सरकार बनने के तुरंत बाद भारत में तनाव फैलाने, चर्चों और RSS नेताओं को निशाना बनाने का काम दिया गया था.

Advertisement
aajtak.in
स्‍वपनल सोनल नई दिल्ली, 06 May 2016
देश में सांप्रदायिक तनाव फैलाना चाहता था दाऊद, तैयार की थी बीजेपी-RSS नेताओं की हिटलिस्ट अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम

मुंबई को बम धमाकों से दहलाने वाला अंडरवर्ल्ड सरगना दाऊद इब्राहिम भारत में सांप्रदायिक तनाव फैलाने की साजिश रच रहा था. राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) का दावा है कि पाकिस्तान में छिपे बैठे इस अपराधी के निशाने पर न सिर्फ धार्मिक और आरएसएस के नेता थे, बल्कि‍ वह चर्चों पर हमला करने की भी योजना बना चुका था.

जांच एजेंसी आगामी शनिवार को डी-कंपनी के 10 सदस्यों के खिलाफ चार्जशीट फाइल करेगी. अंग्रेजी अखबार 'टाइम्स ऑफ इंडिया' ने सूत्रों के हवाले से खबर दी है कि डी-कंपनी के इन सदस्यों को मोदी सरकार बनने के तुरंत बाद भारत में तनाव फैलाने, चर्चों और RSS नेताओं को निशाना बनाने का काम दिया गया था. एक बड़ी साजिश के तहत दाऊद के शार्पशूटरों ने 2 नवंबर 2015 को गुजरात में दो दक्षिणपंथी नेताओं शिरीष बंगाली और प्रग्नेश मिस्त्री की हत्या कर दी थी.

याकूब की फांसी का बदला
इस वारदात के बाद पकड़े गए शूटर्स ने दावा किया था कि उन्होंने 1993 के मुंबई के सीरियल धमाकों के आरोपी याकूब मेमन की फांसी का बदला लेने के लिए इन हत्याओं को अंजाम दिया. हालांकि, जांच के दौरान NIA को पता चला कि डी-कंपनी के पाकिस्तान स्थित सदस्य जावेद चिकना और साउथ अफ्रीका मूल के जाहिद मियां उर्फ 'जाओ' हिंदू नेताओं की हत्याओं के मास्टरमाइंड थे. उनकी दूसरे धार्मिक नेताओं और चर्चों पर हमला करने की योजना थी ताकि देश में तनाव फैल सके. उन्होंने बीजेपी और आरएसएस के नेताओं की एक हिटलिस्ट भी तैयार की थी.

मिस्त्री और बंगाली हत्या के लिए मिले 50 लाख रुपये
एनआईए ने हाल ही पाकिस्तान में मौजूद चिकना को पकड़ने और भारत लाने के लिए इंटरपोल से मदद मांगी थी. इसके अलावा भारत ने पाकिस्तान, नेपाल, दक्षि‍ण अफ्रीका, सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात और अमेरिका को जुडिशल रिक्वेस्ट भी भेजी थीं. अखबार ने सूत्रों के हवाले से लिखा है कि एनआईए अपनी चार्जशीट में डी-कंपनी के 10 सदस्यों के नाम शामिल करेगी. इसमें से सात सदस्य, हाजी पटेल, मोहम्मद यूनुस शेख, अब्दुल सामद, आबिद पटेल, मोहम्मद अल्ताफ, मोहसिन खान और निसान अहमद पिछले साल पकड़े गए हैं. बताया जाता है कि आबिद पटेल और चिकना भाई हैं और पटेल को मिस्त्री और बंगाली को मारने के लिए 50 लाख रुपये मिले थे.

दाऊद के खिलाफ अलग से चार्जशीट
जांच एजेंसी अपनी चार्जशीट में दाऊद को शामिल नहीं करेगी. उसके खिलाफ सबूत पाए जाने पर उसके नाम की एक सप्लिमेंटरी चार्जशीट दाखिल की जाएगी. बता दें कि जाओ और चिकना के ताजा तस्वीरों के साथ पहले ही रेड कॉर्नर नोटिस जारी हो चुका है. चिकना का नाम 48 मोस्ट वॉन्टेड आतंकियों में शामिल है. इस लिस्ट में हाफिज सईद और दाऊद के नाम भी हैं.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay