एडवांस्ड सर्च

राहुल की जयपुर से रिलॉन्चिंग? MP-छत्तीसगढ़ में भी करेंगे रैलियां

राहुल गांधी के लिए राजस्थान खासकर जयपुर को शुभ माना जाता है. राहुल को पार्टी का उपाध्यक्ष बनाने का फैसला भी 2013 में जयपुर में ही लिया गया था. इसके बाद उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष बनाने को लेकर लॉबिंग भी यहीं से शुरू हुई थी और अब क्या राहुल की  रिलॉन्चिंग के लिए जयपुर को चुना गया है?

Advertisement
aajtak.in
कुबूल अहमद नई दिल्ली, 28 January 2020
राहुल की जयपुर से रिलॉन्चिंग? MP-छत्तीसगढ़ में भी करेंगे रैलियां राहुल गांधी और प्रियंका गांधी (फोटो-PTI)

  • राहुल गांधी की आज जयपुर में रैली
  • राहुल को 2013 में जयपुर में उपाध्यक्ष बनाया गया था
  • मोदी सरकार के खिलाफ राहुल का मोर्चा

ठीक सात साल पहले जनवरी 2013 में जयपुर से राहुल गांधी की सियासी लान्चिंग हुई थी, उस समय कांग्रेस कार्यसमिति की बैठक में उन्हें राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाने का फैसला लिया गया था. अब उसी जयपुर शहर से राहुल गांधी की एक बार फिर सियासी रि-लॉन्चिंग की तैयारी दिख रही है. राहुल गांधी ने मंगलवार को जयपुर से महंगाई और बेरोजगारी के मुद्दे को लेकर मोदी सरकार पर जमकर हमले किए है. जयपुर के बाद राहुल देश के अलग-अलग राज्यों में जाकर मोदी सरकार के खिलाफ मोर्चा खोलेंगे.

मोदी को निशाने पर लेते हुए राहुल बोले ने कहा कि पहले हिंदुस्तान की भाईचारे की छवि थी, लेकिन नरेंद्र मोदी ने उस छवि को नुकसान पहुंचा दिया है. इसी का नतीजा है कि निवेशक भारत में निवेश करने से डरते हैं, क्योंकि यहां पर हिंसा है. हिंदुस्तान की सरकार देश में हिंसा फैला रही है, ऐसे में निवेश क्यों करें?

राहुल बोले कि लोग अपना पैसा हिंदुस्तान में इसलिए भरोसा करते हैं, क्योंकि उन्हें युवाओं पर भरोसा है. मैं दुख से कहता हूं कि 21वीं सदी का हिंदुस्तान अपनी पूंजी को बर्बाद कर रहा है. युवाओं को आज पीएम मोदी रोक रहे हैं, युवाओं को आज बेरोजगारी का सपना दिखता है. उन्होंने कहा कि हिंदुस्तान में एक करोड़ युवाओं ने रोजगार खोया है, वहीं पीएम मोदी ने 2 करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कही थी. 

हार के बाद राहुल ने छोड़ी पार्टी की कमान

बता दें कि लोकसभा चुनाव 2019 में कांग्रेस को मिली करारी हार के बाद राहुल गांधी ने पार्टी अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया था. कांग्रेस की कमान छोड़ने के बाद राहुल दिल्ली और अपने संसदीय क्षेत्र केरल के वायनाड तक ही सीमित रहे थे. अब नए साल में नए सियासी पारी का वो आगाज कर रहे हैं और इसकी शुरुआत वो जयपुर से कर रहे हैं.

ये भी पढ़ें: बेरोजगारी-अर्थव्यवस्था पर कांग्रेस की आक्रोश रैली, राहुल गांधी की हुंकार

कांग्रेस अपनी रैली जयपुर के बड़े-बड़े मैदानों में करती रही है, लेकिन पहली बार अल्बर्ट हॉल में राहुल गांधी की रैली रखी गई है. माना जा रहा है कि राहुल गांधी की रि-लॉन्चिंग को यादगार बनाया जा सके. राहुल गांधी के लिए राजस्थान खासकर जयपुर को अच्छा माना जाता है. राहुल को पार्टी का उपाध्यक्ष बनाने का फैसला भी 2013 में जयपुर में ही लिया गया था. इसके बाद उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष बनाने को लेकर लॉबिंग भी यहीं से शुरू हुई थी.

ये भी पढ़ें: केरल, पंजाब के बाद राजस्थान विधानसभा में CAA के खिलाफ प्रस्ताव पारित

अब जयपुर की रैली के जरिए राहुल गांधी को एक बार फिर आक्रामक ढंग से मैदान में उतारे जाने की रणनीति पार्टी ने बनाई है. यहीं से राहुल गांधी एक बार फिर से कांग्रेस का नेतृत्व करने के लिए सक्रिय हो सकते हैं. जयपुर के बाद राहुल गांधी मध्य प्रदेश के भोपाल, छत्तीसगढ़ के रायपुर और महाराष्ट्र में रैलियां को संबोधित कर सकते हैं. इनमें से दो राज्यों में कांग्रेस की अपने दम पर सरकार है और महाराष्ट्र में शिवसेना और एनसीपी के साथ मिलकर कांग्रेस सरकार चला रही है. राहुल इन रैलियों में बेरोजगारी और महंगाई के मुद्दे पर मोदी सरकार को निशाने पर लेंगे.

आजतक के नए ऐप से अपने फोन पर पाएं रियल टाइम अलर्ट और सभी खबरें. डाउनलोड करें
Advertisement
Advertisement

संबंधित खबरें

Advertisement

रिलेटेड स्टोरी

No internet connection

Okay