एडवांस्ड सर्च

चक्रवात बुलबुल बांग्लादेश की ओर चला, कमजोर नहीं हुआ तो भयानक तबाही!

चक्रवाती तूफान बुलबुल (BulBul) के देश के पूर्वी तटों से टकराने के बाद अब बांग्लादेश में तबाही मचा रहा है. मूसलाधार बारिश हो रही है. चक्रवात ऐसे समय में आया है जब पूर्णिमा आने वाली है. पूर्णिमा में समुद्र का जलस्तर बढ़ जाता है. ऐसे में अगर चक्रवात बुलबुल कमजोर नहीं हुआ तो अगले 24 घंटे में भयानक तबाही होगी.

Advertisement
aajtak.in
aajtak.in नई दिल्ली, 11 November 2019
चक्रवात बुलबुल बांग्लादेश की ओर चला, कमजोर नहीं हुआ तो भयानक तबाही! भारतीय मौसम विभाग के अनुसार बुलबुल तूफान बांग्लादेश की ओर बढ़ चला है. (फोटोः मौसम विभाग)

  • पूर्णिमा की वजह से अगले 24 घंटे हो सकते हैं भयावह!
  • भारत के उत्तर-पूर्वी राज्यों में भी बारिश की संभावना

चक्रवाती तूफान बुलबुल (BulBul) के देश के पूर्वी तटों से टकराने के बाद अब बांग्लादेश में तबाही मचा रहा है. हवाएं 120 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चल रही है. मूसलाधार बारिश हो रही है. बांग्लादेश की मीडिया के अनुसार इससे अब तक वहां पर 22 लोगों की मौत हुई है लेकिन बांग्लादेश के आपदा प्रबंधन मंत्रालय के अनुसार सिर्फ 8 लोग मारे गए हैं.

बंगाल में चक्रवात 'बुलबुल' का कहर, पीएम मोदी ने ममता बनर्जी से की बात

बांग्लादेश के आपदा प्रबंधन मंत्रालय के अनुसार तटीय और निचले इलाकों में रहने वाले 21 लाख लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचा दिया गया था. लेकिन ज्यादातर लोगों की मौतें तटीय इलाकों में घर और पेड़ों से गिरने के कारण हुई है. चक्रवात के कारण सैकड़ों घरों को भी नुकसान पहुंचा है. बंगाल की खाड़ी में न तो बांग्लादेश की नौकाएं जा रही हैं, न ही पश्चिम बंगाल की. इसके साथ ही ट्रॉलरों पर भी रोक लगा दी गई है.

अभी कहां पहुंचा है तूफान बुलबुल? क्या तूफान कमजोर पड़ रहा है?

चक्रवाती तूफान बुलबुल अभी बांग्लादेश के खेपूपाड़ा से 125 किलोमीटर दूर है. जबकि, पश्चिम बंगाल के सुंदरबन नेशनल पार्क से 255 किलोमीटर दूर पहुंच गया है. कोलकाता से 295 और अगरतला से 130 किलोमीटर दूर है. लेकिन, अब बुलबुल तूफान कमजोर पड़ रहा है. अभी इसकी वजह से हवाएं करीब 40 किलोमीटर प्रति घंटा की गति से चल रही हैं.

'बुलबुल' के कहर के बाद कोलकाता एयरपोर्ट फिर खुला, 4 जिलों में हुई भारी तबाही

भारतीय मौसम विभाग की चेतावनी

अगले 24 घंटे में चक्रवाती तूफान बुलबुल की वजह से असम के दक्षिणी हिस्से, मेघालय, त्रिपुरा और मिजोरम हल्की और मध्यम दर्जे की बारिश होने की संभावना है. चेतावनी जारी की गई है कि बंगाल की खाड़ी में हवाएं 50 से 70 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चल सकती हैं. जबकि, बांग्लादेश में हवाओं की गति 40 से 50 किलोमीटर होगी.

बांग्लादेश में समुद्री तूफान बुलबुल का कहर, 18 लाख लोगों को सुरक्षित निकाला

पूर्णिमा के चलते भयावह हो सकता है तूफान का स्वरूप

चक्रवाती तूफान बुलबुल की वजह से बांग्लादेश के दिघालिया, डाकोप और पतुआखाली में सैकड़ों मकान और कई हेक्टेयर फसल तबाह हो गई है. अब तूफान बुलबुल बांग्लादेश के दक्षिण-पश्चिम तट से गुजर रहा है. बांग्लादेश के 5000 राहत केंद्रों में 14 लाख लोगों को रखने की योजना बनाई गई थी, लेकिन रविवार आधी रात तक संख्या बढ़कर 21 लाख हो गई. चक्रवात ऐसे समय में आया है जब पूर्णिमा आने वाली है. पूर्णिमा में समुद्र का जलस्तर बढ़ जाता है. ऐसे में अगर चक्रवात बुलबुल कमजोर नहीं हुआ तो अगले 24 घंटे में भयानक तबाही होगी.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay