एडवांस्ड सर्च

प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट्री पर अब साध्वी प्राची ने दिया विवादित बयान

विश्व हिंदू परिषद की नेता साध्वी प्राची ने प्रियंका पर विवादित टिप्पणी की और उन्हें बरसाती मेंढक कहा. वीएचपी नेता साध्वी प्राची ने प्रियंका गांधी पर टिप्पणी करते हुए कहा कि प्रियंका पहले भी राजनीति में थीं. प्रियंका बरसाती मेंढक हैं. जब चुनाव आते हैं तभी राजनीति में आती हैं. अब महासचिव बनाना कांग्रेस की मजबूरी है.

Advertisement
aajtak.in
कुमार अभिषेक लखनऊ, 27 January 2019
प्रियंका गांधी की राजनीति में एंट्री पर अब साध्वी प्राची ने दिया विवादित बयान साध्वी प्राची

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा को लेकर भारतीय जनता पार्टी के नेताओं की बदजुबानी के बीच अब विश्व हिंदू परिषद (वीएचपी) की नेता साध्वी प्राची ने प्रियंका पर विवादित टिप्पणी की और उन्हें बरसाती मेंढक कहा.

वीएचपी नेता साध्वी प्राची ने प्रियंका गांधी पर टिप्पणी करते हुए कहा, 'प्रियंका पहले भी राजनीति में थीं. प्रियंका बरसाती मेंढक हैं. जब चुनाव आते हैं तभी राजनीति में आती हैं. अब महासचिव बनाना कांग्रेस की मजबूरी है. मां-बेटा दोनों जमानत पर हैं. किस दिन अंदर हों तो संभालेगा कौन, कोई न कोई तो चाहिए गांधी खानदान से.' साथ ही उन्होंने कहा कि मंदिर बने ना बने, प्रधानमंत्री मोदी दोबारा सत्ता में आने चाहिए, यह देश की सबसे बड़ी जरूरत है.

उन्होंने कहा कि प्रियंका मोदी के सामने बच्ची हैं. साध्वी ने कहा, 'देश के अंदर मोदीजी को हराने के लिए कोई गठबंधन कर रहा है, कोई महासचिव बना रहा है. कोई बंगाल में रैली कर रहा है. मोदी को हरा नहीं पाएंगे. क्योंकि शेर अकेला चलता है और भेड़ झुंड में.' साध्वी यही नहीं रुकीं, आगे उन्होंने कहा कि सब गिले-शिकवे भुलाकर प्रधानमंत्री मोदी के लिए काम करना चाहिए. उन्होंने कहा, 'हिन्दुस्तानियों ने यदि 2019 भुला दिया तो हिंदुस्तान का भविष्य खतरे में पड़ जाएगा. गिले शिकवे हो सकते हैं. मंदिर बने न बने, मोदीजी सत्ता में जरूर आने चाहिए. सब शिकवे भुलाकर मोदीजी के लिए काम करेंगे.'

साध्वी प्रची से पहले भाजपा महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने प्रियंका को कांग्रेस द्वारा चुनाव में उतारा जाने वाला चॉकलेटी चेहरा करार दिया था. उन्होंने कहा, 'अगले लोकसभा चुनाव के मैदान में उतारने के लिए कांग्रेस के पास मजबूत नेता नहीं हैं. इसलिए वह ऐसे चॉकलेटी चेहरों के माध्यम से चुनाव लड़ना चाहती है. अगर कांग्रेस में राहुल के नेतृत्व के प्रति आत्मविश्वास होता, तो प्रियंका को सक्रिय राजनीति में नहीं लाया जाता.'

गौरतलब है कि 23 जनवरी को कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा प्रियंका गांधी को पार्टी का महासचिव बनाए जाने और उन्हें लोकसभा चुनाव में पूर्वी उत्तर प्रदेश का कमान सौंपे जाने के बाद से ही भाजपा नेताओं ने प्रियंका पर तंज और विवादित टिप्पणी करना शुरू कर दिया. बिहार कैबिनेट में मंत्री विनोद नारायण झा तो इतना तक कह गए कि प्रियंका गांधी में सुंदर होने के अलावा, कोई गुण नहीं. साथ ही उन्होंने कहा था कि प्रियंका को याद रखना चाहिए कि सुंदरता से वोट मिलता.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay